--Advertisement--

सुबह 12 बजे से पहले नाश्ते में खाएं टमाटर सहित ये 4 चीजें, डायबिटीज और बीपी हो सकती है कंट्रोल

डॉ. बिस्वरूप राय चौधरी बता रहे हैं कि कस तरह हाई ब्लड प्रेशर व डायबिटीज को सही खान पान से कंट्राेल किया जा सकता है।

Danik Bhaskar | Jun 23, 2018, 08:35 PM IST

हेल्थ डेस्क | अधिकांश बीमारियों को हमारा शरीर खुद ही ठीक कर सकता है, लेकिन दवाई लेकर हम उसकी यह क्षमता कम या खत्म कर देते हैं। इसीलिए जितना हो सके दवा लेने से बचना चाहिए और इसके विकल्प को अपनाना चाहिए। न्यूट्रीशनिस्ट डॉ. बिस्वरूप राय चौधरी बता रहे हैं कि किस तरह डाइट चार्ट में केला, बादाम, गाजर व टमाटर को शामिल करके हाई ब्लड प्रेशर और ककड़ी, मूली, गाजर व पत्तागोभी को शामिल करके डायबिटीज को कंट्रोल किया जा सकता है।

हाई ब्लडप्रेशर
यह कोई बीमारी नहीं है। यह शरीर को प्रोटेक्टिव अलर्ट करने के लिए है। इससे हार्ट, किडनी, लिवर, लंग्स, ब्रेन से जुड़ी बीमारियां होने की ज्यादा संभावना रहती है।
उपचार डाइट में ‘K’ फैक्टर हाई ब्लडप्रेशर से बचने के लिए ‘K’ फैक्टर यानी डाइट में पोटेशियम (आवर्त सारणी में K साइन है इसका) बढ़ाना और सोडियम घटाना होगा। पोटेशियम के लिए केला, बादाम, गाजर, टमाटर आदि खाएं।
ब्रेकफास्ट कितना खाएं? आप अपने वजन के हिसाब से नास्ता करें। जैसे आपका वजन अगर 70 किलो है तो इसमें 10 का गुणा करेंगे तो 700 आएगा। ऐसे में आप 700 ग्राम फल जरूर खाएं। इसे सुबह 12 बजे से पहले खा लें।
डिनर शाम 7 बजे से पहले खा लें।(नॉर्मल डाइट लें)
डायबिटीज बिना दवाई के यदि शुगर लेवल 250एमजी से कम है, तो यह नॉर्मल है। इससे ज्यादा शुगर ही हार्ट, किडनी और आंखों के लिए खतरा है। इससे बाद में ज्वाइंट की प्रॉब्लम हो सकती है।
उपचार डाइट में करना होगा बदलाव इसके उपचार के लिए हमें अपनी डाइट से दूध, घी, ब्रेड, मांस, मछली, पैकेज्ड फूड आदि को फल, सब्जियां और मोटे अनाज से रिप्लेस करना होगा। यह चीजें डाइट में शामिल करने से कुछ ही दिनों में फायदा दिखने लगता है।
लंच 2 अलग अलग प्लेट रखें, एक प्लेट में 4 तरह की कच्ची सब्जियां (ककड़ी, मूली, गाजर, पत्तागोभी व अन्य) शामिल करें।
कितना खाएं?

इनकी मात्रा अपने वजन से 4 को मल्टीप्लाय करके, यानी 70 किलो वेट है, तो 280 ग्राम कच्ची सब्जियां खाएं। दूसरी प्लेट में नॉर्मल डाइट ही रखें।