भूत पिशाच भगाने को एक दूसरे पर कसे अश्लील जुमले

Hamirpur News - कुल्लू जिला की दुर्गम पलदी घाटी में एक ऐसा उत्सव मनाने की परंपरा है जिसमें अश्लील गालियां देने का प्रचलन है। उत्सव...

Jan 16, 2020, 07:20 AM IST
Kullu News - ghost vampires exorcise each other in porn
कुल्लू जिला की दुर्गम पलदी घाटी में एक ऐसा उत्सव मनाने की परंपरा है जिसमें अश्लील गालियां देने का प्रचलन है। उत्सव में महिला, बच्चे, बुजूर्ग एकसाथ शिरकत करते हैं लेकिन इस अश्लीलता परोसने को लेकर उत्सव के दिन उफ तक नहीं करते। दरअसल, यह उत्सव देव परंपरानुसार मनाया जाता है। मान्यता है कि इस उत्सव में अश्लील जुमलों का प्रयोग कर भूत पिशाच को भगाया जाता है।

लिहाजा पलदी में पारंपारिक वस्त्र पहनकर और मुंह पर प्राचीन मुखौटे पहन वो अश्लील जुमले कसते गए। इस बार भी हजारों की भीड़ इस उत्सव का गवाह बनी। घाटी के करथा और वासुकी नाग को समर्पित पलदी फागली उत्सव में प्राचीन दैवीय परंपरा का निर्वाहन किया गया।

अश्लील जुमले कसते हुए ढोल नगाड़ों की थाप पर हारियानों ने मडियाहला (मुखौटा) नृत्य किया और पुरानी परंपरा का निर्वाहन किया गया। इस परंपरागत दैवीय रिवायत और प्राचीन नृत्य को देखने के लिए हजारों की भीड़ उमड़ी। इस फागली उत्सव में क्षेत्र के विशेष देवताओं से जुडे़ लोगों व कारकूनों बीठ मडियाहली पहन कर परंपरा निभाते हुए अश्लील जुमले सुनाए। आधी रात बीत जाने के बाद उत्सव के दौरान मरोड गांव से करीब 100 फुट लम्बी जलती मशाल ढोल नगाड़ों के साथ थाटीबीड गंाव लाई गई। मुखौटाधारियों हारियानों ने इस दौरान दहकते अंगारों पर कूदकर नृत्य किया गया। यह दैवीय नृत्य कई घंटो तक चला परन्तु दहकते अंगारों से किसी को कोई नुकसान नहीं होता देख लोग दंग रह गए।

इसके अलावा देवता के गूर कड़कड़ाती सर्दी में बर्फ के बीच ठंडे पानी के कुंड में दिन भर खडे़ रहे और आम लोगों काे आशीर्वाद देते रहे। दोपहर बाद थाटीबीड गांव में नरगिस के फूलों से तैयार किए गए विष्णु अवतार बीठ को बांगी नामक खुले स्थान पर नचाया गया। फागली उत्सव की शोभा बढ़ाने के लिए घाटी के पटौला, नरौली, शिकारीबीड, घमीर, मरौड, गांव से दर्जनो देवलू मुखोटे पहन कर देवप्रथा का निर्वाहन करने थाटीबीड पहुंचे थे। मान्यता है कि पोष महिने में यहां के देवी-देवता स्वर्ग प्रवास पर होते हैं और क्षेत्रोंं में भूत-प्रेतों का वास रहता है।

प्राचीन काल से मना रहे हैं उत्सव...देवता वासुकी के हारियानों की माने तो प्राचीन काल से उनके पूर्वज हर्षोल्लास के साथ इस फागली उत्सव को मनाते आ रहे हैं। इस फागली उत्सव कि विशेषता यह है कि जब पूरे हिमाचल में देवता अपने स्वर्ग प्रवास पर होते है तो बंजार के पलदी में देवता करथनाग, वासुकी नाग स्वर्ग प्रवास पर न जाकर हारियानों के बीच रह कर इस अनोखे पर्व को निभाने की रस्म अदा करते हैं। उनके अनुसार प्रदेश का यह एक ऐसा उत्सव है जहां देवता अपने देवलूओं के साथ अदभुत नृत्य पेश कर सदियों से चली आ रही लोक परंपरा का निर्वाहन करते हैं।

महाभारत के युद्ध का वर्णन करते हैं...इस दौरान साठ मढिय़ाल्ले (मुखौटाधारियों) ने देवता करथा नाग व बासुकी नाग के समक्ष रामायण व महाभारत काल के युद्ध का वर्णन कर नृत्य किया। देव परंपरा के अनुसार यह उत्सव देवताओं व राक्षकों के रामायण व महाभारत काल के युद्ध के स्वरूप को दोहराता है। खास कर समुंद्र मंथन का जिक्र भी इस उत्सव में होता है।

X
Kullu News - ghost vampires exorcise each other in porn
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना