--Advertisement--

कलियुग में सबसे जल्दी सफल होती है चामुंडा मां और भगवान श्री गणेश की पूजा, पूरी कर सकते हैं सभी मनोकामनाएं

सिर्फ 2 उपाय करते रहेंगे तो बुरा समय हो सकता है दूर, घर में बनी रहती है खुशहाली

Danik Bhaskar | Jul 11, 2018, 04:50 PM IST
अगर नियमित रूप से रोज पूजा-पाठ अगर नियमित रूप से रोज पूजा-पाठ

रिलिजन डेस्क. अगर नियमित रूप से रोज पूजा-पाठ की जाए तो भगवान की कृपा से बड़ी-बड़ी परेशानियां भी दूर हो सकती हैं। किसी व्यक्ति की कुंडली में ग्रह दोष हो तो घर-परिवार और नौकरी में कई बाधाओं का सामना करना पड़ता है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार कलियुग में सबसे जल्दी प्रसन्न होने वाले देवी-देवता हैं देवी चामुंडा और भगवान श्री गणेश। इन दोनों की पूजा रोज करने वाले व्यक्ति को हर काम में जल्दी सफलता मिलती है और घर-परिवार में सुख-समृद्धि बनी रहती है। जानिए इन दोनों देवी-देवता को प्रसन्न करने के एक-एक उपाय...
पं. शर्मा के मुताबिक शास्त्रों में लिखा है कलौ चंडी विनायकौ यानी कलियुग में श्रीगणेश और मां दुर्गा यानी मां चामुंडा शीघ्र सिद्धि प्रदान करते हैं। इनकी पूजा से सभी इच्छाएं पूरी हो सकती हैं, भक्तों को शुभ फल मिलते हैं। इसीलिए श्रीगणेश और मां दुर्गा की पूजा रोज करनी चाहिए।
मां चामुंडा का उपाय
- देवी मां के नवार्ण मंत्र के 11 हजार जाप रोज करना चाहिए। मंत्र जाप के बाद दो कन्याओं को भोजन कराएं।

- इससे कार्यों में आ रही सभी बाधाएं दूर हो सकती हैं। अगर आप 11 हजार जाप नहीं कर सकते हैं तो कम से कम 1008 बार मंत्र जाप करें।
नवार्ण मंत्र- ऊं ऐं क्लीं चामुंडायै विच्चे।
गणेशजी का उपाय
- गणपति के षडविनायकों के नाम लें। साथ ही, गणेशजी के सामने शुद्ध घी का दीपक जलाएं। पूजा करके 21 दूर्वा हर रोज गणेशजी को अर्पित करें।
- षडविनायकों के नाम- ऊँ मोदाय नम:, ऊँ प्रमोदाय नम:, ऊँ सुमुखाय नम:, ऊँ दुर्मखाय नम:, ऊँ अविध्यनाय नम: ऊँ विघ्नकरत्ते नम:
- षडविनायकों के नाम का पाठ हर रोज 108 बार करें। इसके बाद हर आठवें दिन 8 ब्राम्हणों को भोजन कराएं।