विज्ञापन

महंगाई दर जून में 5% के ऊपर जा सकती है, ग्लोबल ब्रोकरेज फर्मों ने जताया अनुमान

Dainik Bhaskar

Jun 18, 2018, 10:02 AM IST

चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में विकास दर गिरने की आशंका

खुदरा महंगाई दर ​अप्रैल में 4.58% खुदरा महंगाई दर ​अप्रैल में 4.58%
  • comment

नई दिल्ली. खुदरा महंगाई दर फिलहाल बढ़ेगी, लेकिन साल की दूसरी छमाही में इसके घटने के आसार हैं। पिछले साल के कम बेस के कारण महंगाई दर पहली छमाही में 5% को पार कर सकती है। यह अनुमान तीन जानी- मानी ग्लोबल ब्रोकरेज फर्मों का है। रिजर्व बैंक ने पहली छमाही में 4.8-4.9% और दूसरी छमाही में 4.7% महंगाई का अनुमान जताया है।

सितंबर के बाद जीडीपी ग्रोथ 7% पर आने की आशंका
बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच ने एक रिसर्च नोट में कहा कि 2018-19 की दूसरी छमाही में औसत खुदरा महंगाई दर 4.2% रहने की उम्मीद है। हालांकि ग्रोथ को लेकर इसके अनुमान निराशाजनक हैं। इसने कहा है कि विकास दर आगे कमजोर होगी। कंपनियों में क्षमता का इस्तेमाल 75% से कम रहेगा। बेस इफेक्ट के कारण सितंबर तक जीडीपी ग्रोथ रेट 7.5% रहेगी, लेकिन दूसरी छमाही में यह 7% पर आ जाएगी।

जून के बाद महंगाई में कमी आएगी: डॉयचे बैंक

डॉयचे बैंक का अनुमान है कि जून में महंगाई दर 5.1 से 5.3% तक चली जाएगी। उसके बाद बेस इफेक्ट खत्म होने पर इसमें गिरावट आएगी। दिसंबर तक महंगाई दर गिरकर 4% तक पहुंच जाएगी। उसके बाद इसमें फिर बढ़ोतरी शुरू होगी और मार्च 2019 तक 4.6% तक चली जाएगी। स्विस ब्रोकरेज फर्म यूबीएस का आकलन है कि 2018-19 में खुदरा महंगाई दर 5% के आसपास रहेगी।

X
खुदरा महंगाई दर ​अप्रैल में 4.58% खुदरा महंगाई दर ​अप्रैल में 4.58%
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन