वाॅलंटियर का कार्ड बनवा मनमाने रेट पर बेची सब्जियां

Karnal News - निर्धारित रेट से ज्यादा दामों में बेची जा रही थी सब्जी, लोगों ने विरोध किया तो गाड़ी लेकर भागा विक्रेता करनाल |...

Mar 27, 2020, 07:55 AM IST
Karnal News - haryana news volunteer39s card made vegetables sold at arbitrary rate

निर्धारित रेट से ज्यादा दामों में बेची जा रही थी सब्जी, लोगों ने विरोध किया तो गाड़ी लेकर भागा विक्रेता

करनाल | देश संकट से गुजर रहा है, लेकिन अब भी कुछ लोग ज्यादा मुनाफा कमाने में लगे हैं। जिन सब्जी विक्रेताओं को परमिट जारी किए हुए हैं वे ज्यादा रेट में सब्जी बेच रहे हैं। प्रशासन ने सब्जी और करियाना के रेट निर्धारित कर रखे हैं, लेकिन सब्जी विक्रेता निर्धारित रेटों से ज्यादा दामों पर सब्जी बेच रहे हैं। वार्ड वाइज निगरानी के लिए निगम कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई हुई है, लेकिन कोई खास निगरानी नहीं हो रही है। इसी कारण लोगों को महंगे दामों पर सब्जी खरीदनी पड़ रही है। लोगों ने जिला प्रशासन से निर्धारित रेटों पर सब्जी बेचने की मांग की है।

सेक्टर-5 में एक गाड़ी में सब्जी महंगे दामों पर बेच रहा था, वहां लोगों ने उसका विरोध कर दिया। विरोध के बाद वहां से गाड़ी लेकर भागने लगा। सरदार ऋषिपाल सिंह ने बताया कि आलू 35 रुपए किलोग्राम, प्याज 45 रुपए किलोग्राम के हिसाब से बेच रहा था। आलू का रेट 15 रुपए प्रति किलोग्राम है और प्याज का रेट 20 से 26 रुपए प्रति किलोग्राम है। सेक्टर-8 में भी एक सब्जी विक्रेता ज्यादा दामों पर सब्जी बेच रहा था। वहां भी लोगों से सब्जी के ज्यादा रेट ले रहा था। महेंद्र और दुर्गादत्त शर्मा ने विरोध किया सब्जी देना ही बंद किया। राम नगर में भी एक सब्जी विक्रेता ने निर्धारित रेटों से ज्यादा में सब्जी बेची। महिला शांति ने बताया कि जिन सब्जी विक्रेताओं को परमिट दिए हुए हैं। वे ज्यादा रेट लगा रहे हैं। इस पर पाबंदी लगानी चाहिए। पुराने शहर में भी एक सब्जी विक्रेता ने ज्यादा दामों पर सब्जी बेची। महिला रितू और रेणू ने बताया कि मजबूरी में महंगी सब्जी खरीद रहे हैं। जिला प्रशासन ने हर वार्ड में पांच से छह वाहन चालक सब्जी और फ्रूट बेच सकते हैं, इनके प्रशासन ने परमिट बनाए हैं, लेकिन वे इसका नाजायज फायदा उठा रहे हैं।

तरावड़ी. सब्जीमंडी में चार दुकानों के बाहर लगी उपभोक्ताओं की भीड़।

तरावड़ी | लाॅकडाउन में तरावड़ी सब्जीमंडी में सब्जियों के भाव दोगुना से अधिक रहे। सब्जीमंडी के चार आढ़तियों ने पुलिस से वालंटियर का कार्ड बनवाया और मंडी में पहुंचकर उसे सब्जी बेचने का लाइसेंस बना डाला। इन वाॅलंटियर कार्डधारकों ने दूसरे सब्जी विक्रेताओं को सब्जी बेचने नहीं दिया और मनमाने दामों पर सब्जियां बेची। आलू के दाम मंडी में 30 रुपए किलो बिके तो बाकि सब्जियों का भी यही हाल था। इस दौरान चार दुकानों पर काफी भीड़ एकत्र हो गई, जोकि पूरे समाज के लिए एक बड़ा खतरा बन सकती है।

दूसरे दुकानदारों से यह जानने का प्रयास किया कि यह लाइसेंस बनता कहां से है तो जानकारी मिली कि पुलिस ने घर-घर तक सब्जी पहुंचाने के लिए से वालंटियर कार्ड बनाए, जोकि समाजसेवा के कार्य के लिए हैं, न कि मनमाने दामों पर और नियमों को ताक पर रखकर सब्जी बेचने के लिए। इसी तरह शहर के चार करियाणा दुकानदार भी इसी को दुकान खोलने की अनुमति मानकर दुकानों पर काम शुरू कर दिया। चार दुकानें खुलने के बाद बाकि दुकानदार नगरपालिका कार्यालय में पहुंचे और भेदभाव का आरोप लगाते हुए विरोध जताया। दुकानदारों की परेशानी समझकर नगरपालिका सचिव बलबीर सिंह रोहिल्ला ने नपा प्रधान व अन्य कुछ पार्षदों से बातचीत कर फैसला लिया कि करियाणा के लिए आम उपभोक्ता अपने संबंिधत दुकानदार को फोन पर ही आॅर्डर दें और उसे सामान घर पहुंचाने के लिए कहें। तरावड़ी थाना प्रभारी सचिन कुमार ने बताया कि किसी सब्जी व करियाणा वाले को पुलिस की तरफ से मनमानी करने का लाइसेंस नहीं दिया गया। सब्जी से संबंिधत कुछ लोग सब्जी लोगों के घर तक पहुंचाने के लिए स्वयंसेवक बनकर काम करना चाहते थे तो पुलिस के नाकों पर बार-बार रोक-टोक न हो। पुलिस ने उनके द्वारा नामों पर मोहर लगाई थी। जब मंडी के बारे में बात सुनीं तो सभी वालंटियर से कार्ड वापस मंगवा लिए हैं।

Karnal News - haryana news volunteer39s card made vegetables sold at arbitrary rate
X
Karnal News - haryana news volunteer39s card made vegetables sold at arbitrary rate
Karnal News - haryana news volunteer39s card made vegetables sold at arbitrary rate

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना