एचएमटी का पंप पांच महीने से बंद, 12 किमी दूर जाना पड़ रहा है तेल भरवाने

Panchkula Bhaskar News - एचएमटी के हालात खराब होने से पहले ट्रैक्टर प्लांट बंद हो गया, अब पिछले करीब 5 महीने से एचएमटी को-ऑपरेटिव का पेट्रोल...

Bhaskar News Network

Nov 10, 2019, 07:36 AM IST
Pinjore News - hmt pump stopped for five months 12 km has to go to fill oil
एचएमटी के हालात खराब होने से पहले ट्रैक्टर प्लांट बंद हो गया, अब पिछले करीब 5 महीने से एचएमटी को-ऑपरेटिव का पेट्रोल पंप भी बंद पड़ा है। पंप पर तेल न होने से क्षेत्र के लोग परेशान हैं। लोगों को तेल भरवाने के लिए 12 किमी दूर चंडीमंदिर पहुंचना पड़ रहा है।

पिंजौर शहर में इसके अलावा कोई दूसरा पंप नहीं है, ऐसे में लोगों के पास चंडी मंदिर जाने के लिए कोई दूसरा विकल्प नहीं है, क्योंकि, कालका का पंप भी उनके लिए दूर पड़ता है। एचएमटी परिसर के सामने हाईवे पर स्थित एचएमटी का पंप एक जुलाई से बंद है। इस पंप पर सैकड़ों वाहन चालक निर्भर हैं।

किसी दूसरी सोसायटी को दिया जाए पंप

पिंजौर पजांबी सभा के चेयरमैन मोहिन्द्र कक्कड़, पूर्व पार्षद नरेश मान, कश्यप सभा के चेयरमैन रणजीत सिंह ने कहा कि एचएमटी के पट्रोल पंप पर क्षेत्र के सभी लोग निर्भर हैं परन्तु पांच महीने से तेल न होने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। लोगों की समस्या को एचएमटी प्रबंधन गंभीरता से नहीं ले रहा है। न तो एचएमटी न ही सरकार कोई कार्यवाई कर रही है। लोगों ने कहा कि अगर एचएमटी को-ऑपरेटिव सोसायटी पंप नहीं चला सकती तो इसे सरकार किसी ओर सोसायटी या किसी निगम को देकर चालू करवाए।

20 कर्मचारियों को एक साल से वेतन नहीं

पंप बंद होने से न केवल वाहन चालकों को दिक्कतें पेश आ रही है, बल्कि इसके चलते पंप पर तैनात कर्मचारी भी मुश्किल के दौर से गुजर रहे हैं। पंप पर काम करने वाले 20 कर्मचारियों को एक साल से वेतन नहीं मिला है। कर्मचारियों ने बताया कि सोसायटी की एक गैस एजेंसी भी है, परन्तु दवाब पड़ने पर गैस हर बार मंगवाई जा रही है, लेकिन पेट्रोल पंप के लिए तेल मंगवाने में अधिकारी बहाने बाजी कर रहे हैं।

पांच महीने से पंप बंद रहने के कारण करीब 50 लाख का नुकसान हो चुका है। वहीं बताया जा रहा है कि सोसायटी के मैनेजर जनवरी में रिटायर होने जा रहे हैं, इसलिए वे पंप की कार्यवाही को अपने कार्यकाल में शुरू नहीं करना चाहते हैं। कारण चाहे जो भी हो, इस चक्कर में नुकसान तो वाहन चालकों को उठाना पड़ रहा है।


शिवालिक विकास बोर्ड के अध्यक्ष और एडवोकेट विजय बंसल ने कहा कि एचएमटी का पेट्रोल पंप बंद होना क्षेत्र वासियों के लिए बड़ी समस्या है, इसको दोबारा चालू करवाने के लिए उच्चधिकारियों के पास जाएंगे। अगर फिर भी कुछ न हुआ तो इसके लिए कोर्ट में गुहार लगाई जाएगी। उन्होंने कहा कि सोसायटी को लाेगों को और परेशान करने नहीं दिया जाएगा। उन्होंने मांग की कि सरकार भी इस मामले में हस्तक्षेप करके लोगों की समस्या का समाधान करे।


बलविन्दर शमी | पिंजौर

एचएमटी के हालात खराब होने से पहले ट्रैक्टर प्लांट बंद हो गया, अब पिछले करीब 5 महीने से एचएमटी को-ऑपरेटिव का पेट्रोल पंप भी बंद पड़ा है। पंप पर तेल न होने से क्षेत्र के लोग परेशान हैं। लोगों को तेल भरवाने के लिए 12 किमी दूर चंडीमंदिर पहुंचना पड़ रहा है।

पिंजौर शहर में इसके अलावा कोई दूसरा पंप नहीं है, ऐसे में लोगों के पास चंडी मंदिर जाने के लिए कोई दूसरा विकल्प नहीं है, क्योंकि, कालका का पंप भी उनके लिए दूर पड़ता है। एचएमटी परिसर के सामने हाईवे पर स्थित एचएमटी का पंप एक जुलाई से बंद है। इस पंप पर सैकड़ों वाहन चालक निर्भर हैं।

किसी दूसरी सोसायटी को दिया जाए पंप

पिंजौर पजांबी सभा के चेयरमैन मोहिन्द्र कक्कड़, पूर्व पार्षद नरेश मान, कश्यप सभा के चेयरमैन रणजीत सिंह ने कहा कि एचएमटी के पट्रोल पंप पर क्षेत्र के सभी लोग निर्भर हैं परन्तु पांच महीने से तेल न होने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। लोगों की समस्या को एचएमटी प्रबंधन गंभीरता से नहीं ले रहा है। न तो एचएमटी न ही सरकार कोई कार्यवाई कर रही है। लोगों ने कहा कि अगर एचएमटी को-ऑपरेटिव सोसायटी पंप नहीं चला सकती तो इसे सरकार किसी ओर सोसायटी या किसी निगम को देकर चालू करवाए।

20 कर्मचारियों को एक साल से वेतन नहीं

पंप बंद होने से न केवल वाहन चालकों को दिक्कतें पेश आ रही है, बल्कि इसके चलते पंप पर तैनात कर्मचारी भी मुश्किल के दौर से गुजर रहे हैं। पंप पर काम करने वाले 20 कर्मचारियों को एक साल से वेतन नहीं मिला है। कर्मचारियों ने बताया कि सोसायटी की एक गैस एजेंसी भी है, परन्तु दवाब पड़ने पर गैस हर बार मंगवाई जा रही है, लेकिन पेट्रोल पंप के लिए तेल मंगवाने में अधिकारी बहाने बाजी कर रहे हैं।

पांच महीने से पंप बंद रहने के कारण करीब 50 लाख का नुकसान हो चुका है। वहीं बताया जा रहा है कि सोसायटी के मैनेजर जनवरी में रिटायर होने जा रहे हैं, इसलिए वे पंप की कार्यवाही को अपने कार्यकाल में शुरू नहीं करना चाहते हैं। कारण चाहे जो भी हो, इस चक्कर में नुकसान तो वाहन चालकों को उठाना पड़ रहा है।

इसलिए बच रहे हैं अधिकारी

एचएमटी पेट्रोल पंप पर हुए करोड़ों के घोटाले का मामला करीब 6 महीने पहले प्रकाश में आया था, इसके आरोप में एचएमटी को-ऑपरेटिव सोसायटी के अधिकारी व कर्मचारी जेल में हैं। उसके बाद से ही पंप की कार्यवाई आगे चलाने में कुछ अधिकारी बचते नजर आ रहे हंै।



X
Pinjore News - hmt pump stopped for five months 12 km has to go to fill oil
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना