गाेगाेई सेवानिवृत्त हाेने से पहले रफाल सहित चार अाैर प्रमुख मामलाें में सुनाएंगे फैसला

News - एजेंसी | कोलकाता/ नई दिल्ली/ ढाका तूफान बुलबुल पश्चिम बंगाल के तट से टकरा गया है। इससे कई जिलों में भारी बारिश हुई...

Nov 11, 2019, 07:21 AM IST
एजेंसी | कोलकाता/ नई दिल्ली/ ढाका

तूफान बुलबुल पश्चिम बंगाल के तट से टकरा गया है। इससे कई जिलों में भारी बारिश हुई है। तूफान से हुए हादसों में राज्य में 10 लोगों की मौत हो गई है। सबसे ज्यादा 5 मौत उत्तरी परगना जिले में हुई। पूरे राज्य में तूफान से 2.73 लाख परिवार प्रभावित हुए हैं। तट से टकराते समय तूफान की रफ्तार 135 किमी प्रति घंटा रही है। इससे समुद्र में 2 मीटर तक ऊंची लहरें उठीं। भारी बारिश के कारण पेड़, बिजली के खंभे उखड़ गए। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हालातों के मुआयने के लिए पूरी रात राज्य सचिवालय में रहीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीएम ममता से फाेन पर बात कर मदद का भरोसा दिया। बंगाल, ओडिशा में एनडीआरएफ की 16 टीम तैनात की गई हैं। उधर, बांग्लादेश में भी तूफान बुलबुल के कारण 8 लोगों की मौत हो गई। जबकि 15 लोग घायल हो गए।


एजेंसी | नई दिल्ली

सुप्रीम काेर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गाेगाेई की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ के अयाेध्या भूमि विवाद पर एेतिहासिक फैसला सुनाने के बाद 17 नवंबर काे सेवानिवृत्त हाेने से पहले चीफ जस्टिस चार अाैर महत्वपूर्ण मामलाें में फैसला सुना सकते हैं। इसमें राजनीतिक रूप से संवेदनशील रफाल डील से जुड़ा मामला भी है। इस डील की जांच कराने की मांग वाली समीक्षा याचिकाअाें पर चीफ जस्टिस की अध्यक्षता वाली पीठ ने मई में ही सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रख लिया था। चीफ जस्टिस के कार्यकाल में तीन दिन (13 से 15 नवंबर) ही कामकाज के लिए बचे हैं, क्याेंकि साेमवार, मंगलवार अाैर शनिवार काे सुप्रीम काेर्ट में छुट्टी है। उम्मीद है कि रफाल डील पर वह फैसला सुना देंगे।

तीन अन्य मामले |
प. बंगाल तट से तूफान बुलबुल टकराया; 10 की मौत, 2.73 लाख परिवारों पर असर

आगे क्या: 13 तक तूफान का असर| मौसम विभाग के मुताबिक पश्चिम बंगाल में तूफान का असर 13 नवंबर तक रहेगा। उसके बाद यह कमजोर होने लगेगा। अभी इसकी दिशा दक्षिण-पश्चिम तट की ओर है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना