Rashi Aur Nidaan

--Advertisement--

गुप्त नवरात्र और मंगलवार का योग : मां दुर्गा के साथ ही करें हनुमानजी के ये 7 उपाय, बुरा समय हो सकता है दूर

मूर्ति के सामने खड़े होकर करें नारियल का एक उपाय, बदल सकता है आपका समय

Dainik Bhaskar

Jul 16, 2018, 06:44 PM IST
gupt navratra ke upay on Tuesday

रिलिजन डेस्क. हिन्दी पंचांग के अनुसार अभी आषाढ़ मास के नवरात्र चल रहे हैं। ये 21 जुलाई, रविवार तक चलेंगे। गुप्त नवरात्र में की गई देवी पूजा से सभी कष्ट दूर हो सकते हैं। माता को मनाने के लिए दुर्गा सप्तशती का पाठ रोज करना चाहिए। 17 जुलाई को गुप्त नवरात्र का मंगलवार है। इस दिन देवी मां के साथ ही हनुमानजी के भी उपाय करना चाहिए। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार अगर कोई भक्त देवी मां के साथ ही हनुमानजी के भी उपाय करता है तो उसका बुरा समय दूर हो सकता है। जानिए मंगलवार और नवरात्र के योग में कौन-कौन से उपाय किए जा सकते हैं...
पहला उपाय
- सुबह जल्दी उठें और स्नान के बाद किसी हनुमान मंदिर जाएं। अपने साथ एक नारियल लेकर जाएं।

- मंदिर में पहुंचकर मूर्ति के सामने नारियल अपने सिर पर से सात बार वार लें। इसके बाद हनुमानजी का ध्यान करते हुए नारियल फोड़ दें।

- भगवान से दुखों को दूर करने की प्रार्थना करें। इस उपाय से बुरी नजर और परेशानियां दूर हो सकती हैं।
दूसरा उपाय
- सूर्यास्त के बाद किसी हनुमान मंदिर में सरसों के तेल का दीपक जलाएं और ऊँ रामदूताय नम: का जाप 108 बार करें।

- अगर आप चाहें तो श्रीराम के नाम का जाप भी कर सकते हैं।
तीसरा उपाय
हनुमान मंदिर हनुमानजी की पूजा पंचोपचार से करें। पंचोपचार यानी 5 तरीकों से भगवान की पूजा करें।

इसमें मूर्ति पर गंध, फूल, धूप, दीप, नैवेद्य अर्पित किया जाता है। इसके साथ ही चावल भी चढ़ाएं और आरती करें।
चौथा उपाय
- चमेली के तेल के साथ सिंदूर का हनुमानजी का चोला चढ़वाएं। लाल चंदन, लाल फूल, लाल वस्त्र आदि भी चढ़ाएं।

- हनुमान चालीसा का पाठ करें या श्रीराम नाम का जप करें।
पांचवां उपाय
- पंचमुखी हनुमानजी के दर्शन करें और नारियल अर्पित करें। इसके बाद उनके चरणों के सिंदूर से मस्तक पर तिलक लगाएं।

- हनुमानजी को गुड़-चने, गेंहू के आटे और गुड़ से बने पकवान का भोग लगाएं।
छठा उपाय
- सूर्यास्त के बाद हनुमानजी को इत्र और गुलाब की माला अर्पित करें। इस उपाय सभी बाधाएं दूर हो सकती हैं।
सातवां उपाय
- सुबह नहाने के बाद बरगद के पेड़ से 11 या 21 साबूत और साफ पत्ते तोड़ लें। पत्तों को पानी से धोकर चंदन से श्रीराम का नाम लिखें।

- इसके बाद इन पत्तों की माला बनाएं। ये माला हनुमान को पहनाएं। इस उपाय हनुमानजी प्रसन्न होते हैं और भक्त की इच्छाएं पूरी करते हैं।

X
gupt navratra ke upay on Tuesday
Click to listen..