--Advertisement--

गुरुवार को है खास तिथि, ये 12 मंत्र बोलेंगे आपके घर में बढ़ सकती है खुशहाली

हिन्दी पंचांग के अनुसार एक माह में दो बार चतुर्थी आती है। एक कृष्ण पक्ष में और एक शुक्ल पक्ष में।

Danik Bhaskar | Apr 18, 2018, 11:35 AM IST

रिलिजन डेस्क। गुरुवार, 19 अप्रैल 2018 वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी है। हिन्दी पंचांग के अनुसार शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायकी चतुर्थी कहा जाता है। इस बार गुरुवार को ये चतुर्थी होने से इस दिन गुरु ग्रह और गणेशजी के विशेष उपाय करने से कुंडली के कई दोष दूर हो सकते हैं। चतुर्थी गणेशजी को समर्पित तिथि है। इस दिन गणेशजी के लिए व्रत-उपवास और पूजा-पाठ करने से घर में सुख-समृद्धि बढ़ती है और आर्थिक लाभ मिलने के योग बन सकते हैं। साथ ही, ज्ञान और बुद्धि भी बढ़ते हैं। यहां जानिए उज्जैन के इंद्रेश्वर महादेव मंदिर के पुजारी पं. सुनील नागर के अनुसार विनायकी चतुर्थी पर कौन-कौन से शुभ काम किए जा सकते हैं...

गणेशजी के इन 12 नाम मंत्रों का करें जाप

इस चतुर्थी पर गणेशजी की पूजा करें और उनके 12 खास नाम मंत्रों का जाप 108 बार करें। ये हैं 12 नाम मंत्र- ऊँ सुमुखाय नम:, ऊँ एकदंताय नम:, ऊँ कपिलाय नम:, ऊँ गजकर्णाय नम:, ऊँ लंबोदराय नम:, ऊँ विकटाय नम:, ऊँ विघ्ननाशाय नम:, ऊँ विनायकाय नम:, ऊँ धूम्रकेतवे नम:, ऊँ गणाध्यक्षाय नम:, ऊँ भालचंद्राय नम:, ऊँ गजाननाय नम:।

इन नाम मंत्रों का जाप और गणेशजी की पूजा के बाद अन्यों भक्तों को प्रसाद वितरित करें और गणेशजी के दुख दूर करने की प्रार्थना करें।

ऐसे कर सकते हैं विनायकी चतुर्थी का व्रत

सुबह जल्दी उठें। स्नान के बाद लाल वस्त्र धारण करें। इसके बाद सूर्य को जल चढ़ाएं। घर के मंदिर में सोने, चांदी, पीतल, तांबा या मिट्टी से बनी गणेश प्रतिमा स्थापित करें। श्री गणेश को सिंदूर, दूर्वा, फूल, चावल, फल, प्रसाद चढ़ाएं। धूप-दीप जलाएं। श्री गणेशाय नम: मंत्र का जाप करते हुए पूजा करें। गणेशजी के सामने व्रत करने का संकल्प लें और पूरे दिन अन्न ग्रहण न करें। व्रत में फलाहार कर सकते हैं। पानी, दूध, फलों का रस आदि चीजें भी ले सकते हैं।

गुरु ग्रह के लिए कर सकते हैं ये उपाय

- गुरु ग्रह के लिए गुरुवार को शिवलिंग पर बेसन के लड्डू अर्पित करें।

- किसी गरीब को चने की दाल का दान करें।

- केले के पौधे की पूजा करें और केले का दान करें।