--Advertisement--

आईसीआईसीआई बैंक को 17 साल में पहली बार घाटा, एनपीए के कारण 120 करोड़ का नुकसान

सीईओ चंदा कोचर के खिलाफ हितों के टकराव की जांच चल रही है, सीओओ संदीप बख्शी बैंक का देख रहे कामकाज

Dainik Bhaskar

Jul 28, 2018, 11:24 AM IST
ICICI Bank in Loss for the first time in 17 years
  • बैंक के कर्ज में 15% वृद्धि हुई, रिटेल लोन 20% बढ़ा
  • बैंक के कुल कर्ज में 58% हिस्सा रिटेल का

नई दिल्ली. सीईओ चंदा कोचर के खिलाफ हितों के टकराव की जांच के बीच आईसीआईसीआई बैंक को जून तिमाही में 119.55 करोड़ रु. का घाटा हुआ है। 2001 के बाद पहली बार बैंक को घाटे का सामना करना पड़ा है। जून 2017 की तिमाही में बैंक को स्टैंडअलोन आधार पर 2,049 करोड़ का मुनाफा हुआ था। इस दौरान रेवेन्यू 16,847 के मुकाबले 18,574 करोड़ रहा है। कंसोलिडेटेड आधार पर भी मुनाफा 2,605 करोड़ से घटकर 4.93 करोड़ रह गया है। ब्याज से आय 5,590 करोड़ की तुलना में 6,102 करोड़ रही। नेट इंटरेस्ट मार्जिन पिछले साल के 3.23% से घटकर 3.19% पर आ गया।

प्रोविजनिंग 2.2 गुना ज्यादा: अप्रैल-जून में बैंक की एसेट क्वालिटी खराब हुई है। एनपीए एक साल पहले के 7.99% की तुलना में 8.81% हो गया है। मार्च तिमाही में यह 8.84% था। एनपीए के बदले बैंक को 5,971 करोड़ रु. की प्रोविजनिंग करनी पड़ी है, जो एक साल पहले 2,609 करोड़ थी। रकम के लिहाज से ग्रॉस एनपीए 43,148 करोड़ से बढ़कर 53,464 करोड़ हो गया है। बैंक के 4,036 करोड़ के नए कर्ज एनपीए बने हैं। यह 11 तिमाहियों में सबसे कम है। गौरतलब है कि सीईओ चंदा कोचर के खिलाफ हितों के टकराव की जांच चल रही है। जांच होने तक चंदा छुट्‌टी पर हैं। सीओओ संदीप बख्शी बैंक का कामकाज देख रहे हैं।

X
ICICI Bank in Loss for the first time in 17 years
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..