Hindi News »Lifestyle »Travel» How To Reach Kedarnath

खुल गए केदारनाथ मंदिर के कपाट : कहां से कैसे पहुंचे बाबा के धाम, ये है पूरी डिटेल

29 अप्रैल से भगवान केदारनाथ के कपाट भक्तों के लिए खुल गए हैं। जानिए कहां से कैसे आप पहुंच सकते हैं।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 30, 2018, 12:02 AM IST

  • खुल गए केदारनाथ मंदिर के कपाट : कहां से कैसे पहुंचे बाबा के धाम, ये है पूरी डिटेल
    +2और स्लाइड देखें

    ट्रैवल डेस्क।29 अप्रैल से भगवान केदारनाथ के कपाट भक्तों के लिए खुल गए हैं। अब अगले 6 माह तक यहीं भोले बाबा की पूजा होगी। ऐसी मान्यता है कि पांडवों ने इस मंदिर की स्थापना की थी। 8वीं सदी में इस मंदिर का आदिशंकराचार्य ने नवनिर्माण करवाया। मंदिर के कपाट भक्तों के लिए अक्षय तृतीया से लेकर भाईदूज तक खुले रहते हैं। 3584 मीटर की ऊंचाई पर स्थित इस मंदिर तक पहुंचना आसान नहीं होता। चारों धामों में से इस यात्रा को सबसे कठिन माना जाता है।

    कैसे पहुंच सकते हैं


    वाया रोड जाते हैं तो केदारनाथ चंडीगढ़ (387), दिल्ली से (458), नागपुर से (1421), बेंगलुरू से (2484), ऋषिकेश से (189) किमी पड़ता है। आप हरिद्वार, कोटद्वार, देहरादून तक ट्रेन के जरिए भी जा सकते हैं। देहरादून तक एयर से भी जाया जा सकता है।

    नई दिल्ली से कैसे जाएं


    नईदिल्ली से हरिद्वार की बस हर आधे घंटे में है। सड़क से जाने पर 8 घंटे का वक्त लगता है। आप ट्रेन से भी जा सकते हैं। इसमें 4 से 6 घंटे का समय लगेगा। हरिद्वार से आप सीधे केदारनाथ जा सकते हैं। यदि आप ग्रुप में हैं तो आप जीप भी रेंट पर ले सकते हैं। जीप से 9 से 10 घंटे में आप पहुंच सकते हो।

    हरि्दवार से कैसे जाएं


    हरिद्वार में गोरीकुंड से रोज सुबह बस जाती हैं। आप GMOA ऑफिस में जाकर एडवांस्ड बुकिंग कर सकते हैं। ऑफिस रेलवे स्टेशन के सामने ही है। बस से जर्नी बड़ी खूबसूरत होती है क्योंकि घाट से पूरा रास्ता गुजरता है।

    कौन से स्टेशन से पास है केदारनाथ


    ऋषिकेश से 215, हरिद्वार से 241, देहरादून 257, कोटद्वार से 246 किमी की दूरी पर केदारनाथ है। नईदिल्ली, मुंबई, अहमदाबाद, अमृतसर से सबसे अच्छी कनेक्टिविटी हरिद्वार रेलवे स्टेशन की है।

    चारधाम का पैकेज भी ले सकते हैं


    आप चारधाम का पैकेज भी ले सकते हैं। कई एजेंसी पैकेज ऑफर कर रही हैं। जैसे यात्रा डॉटकॉम 11 दिन का पैकेज ऑफर कर रहा है। इसमें चारों धाम की यात्रा करवाई जाएगी। दिल्ली से प्राइवेट गाड़ी मिलेगी। रहने से लेकर लंच-डिनर और ब्रेकफास्ट तक की व्यवस्था एजेंसी करवाएगी। इसमें प्रति व्यक्ति 35 हजार रुपए का खर्चा आएगा।

    कस्टमाइज करवा सकते हैं

    आप पैकेज कस्टमाइज भी करवा सकते हैं। कई एजेंसियां 4 दिन का पैकेज ऑफर कर रही हैं। इसमें प्रति व्यक्ति 11 हजार रुपए देना होगा। जिसमें दो धामों की यात्रा करवाई जाएगी। आप अपनी जरूरत के हिसाब से पैकेज डिजाइन करवा सकते हैं।

    अभी है केदारनाथ जाने का बेस्ट टाइम, देखिए अगली स्लाइड में...

  • खुल गए केदारनाथ मंदिर के कपाट : कहां से कैसे पहुंचे बाबा के धाम, ये है पूरी डिटेल
    +2और स्लाइड देखें

    अभी है बेस्ट टाइम


    > केदारनाथ की यात्रा के लिए समर (मई से जून) सबसे बेस्ट है। इस दौरान वहां का क्लाइमेट कूल और सुकून देने वाला होता है। मानसून

    सीजन में लैंडस्लाइड काफी कॉमन होता है इसलिए उस वक्त वहां जाना अवॉइड करना चाहिए।

    10 लाख यात्री करा चुके हैं रजिस्ट्रेशन


    > केदारनाथ यात्रा के लिए 25 अप्रैल तक 1 लाख 10 हजार यात्री ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं। कपाट खुलने वाले दिन ही मंदिर में 5 हजार से ज्यादा श्रद्धालु पहुंचे। 2013 में हुई आपदा के बाद यह पहला मौका है, जब मंदिर खुलने वाले दिन इतनी बड़ी संख्या में

    श्रद्धालु पहुंच रहे हैं।

    क्या हैं खास बातें, देखिए अगली स्लाइड में...

  • खुल गए केदारनाथ मंदिर के कपाट : कहां से कैसे पहुंचे बाबा के धाम, ये है पूरी डिटेल
    +2और स्लाइड देखें

    क्या हैं खास बातें...


    > बीते साल 4 चार धाम यात्रा में कई श्रद्धालुओं की हार्ट अटैक से मौत हो गई थी। इसी कारण इस बार केदारनाथ मार्ग पर हर 1 किमी

    पर चिकित्सक उपलब्ध होंगे।


    > 50 से अधिक उम्र के श्रद्धालुओं का रास्ते में अलग-अलग स्थानों पर चेकअप किया जाएगा। यात्रा मार्ग में ऑक्सीजन चैंबर भी होंगे।


    > केदारनाथ धाम में सुबह 6 बजे से भक्त दर्शन कर सकते हैं। दोपहर में विशेष पूजा होती है। इसके बाद मंदिर बंद कर दिया जाता है। शाम 5 दर्शन के लिए दोबारा पट खोले जाते हैं।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Travel

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×