Hindi News »Sports »Cricket »Latest News» In The Wake Of Ball-Tampering Scandal Cricket Australia Chief Sutherland To Stand Down

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के प्रमुख सदरलैंड का इस्तीफा, बॉल टैम्परिंग विवाद को माना जा रहा वजह

जेम्स सदरलैंड 1998 में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया से जुड़े थे। वे 2001 से इस संस्था के सीईओ हैं।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jun 06, 2018, 12:56 PM IST

  • क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के प्रमुख सदरलैंड का इस्तीफा, बॉल टैम्परिंग विवाद को माना जा रहा वजह, sports news in hindi, sports news
    +1और स्लाइड देखें
    जेम्स सदरलैंड ने बुधवार को मेलबर्न में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में अपनी इस्तीफे का ऐलान किया।

    • सदरलैंड के कार्यकाल के दौरान सीए का रेवन्यू 50 मिलियन ऑस्ट्रेलियन डॉलर से 500 मिलियन ऑस्ट्रेलियन डॉलर हुआ
    • सदरलैंड ने अपने क्रिकेट कॅरियर के दौरान 4 प्रथम श्रेणी मैच खेले थे


    सिडनी.क्रिकेट ऑस्ट्रेलियाल (सीए) के प्रमुख जेम्स सदरलैंड ने बुधवार को इस्तीफा देने का ऐलान किया। माना जा रहा है कि उन्होंने बॉल टैम्परिंग और खिलाड़ियों के वेतन संबंधी विवाद के चलते यह कदम उठाया है। सदरलैंड कुल 20 साल तक क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया का हिस्सा रहे। इस दौरान वे 17 साल सीए के सीईओ रहे। सदरलैंड ने 2001 में मैल्कम स्पीड के उत्तराधिकारी के रूप में सीए प्रमुख का पद संभाला था। उन्होंने अपना उत्तराधिकारी ढूंढ़ने के लिए क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को 12 महीने का नोटिस दिया है। किसी योग्य उम्मीदवार के मिलने तक वे अपने पद पर काम करते रहेंगे।

    20 साल तक सीए का हिस्सा रहने के बाद यह सही समयः सदरलैंड

    - सदरलैंड ने कहा, करीब 20 साल तक क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया का हिस्सा रहने के बाद यह सही समय है। मुझे बहुत सहज महसूस हो रहा है कि यह मेरे लिए सही समय है। साथ ही खेल के लिए बेहतर है। हालांकि उन्होंने इससे इनकार किया कि उनके इस्तीफे का बॉल टैम्पिरंग की घटना से कोई संबंध है।
    - हाल के महीनों में ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट में हुए बदलाव में सदरलैंड का नाम भी जुड़ गया है। इस साल मार्च में उनके ऊपर तब इस्तीफे का दबाव बहुत बढ़ गया था, जब दक्षिण अफ्रीका में तीसरे टेस्ट मैच के दौरान हुए बॉल टैम्पिरंग विवाद के बाद स्टीव स्मिथ, डेविड वॉर्नर और कैमरून बैनक्राफ्ट पर बैन लगा था।
    - बॉल टैम्परिंग विवाद के बाद ऑस्ट्रेलिया के कोच डारेन लेहमैन ने भी इस्तीफा दे दिया था। उनकी जगह जस्टिन लेंगर को ऑस्ट्रेलिया का कोच बनाया गया है।

    मेरे लिए फैसले से भविष्य में ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट को बहुत फायदा होगा

    - 12 महीने का समय क्यों चुना के सवाल पर सदरलैंड ने बताया बताया कि वे आसानी से परिवर्तन चाहते थे। उन्होंने कहा, "मैं सोचता हूं कि 17 साल तक सीए प्रमुख होने के दौरान कई चीजें मेरे सामने आईं हैं। शायद इसीलिए मुझे लगता है कि मेरे लिए अपने उत्तराधिकारी के साथ मिलकर काम करना उचित है। हालांकि जितनी जल्दी संभव हो मैं इससे बाहर निकलना चाहता हूं।"

    - सदरलैंड ने कहा, "पिछले 12 महीनों में हमने कई सारे ऐसे फैसले लिए। उन फैसलों से ऑस्ट्रलियाई क्रिकेट को भविष्य में बहुत फायदा होगा।"
    - उन्होंने कहा, "मेरा मानना है कि अब किसी दूसरे व्यक्ति को सीईओ की जिम्मेदारी दी जानी चाहिए। जो भी आएगा, उसके लिए एक मजबूत नींव रखी गई है। पिछले 20 साल से क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के साथ काम करना मेरे लिए काफी सम्मान की बात रहा।"

    ऑस्ट्रेलियन क्रिकेट बोर्ड से 1998 में महाप्रबंधक के तौर पर जुड़े थे

    - जेम्स सदरलैंड 1998 में महाप्रबंधक के तौर पर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया से जुड़े थे। उस समय सीए को ऑस्ट्रेलियन क्रिकेट बोर्ड के नाम से जाना जाता था।
    - 2001 में सदरलैंड को सीईओ बनाया गया। उनके कार्यकाल के दौरान ऑस्ट्रेलियाई टीम ने 2003 और 2007 में क्रिकेट विश्व कप जीता।
    - उन्होंने बिग बैश लीग टूर्नामेंट की शुरुआत की। यह लीग काफी सफल रही। उनकी उपलब्धियों में डे-नाइट टेस्ट मैच भी शामिल है।

  • क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के प्रमुख सदरलैंड का इस्तीफा, बॉल टैम्परिंग विवाद को माना जा रहा वजह, sports news in hindi, sports news
    +1और स्लाइड देखें
    प्रेस कॉन्फ्रेंस में सदरलैंड के साथ क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के चेयरमैन डेविड पीवर (दाएं) भी मौजूद थे।
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: In The Wake Of Ball-Tampering Scandal Cricket Australia Chief Sutherland To Stand Down
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Latest News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×