--Advertisement--

गूगल पर यूरोपीय संघ ने 34 हजार करोड़ रु का रिकॉर्ड जुर्माना लगाया, प्रतिस्पर्धा नियम तोड़ने का दोषी बताया

गूगल पर एंड्रॉयड मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम और ऐप्‍स पर एकाधिकार का आरोप

Dainik Bhaskar

Jul 18, 2018, 06:00 PM IST
यूरोपियन यूनियन ने गूगल को 90 दि यूरोपियन यूनियन ने गूगल को 90 दि

- यूरोपियन यूनियन के फैसले के खिलाफ गूगल अपील करेगा

- जुर्माने की खबर के बाद बुधवार को गूगल के शेयरों में गिरावट

- दुनिया में बिकने वाले 80% स्मार्टफोन एंड्रॉयड आधारित

ब्रसेल्स. गूगल पर यूरोपियन यूनियन (ईयू) ने बुधवार को करीब 34,000 करोड़ रुपए (5 अरब डॉलर) का रिकॉर्ड जुर्माना लगाया। यूरोपियन यूनियन की ओर से यह गूगल पर अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना है। तीन साल जांच के बाद ईयू ने गूगल को प्रतिस्पर्धा के नियम तोड़ने का दोषी पाया। यूरोपीय संघ ने गूगल से कहा कि वह 90 दिन में अपने कारोबारी तरीकों में सुधार करे नहीं तो जुर्माना राशि और बढ़ाई जा सकती है। जुर्माने की रकम 2017 में गूगल पर लगाए गए फाइन (19,000 करोड़ रुपए) से काफी ज्यादा है। उस वक्त शॉपिंग कंपेरिजन सर्विस के लिए पेनल्टी लगाई थी। यूरोपियन कमीशन को गूगल के सालाना टर्नओवर के 10% तक जुर्माने का अधिकार है। ईयू की कंपीटीशन कमिश्नर मारग्रेथ वेस्टेगर ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को मंगलवार रात को ही फोन पर इस फैसले की जानकारी दे दी। गूगल ने कहा कि वो फैसले के खिलाफ अपील करेगा।

मोबाइल कंपनियों को पैसे देने का आरोप : यूरोपियन कंपीटीशन कमीशन का कहना है कि गूगल सर्च और कंपनी की दूसरी डिवाइस प्री-इन्स्टॉल करने वाली मोबाइल कंपनियों को गूगल पैसे देता है। उसने एंड्रॉयड मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम और ऐप्‍स पर एकाधिकार जमा रखा है। गूगल का सैमसंग जैसी बड़ी मोबाइल कंपनियों से करार है। इसके तहत इन कंपनियों के मोबाइल पर गूगल सर्च इंजन और गूगल क्रोम पहले से ही इंस्टॉल रहते हैं, जिससे दूसरी कंपनियों को मौका ही नहीं मिल पाता। कुछ ऐप्स डाउनलोड करने के लिए गूगल सर्च को डिफॉल्ट इंजन बनाने की शर्त भी थोपी जाती है। एंड्रॉयड आधारित जो फोन निर्माता गूगल प्ले स्टोर इन्स्टॉल करना चाहते हैं, उन्हें मजबूरन गूगल के दूसरे ऐप भी इंस्टॉल करने पड़ते हैं। गूगल इसे बंडल्ड सर्विस के तौर पर देती है। इनमें सर्च, वेब ब्राउज़र, ईमेल और गूगल मैप शामिल हैं। गूगल पर ये भी आरोप है कि वह मोबाइल कंपनियों को दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले फोन बनाने से रोकती है। अप्रैल में यूरोपीय संघ ने इसकी शिकायत दर्ज की थी।

रूस में भी गूगल पर ऐसा आरोप लगा था। वहां भी कंपनी को जुर्माना देना पड़ा। वहां रेगुलेटर के कहने पर एंड्रॉयड फोन में रूसी सर्च इंजन यांडेक्स इन्स्टॉल किया जाने लगा तो गूगल का मार्केट शेयर 63% से घटकर 52% रह गया।

रूस-अमेरिका के रिश्ते बिगड़ने की आशंका : ईयू की कंपीटीशन कमिश्नर मारग्रेथ वेस्टेगर ने पिछले कई सालों से अमेरिकी कंपनी गूगल के खिलाफ सख्त रवैया अपना रखा है। अमेरिका में उनके खिलाफ गुस्सा है। गूगल के एडवर्टाइजिंग बिजनेस एडसेंस के खिलाफ भी यूरोपियन यूनियन जांच कर रहा है। गूगल समेत दूसरी अमेरिकी कंपनियों पर 2017 में भी यूरोप में जुर्माना लगाया गया। यूरोपियन संघ के ताजा फैसले को ट्रेड वॉर से भी जोड़ा जा रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप यूरोपियन यूनियन समेत कई देशों से एल्युमिनियम और स्टील इंपोर्ट पर टैरिफ लगा चुके हैं।

2017 में अमेरिकी कंपनियों पर यूरोप में पेनल्टी

कंपनी जुर्माना राशि (रुपए)
गूगल 19,000 करोड़
इंटेल 7,500 करोड़
क्वालकॉम 6,800 करोड़
माइक्रोसॉफ्ट 3,400 करोड़

यूरोप में गूगल का बिजनेस

स्मार्टफोन मार्केट में एंड्रॉयड फोन की हिस्सेदारी 74%
मोबाइल फोन पर सर्च इंजन में मार्केट शेयर 97%
इसके क्रोम वेब ब्राउजर की बाजार में हिस्सेदारी 64%

(स्रोत : स्टैट काउंटर, ईमार्केटर)

X
यूरोपियन यूनियन ने गूगल को 90 दियूरोपियन यूनियन ने गूगल को 90 दि
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..