--Advertisement--

घर पर नहाते समय करेंगे एक उपाय तो मिलेगा तीर्थ में डुबकी मारने का शुभ फल

गुरुवार, 24 मई को पुण्य कमाने और दुर्भाग्य दूर करने का दुर्लभ योग...

Dainik Bhaskar

May 22, 2018, 05:11 PM IST
importance of ganga dussehra 2018, 24 may 2018 ganga dussehra ki puja vidhi

रिलिजन डेस्क। इस सप्ताह गुरुवार, 24 मई को गंगा दशहरा है। हिन्दी पंचांग के अनुसार ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि पर गंगा दशहरा मनाया जाता है। इस संबंध में मान्यता है कि प्राचीन समय में इसी तिथि पर राजा भागीरथ की तपस्या से प्रसन्न होकर गंगा नदी स्वर्ग से धरती पर अवतरित हुई थीं। गंगा में डुबकी मारने से सभी पाप नष्ट होते हैं और अक्षय पुण्य मिलता है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार स्कंद पुराण में गंगा दशहरा का बहुत अधिक महत्व बताया गया है। इस दिन पवित्र नदी गंगा में स्नान करने के बाद दान करने की परंपरा है। अगर आप इस दिन गंगा नदी में स्नान नहीं कर सकते हैं तो घर ही किस प्रकार पुण्य कमा सकते हैं...

# अधिक मास के कारण बना दुर्लभ योग

अभी अधिक मास चल रहा है और ये महीना 3 साल में एक ही बार आता है। हर बार अलग-अलग महीनों में अधिक मास आता है। इस बार ज्येष्ठ मास में आया है। इस वजह से गंगा दशहरा का महत्व और भी अधिक बढ़ गया है।

# घर पर नहाते समय करें गंगा नदी का ध्यान

गुरुवार को सुबह जल्दी उठें और नहाते समय गंगा नदी का ध्यान करें। अगर आप चाहें तो स्नान मंत्र का भी जाप कर सकते हैं। स्नान मंत्र- गंगे च यमुने चैव गोदावरी सरस्वती। नर्मदे सिन्धु कावेरी जले अस्मिन् सन्निधिम् कुरु।।

इस मंत्र का जाप करते हुए नहाने से तीर्थ स्नान का पुण्य मिलता है।

# गंगा दशहरा पर कर सकते हैं इन चीजों का दान

> सुबह स्नान के बाद किसी गरीब व्यक्ति को पानी से भरा हुआ घड़ा या कलश का दान करना चाहिए।

> इन दिन मौसमी फल जैसे केला, नारियल, अनार, आम, खरबूजा, तरबूज का भी दान करना चाहिए।

> देवी-देवताओं की कृपा पाने के लिए गुरुवार को सुपारी, जल भरी हुई सुराही, हाथ का पंखा, छाता आदि चीजों का दान भी करें। इन चीजों के दान से अक्षय पुण्य मिलता है।

# ये बातें भी ध्यान रखें

- गंगा दशहरा का व्रत करने से देवी गंगा के साथ ही, सभी देवी-देवताओं की कृपा प्राप्त की जा सकती है।

- इस दिन भाग्वान विष्णु की भी विशेष पूजा करनी चाहिए।

- अगर आप इस दिन व्रत करना चाहते हैं तो निर्जल रहें यानी पानी नहीं पीना चाहिए। दिनभर भगवान का ध्यान करें। अधार्मिक कामों से दूर रहें।

X
importance of ganga dussehra 2018, 24 may 2018 ganga dussehra ki puja vidhi
Bhaskar Whatsapp
Click to listen..