Hindi News »Business» India Mulls Customs Duty Hike On 30 US Product

भारत ने अमेरिकी उत्पादों पर कस्टम ड्यूटी 50% तक बढ़ाई, डब्ल्यूटीओ को भेजी 30 प्रोडक्ट की लिस्ट

अमेरिका एल्युमिनियम और स्टील उत्पादों पर ड्यूटी बढ़ा चुका है, भारत ने जवाब दिया

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jun 16, 2018, 05:34 PM IST

भारत ने अमेरिकी उत्पादों पर कस्टम ड्यूटी 50% तक बढ़ाई, डब्ल्यूटीओ को भेजी 30 प्रोडक्ट की लिस्ट
  • भारत-अमेरिका के बीच पिछले साल द्वि‍पक्षीय व्‍यापार 125 अरब डॉलर पहुंचा, जो एक रि‍कॉर्ड है
  • भारत अमेरिका को सालाना करीब 150 करोड़ डॉलर मूल्य का स्टील, एल्युमिनियम एक्सपोर्ट करता है

नई दिल्ली. भारत ने 30 अमेरिकी उत्पादों पर 50% तक कस्टम ड्यूटी लगाने का फैसला किया है। उत्पादों की संशोधित सूची विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) को भेजी गई है। इसमें मोटरसाईकिल, स्टील और लोहे के चुनिंदा सामान, बोरिक अम्ल और दालें शामिल हैं। अमेरिका ने मार्च में स्टील और एल्युमिनियम की वस्तुओं पर 25% तक ड्यूटी बढ़ाई जिससे भारत पर 24.1 करोड़ डॉलर का बोझ बढ़ा है। भारत इसकी भरपाई के लिए अमेरिकी उत्पादों पर ड्यूटी बढ़ा रहा है और 21 जून से पहले नई दरें लागू कर देगा।

भारत ने कहा; जरूरत पड़ने पर और इजाफा किया जाएगा
भारत ने डब्ल्यूटीओ को पत्र लिखकर कहा है कि 800 सीसी से ज्यादा क्षमता वाली मोटरसाइकिल पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाकर 50% तक की जाएगी। बादाम और अखरोट पर 20% और सेब के आयात पर 25% ड्यूटी लगाई जाएगी। साथ ही कहा है कि अमेरिका से इंपोर्ट पर जो छूट दी जा रही है, जरुरत पड़ने पर उसमें कटौती की जा सकती है। भारत मई में भी 20 अमेरिकी उत्पादों पर इंपोर्ट ड्यूटी 100% तक बढ़ा चुका है।

भारत ने अमेरिका को डब्ल्यूटीओ में चुनौती दी
स्टील और एल्युमिनिमय पर इंपोर्ट ड्यूटी लगाने के अमेरिका के फैसले को भारत विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) में भी चुनौती दे चुका है। भारत अमेरिका को हर साल करीब 150 करोड़ डॉलर मूल्य का स्टील और एल्युमिनियम एक्सपोर्ट करता है। 2016-17 में भारत ने अमेरिका को कुल 4,221 करोड़ डॉलर का माल एक्सपोर्ट किया जबकि अमेरिका से कुल 2,230 करोड़ डॉलर का इंपोर्ट किया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Business

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×