रिलेशनशिप

--Advertisement--

बच्चा अधिक एक्टिव है तो उसे कंट्रोल करने के लिए ये 6 तरीके अपनाएं

बच्चे के व्यवहार को समझना और उसे बदलना बहुत मुश्किल काम है। खासकर जब बच्चा हाइपर एक्टिव हो जाए।

Dainik Bhaskar

May 25, 2018, 05:20 PM IST
मां-बाप बच्चों को अपने पास बैठाकर सहलाएं। उनके माथे को हाथों से दबाएं, कांधे को हल्का प्रेस करें। माता-पिता का यह टच बच्चों के प्रति बहुत सेंसेटिव होता है। मां-बाप बच्चों को अपने पास बैठाकर सहलाएं। उनके माथे को हाथों से दबाएं, कांधे को हल्का प्रेस करें। माता-पिता का यह टच बच्चों के प्रति बहुत सेंसेटिव होता है।

यूटिलिटी डेस्क । कई बार बच्चे का अधिक ऊर्जावान होना माता-पिता को परेशान कर देता है। कभी घर में, कभी स्कूल से तो कभी मोहल्ले से खबर आती है कि आपके बच्चे ने ऐसा कर दिया, वैसा कर दिया। ऐसे बच्चों को कंट्रोल करना बहुत मुश्किल होता है। मनोरोग विशेषज्ञ डॉ. विनय मिश्रा बता रहे हैं 6 ऐसी बातें आपकी मदद करेंगी।

01. डीप ब्रीदिंग लेना सिखाएं
उस बच्चे को डीप ब्रीदिंग सिखाई जाए। यह गहरी सांस इस तरीके से हो कि वह नाक से सांस को शरीर के अंदर ले और मुंह से छोड़े। इसका असर यह होगा कि आपको फ्रस्टेटेट बच्चे को डील करने में आसानी होगी।


02. बच्चे को प्यार और समय दें
ऐसे बच्चों को मां-बाप अपने पास बैठाकर सहलाएं। यानी उनके माथे को हाथों से दबाएं, कांधे को हल्का प्रेस करें। माता-पिता का यह टच बच्चों के प्रति बहुत सेंसेटिव होता है। यह उनके लिए रिलेक्सिंग टच होता है।

03. क्रिएटिव बनाएं
एक बॉक्स हमेशा अपने घर में तैयार रहना चाहिए। इस बॉक्स में क्लै आर्ट, कलर्स, पेंसिल्स या अन्य क्रिएटिविटी वाली चीजें रखना चाहिए। ताकि बच्चा इस बक्से के साथ ही लंबे समय तक बिजी रहे।


04. रिलैक्स प्लेस पर एक्टिविटी कराएं
आपके घर में एक जगह ऐसी होनी चाहिए जिसे हम रिलैक्सेशन की जगह कह सकते हैं। यह कोई छोटी बालकनी हो सकती है, जहां आराम कुर्सी रखी हो। ध्यान रखें यह ऐसी जगह हो जहां एक्टिविटी कम से कम और रिलैक्स ज्यादा मिले।

05. टाइम टेबल फॉलो कराएं
ऐसे बच्चों के लिए एक टाइम टेबल को फॉलो करना बहुत जरूरी है। यह मिलिट्री रूल जैसा नहीं होगा, लेकिन उनके सोने, खाने, उठने, नहाने, खेलने का समय निर्धारित रहेगा तो उनसे डील करना आसान होगा।

06. शुगर और कोल्ड ड्रिंक्स से दूर रखें
बच्चों की डाइट मॉनीटरिंग और उनका शुगर इनटेक कंट्रोल करना जरूरी है। यदि हम उन्हें ज्यादा स्वीट्स दे रहे हैं तो उनकी एक्टिविटी का लेवल बढ़ने लगता है। शुगर कोटेड सप्लीमेंट्स और कोल्ड ड्रिंक्स से उनको दूर रखें।

ऐसे बच्चों के लिए एक टाइम टेबल को फॉलो करना बहुत जरूरी है। ऐसे बच्चों के लिए एक टाइम टेबल को फॉलो करना बहुत जरूरी है।
X
मां-बाप बच्चों को अपने पास बैठाकर सहलाएं। उनके माथे को हाथों से दबाएं, कांधे को हल्का प्रेस करें। माता-पिता का यह टच बच्चों के प्रति बहुत सेंसेटिव होता है।मां-बाप बच्चों को अपने पास बैठाकर सहलाएं। उनके माथे को हाथों से दबाएं, कांधे को हल्का प्रेस करें। माता-पिता का यह टच बच्चों के प्रति बहुत सेंसेटिव होता है।
ऐसे बच्चों के लिए एक टाइम टेबल को फॉलो करना बहुत जरूरी है।ऐसे बच्चों के लिए एक टाइम टेबल को फॉलो करना बहुत जरूरी है।
Click to listen..