--Advertisement--

बीमारियों और मुसीबतों से परेशान तो शुक्रवार से करें महाकाली का उपाय

माता काली को ऐसी समस्याओं का संहारक माना जाता है जिनका वध देवताओं से भी संभव नहीं हो सका।

Danik Bhaskar | May 17, 2018, 06:20 PM IST

रिलिजन डेस्क. देवी दुर्गा के नौ रुपों में से एक है महाकाली। ये तंत्र की देवी हैं। दुर्गा के रौद्र रुप का अवतार हैं। माता काली की आराधना से घर की सारी नेगेटिव एनर्जी दूर होती है। अगर घर में कोई लंबे समय बीमार हो, या घर में कुछ ऐसी परेशानियां आ रही हों जिनका समाधान मुश्किल लगता हो, तो माता काली की शरण ली जा सकती है। माता काली को ऐसी समस्याओं का संहारक माना जाता है जिनका वध देवताओं से भी संभव नहीं हो सका।

आमतौर पर माता काली की आराधना केवल नवरात्र में की जाती है। लोग इन्हें तंत्र की देवी मानकर पूजा से बचते हैं। देवी का क्रोध रुप होने के कारण इनकी तस्वीर घर में भी कम ही लोग रखते हैं। हरिद्वार के तंत्र साधक योगेश्वरानंद महाराज के अनुसार सामान्य तौर पर मान्यता है कि देवी-देवता की उन तस्वीरों को घर में नहीं रखना चाहिए जिनमें वो गुस्से में दिखते हों। लेकिन, बिना तस्वीर और मूर्ति के भी आप माता काली की आराधना कर सकते हैं। उनकी आराधना से घर में बीमारियों और नेगेटिव एनर्जी से मुक्ति मिलती है।

ऐसे करें उपाय...

1 - अगर घर में बीमारियों और ऐसी परेशानियों का डेरा है जिनका समाधान संभव नहीं हो पा रहा है तो देवी काली की उपासना करें।

2 - शुक्रवार को माता दुर्गा की तस्वीर या मूर्ति घर के मंदिर में स्थापित करें।

3 - माता दुर्गा की तस्वीर की विधिवत कुंकुम, चावल, अबीर आदि से पूजन करें।

4 - माता को घी का दीपक लगाएं और माता महाकाली का ध्यान करें।

5 - गुग्गल की धूप दें और माता महाकाली के नाम का मन ही मन जाप करें।

6 - उसके बाद 108 दानों की माला से क्रीं मंत्र का जाप करें।

7 - रोज सुबह-शाम माता महाकाली का ध्यान करते हुए दो अगरबत्ती लगाएं और सुबह क्रीं मंत्र का जाप करें।

इससे आपके घर में हो रही सारी परेशानियों का समाधान होगा, बीमारियां दूर होंगी।

Related Stories