पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पीहर जाने की जिद कर रही पत्नी को बेरहम पति ने पीट-पीट कर मार डाला, किसी को पता नहीं चले, दाहसंस्कार के लिए श्मशान ले गया शव

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

दौसा (राजस्थान)। मायके जाने की जिद कर रही पत्नी को पति ने पीट-पीट कर मार डाला। मृतका के पेट में सात माह का गर्भ था। इतना ही नहीं पुलिस और किसी को शक न हो इसलिए अगले दिन सुबह परिवार के दो-तीन लोगों को साथ लेकर चुपचाप दाहसंस्कार करने श्मशान पहुंच गया। एनवक्त पर पहुंची पुलिस शव को श्मशान से उठाकर राजकीय अस्पताल ले आई। आरोपी से जब पुलिस ने पूछा कि तुझे कोख में पल रहे बच्चा का खयाल नहीं आया? आरोपी ने कहा- उसकी जिद को मुझे हमेशा के लिए खत्म करना था, इसलिए मन में कुछ नहीं आया।

श्मशान से एनवक्त पर पहुंच गई पुलिस

- पोस्टमार्टम में महिला के सिर में गंभीर चोट की वजह से मौत होने की पुष्टि की है। मृतका के गर्भ में पल रहे सात माह के बच्चे की भी मौत हो गई। पुलिस ने आरोपी पति को हिरासत में ले लिया है।

थाना प्रभारी सुरेंद्र कुमार ने बताया, सुबह करीब 7 बजे सूचना मिली कि एक महिला की मौत हो गई और परिवार वाले दाहसंस्कार के लिए जल्दबाजी कर रहे हैं। श्मशान से मृतका करूणा (29) के शव को कब्जे में लेकर राजकीय अस्पताल पहुंचाया। दाहसंस्कार के दौरान पति सहित दो अन्य लोग ही मौजूद मिले।

एक साल पहले झारखंड से शादी कर लाया था

- थानाप्रभारी ने बताया, मृतका के पति तीरथ बैरवा ने पूछताछ में एक साल पहले झारखंड के धनबाद से करूणा को शादी करके लाया था।

-पति को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी गई है। प्रारंभिक तौर पर जानकारी में आया कि पत्नी मायके जाने की जिद कर रही थी। इस बात को लेकर दोनों के बीच झगड़ा हो गया और पति ने पीट-पीट उसे मार डाला।

पत्नी की मौत का गम नहीं, अस्पताल में नींद निकालता रहा आरोपित

मारपीट के दौरान पत्नी की मौत के बाद पति शोक मनाने के बजाय राजकीय अस्पताल में बेफिक्र होकर सोता नजर आया। हालांकि पति के आस-पास पुलिसकर्मी भी मौजूद रहे, लेकिन उसके चेहरे पर शिकन तक नहीं थी। नींद खुलने पर मीडियाकर्मियों व लोगों के सवालों का जवाब तुरंत दे रहा था। बोला कि मेरा दो पत्नियों से तलाक हो चुका, इसे झारखंड से 70 हजार में खरीदकर लाया था।

गर्भ में पल रहे सात माह के बच्चे की मौत

मृतक का पुलिस की मौजूदगी में मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम किया। डॉक्टरों ने सिर में गंभीर चोट होने के कारण मौत होना बताया है। मेडिकल बोर्डमें शामिल डॉ. सुगनलाल मीना व डॉ. गजराज मीना ने बताया कि मृतका के सिर में गंभीर चोट की वजह से मौत होने से इनकार नहीं किया जा सकता। मृतका के गर्भ में पल रहे छह-सात माह के बच्चे को भी निकालकर पुलिस को सुपुर्द कर दिया।

खबरें और भी हैं...