--Advertisement--

बालों के हिसाब से हो देखभाल

जो लोग कामकाजी हैं उन्हें लगता है कि बालों में गंदगी व पसीना आने से बाल जल्दी गंदे हो जाते हैं।

Dainik Bhaskar

Jun 12, 2018, 05:55 PM IST
यदि बाल लम्बेे, घने और घुंघराले नहीं हैं तो रोज़ भी शैम्पू किया जा सकता है, क्योंकि प्राकृतिक तेल आ जाने के कारण कुछ समय में ही चिपचिपे व तैलीय नज़र आने लगते हैं। यदि बाल लम्बेे, घने और घुंघराले नहीं हैं तो रोज़ भी शैम्पू किया जा सकता है, क्योंकि प्राकृतिक तेल आ जाने के कारण कुछ समय में ही चिपचिपे व तैलीय नज़र आने लगते हैं।

हेल्थ डेस्क. बाल सुंदरता बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसीलिए इनकी देखभाल करना बेहद ज़रूरी है। इसके लिए यह समझना ज़रूरी है कि बालों का प्रकार है कैसा - तैलीय, रूखा या मिलाजुला। इसी आधार पर सही देखरेख हो सकती है। जानते हैं अलग-अलग टेक्सचर वाले बालों की देखभाल कैसे की जाए...

5 प्वाइंट्स: कैसे रखें इन्हें सॉफ्ट और सिल्की

  • हर व्यक्ति के बाल और सिर की त्वचा अलग तरह की होती है। अगर आपकी त्वचा रूखी है तो आपके सिर की त्वचा भी रूखी होगी। ख़ासतौर पर टी-ज़ोन यानी कि माथा, नाक और ठोड़ी की त्वचा के मुताबिक ही सिर की त्वचा होती है। ऐसा होने पर आपको ऐसे शैम्पू का इस्तेमाल करना चाहिए जो बालों को नमी दे। न कि ऐसे शैम्पू का इस्तेमाल करें जो बालों से उनकी नमी छीन लें। इसके साथ ही बालों को बार-बार धोने से बचें। बालों को हफ्ते में एक या दो बार धोएं।
  • यदि आपका टी-ज़ोन तैलीय है तो ऐसे में आपके बाल कुछ ही समय में चिपचिपे लगेंगे। ऐसे बालों के लिए आप हफ्ते में तीन बार शैम्पू कर सकते हैं। बालों की लंबाई और उनकी बनावट के मुताबिक भी बालों का ध्यान रखना चाहिए।
  • यदि बाल लम्बे, घने और घुंघराले नहीं हैं तो रोज़ भी शैम्पू किया जा सकता है, क्योंकि प्राकृतिक तेल आ जाने के कारण कुछ समय में ही चिपचिपे व तैलीय नज़र आने लगते हैं। यदि बाल लम्बे व कलर किए हुए हैं तो इन्हें बार-बार धोने से बचें। ऐसा करने से बाल और सिर की त्वचा रूखी हो जाती है। ऐसे बाल वाले लोगों को हफ्ते में एक बार से ज़्यादा शैम्पू नहीं करना चाहिए।
  • इसके साथ ही जो लोग कामकाजी हैं, जिम या स्वीमिंग आदि करतेे हैं उन्हें लगता है कि बालों में गंदगी व पसीना आने से बाल जल्दी गंदे हो जाते हैं। पर इन्हें भी बहुत बार बाल धोने से बचना चाहिए। आख़िर रूखे व बेजान बालों से तो चिपचिपे ही बेहतर होंगे। फिर भी कोई उपाय चाहें, तो ड्राय शैम्पू का इस्तेमाल करें।
  • बालों को सिल्की और सॉफ्ट बनाने में डाइट का रोल बेहद अहम है। बालो की ग्रोथ अच्छी और हेयरफॉल कम हो इसके लिए डाइट में अंडे, पालक, विटामिन-सी से भरपूर फ्रूट जैसे नींबू-मौसमी, नट्स, साबुत अनाज और विटामिन-A से भरपूर सब्जियां जैसे गाजर को शामिल करें।
यदि आपका टी-ज़ोन तैलीय है तो ऐसे में आपके बाल कुछ ही समय में चिपचिपे लगेंगे। ऐसे बालों के लिए आप हफ्ते में तीन बार शैम्पू कर सकते हैं। यदि आपका टी-ज़ोन तैलीय है तो ऐसे में आपके बाल कुछ ही समय में चिपचिपे लगेंगे। ऐसे बालों के लिए आप हफ्ते में तीन बार शैम्पू कर सकते हैं।
X
यदि बाल लम्बेे, घने और घुंघराले नहीं हैं तो रोज़ भी शैम्पू किया जा सकता है, क्योंकि प्राकृतिक तेल आ जाने के कारण कुछ समय में ही चिपचिपे व तैलीय नज़र आने लगते हैं।यदि बाल लम्बेे, घने और घुंघराले नहीं हैं तो रोज़ भी शैम्पू किया जा सकता है, क्योंकि प्राकृतिक तेल आ जाने के कारण कुछ समय में ही चिपचिपे व तैलीय नज़र आने लगते हैं।
यदि आपका टी-ज़ोन तैलीय है तो ऐसे में आपके बाल कुछ ही समय में चिपचिपे लगेंगे। ऐसे बालों के लिए आप हफ्ते में तीन बार शैम्पू कर सकते हैं।यदि आपका टी-ज़ोन तैलीय है तो ऐसे में आपके बाल कुछ ही समय में चिपचिपे लगेंगे। ऐसे बालों के लिए आप हफ्ते में तीन बार शैम्पू कर सकते हैं।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..