हिंदी अकादमी की फाइल अब तक घूम रही : बलबीर

News - वरिष्ठ पत्रकार पद्मश्री बलवीर दत्त ने कहा है कि झारखंड और छत्तीसगढ़ का गठन एक साथ ही हुआ। लेकिन छत्तीसगढ़ में हिंदी...

Oct 13, 2019, 07:45 AM IST
Ranchi News - hindi academy39s file still circulating balbir
वरिष्ठ पत्रकार पद्मश्री बलवीर दत्त ने कहा है कि झारखंड और छत्तीसगढ़ का गठन एक साथ ही हुआ। लेकिन छत्तीसगढ़ में हिंदी ग्रंथ अकादमी बहुत पहले बन गई, पर अपने झारखंड में हिंदी अकादमी गठन की फाइल इस मेज से उस मेज सिर्फ घूम ही रही है। बलवीर दत्त शनिवार को गोपाल दास गहमरी की जासूसी कहानियां पुस्तक के लोकार्पण अवसर पर बोल रहे थे। इसे संजय कृष्ण ने संपादित और प्रभात प्रकाशन ने प्रकाशित किया है। प्रभात के रेलवे स्टेशन रोड स्थित शाखा कार्यालय में आयोजित समारोह में आलोचक डॉ. अरुण कुमार बोले कि जासूसी साहित्य पढ़ने के लिए कभी लोग हिंदी सीखा करते थे। प्रेमचंद भी जासूसी कहानियों से प्रेरित हुए हैं। कथाकार पंकज मित्र ने कहा कि हिंदी का दुर्भाग्य रहा है कि पॉपुलर चीजों को हेय दृष्टि से देखा जाता रहा है। जबकि गहमरी जैसे पत्रकार की पत्रिका जासूस की 19वीं सदी में अग्रिम बुकिंग हुई थी। जिसके हर अंक में गहमरी एक उन्यास लिखते थे। वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. अशोक प्रियदर्शी ने गहमरी के गांव और उनके युग की स्थितियों की चर्चा की।

X
Ranchi News - hindi academy39s file still circulating balbir

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना