--Advertisement--

जानें मच्छर के काटने के बाद आखिर कैसे हो जाती है इंसान की मौत

25 अप्रैल को वर्ल्ड मलेरिया डे है। इस मौके पर हम आपको बता रहे हैं मच्छर के काटने से कैसे इंसान की मौत हो जाती है।

Danik Bhaskar | Apr 24, 2018, 06:56 PM IST

हेल्थ डेस्क। 25 अप्रैल को वर्ल्ड मलेरिया डे है। इस मौके पर हम आपको बता रहे हैं मच्छर के काटने से कैसे इंसान की मौत हो जाती है। ये तो सभी जानते हैं कि मलेरिया मादा एनाफिलीज मच्छर के काटने से होता है। ये मच्छर किसी मलेरिया इंफेक्टेड मरीज के खून से मलेरिया का बैक्टीरिया लेकर दूसरे नॉर्मल इंसान के शरीर में पहुंचा देता है। जिससे उसे भी मलेरिया हो जाता है।

बॉम्बे हॉस्पिटल इंदौर के डॉ मनीष जैन बताते हैं कि मलेरिया का बैक्टीरिया दो प्रकार का होता है। जिसमें से प्लाजमोडियम फैलसीपेरम सबसे खतरनाक होता है। मच्छर के द्वारा शरीर में ये बैक्टरीरिया पहुंचते से ही मरीज इंफेक्टेड हो जाता है। नॉर्मली इंफेक्टेड होने पर ठंड लगकर बुखार आता है। लेकिन कई बार कॉम्प्लिकेशन होने पर ये ब्रेन, किडनी, लंग्स और लिवर को डैमेज कर देता है। समय पर सही इलाज नहीं मिलने पर मरीज की मौत भी जाती है।

आगे की स्लाइड्स पर जानिए मलेरिया से जुड़ी दूसरी बातें...

>जब मलेरिया दिमाग पर असर कर देता है तो उस मलेरिया को सेलेब्रल मलेरिया कहते हैं। जिसमें बुखार दिमाग पर चढ़ जाता है। इसमें बेहोशी आने लगती है।

>किडनी को डैमेज करने वाले मलेरिया को ब्लैक वॉटर फीवर कहते हैं। 
>मलेरिया लंग्स को भी डैमेज कर सकता है। इससे शरीर में बनने वाले ब्लड प्लेटलेट्स कम हो जाते हैं। 

>डॉ जैन कहते हैं कि ठंड लगकर बुखार आने पर मरीज को डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए। कई बार ये बुखार ब्लड टेस्ट में नहीं आता है। इसलिए डॉक्टर से कंसल्ट करना जरूरी होता है। अगर सही समय पर इसका इलाज कराया जाए तो मेडिसिन से ही इसे ठीक किया जा सकता है। 

>मलेरिया से बचने के लिए मच्छरों से बचाव करना जरूरी है। इंडिया में मच्छरों से मलेरिया के अलावा डेंगू होता है जो कि एडीस मच्छर के काटने से होता है।