--Advertisement--

फीफाः प्री-क्वार्टर में इंग्लैंड का कोलंबिया से मुकाबला आज, 64 साल बाद स्विट्जरलैंड आखिरी-8 में पहुंच सकता है

स्विट्जरलैंड की टीम इस विश्व कप में अब तक अजेय रही है। उसने हर मैच में गोल किया है।

Danik Bhaskar | Jul 03, 2018, 08:55 AM IST

  • कोलंबिया पिछले 8 विश्व कप के हर मैच में गोल करने में सफल रहा है
  • इस विश्व कप में कोलंबिया की टीम ने 5, जबकि इंग्लैंड की ओर 8 गोल हुए हैं
  • स्विट्जरलैंड और स्वीडन ग्रुप स्टेज तक 5-5 गोल करने में सफल रहे हैं

मॉस्को. फुटबॉल विश्व कप में मंगलवार को प्री-क्वार्टर फाइनल स्टेज के आखिरी दो मुकाबले होंगे। पहला- स्वीडन और स्विट्जरलैंड और दूसरा- इंग्लैंड और कोलंबिया के बीच खेला जाएगा। इंग्लैंड को शिकस्त देकर कोलंबिया का आखिरी 8 में पहुंचना आसान नहीं होगा। इंग्लैंड के पास इस विश्व कप की तीसरी सबसे युवा टीम है। उसके कप्तान हैरी केन इस विश्व कप के टॉप गोल स्कोरर हैं। इंग्लैंड 1998 विश्व कप में कोलंबिया को 2-0 से हरा भी चुका है। उधर, स्विट्जरलैंड भी स्वीडन को हराकर 1954 के बाद पहली बार क्वार्टर फाइनल में जगह बनाना चाहेगा।

3 जुलाई को होने वाले मुकाबले

मुकाबला जगह शुरुआत का भारतीय समय
स्वीडन v/s स्विट्जरलैंड सेंट पीटर्सबर्ग स्टेडियम शाम 7:30 बजे
इंग्लैंड v/s कोलंबिया स्पार्टक स्टेडियम रात 11:30 बजे

16 साल बाद स्वीडन और स्विट्जरलैंड आमने-सामने: इस विश्व कप में स्विट्जरलैंड के डिफेंस ने सभी को प्रभावित किया है। कप्तान स्टीफन लिचस्टेनर की अगुआई में टीम एकजुट रही। वेलोन बेहरामी और शेरडन शकीरी की बदौलत टीम अगले दौर में पहुंचने में सफल रही, जबकि ग्रुप-ई में 5 बार की चैम्पियन ब्राजील भी थी। स्वीडन और स्विट्जरलैंड के बीच 2002 के बाद से कोई मैच नहीं हुआ है। हालांकि, दोनों के बीच यह 29वां मुकाबला है। इससे पहले हुए 28 मुकाबलों में स्विट्जरलैंड ने 11 और स्वीडन ने 10 जीते हैं। विश्व कप में दोनों टीमों के बीच यह पहला मैच है। वैसे 3 जुलाई स्वीडन के लिए लकी रहा है। इससे पहले उसने 1974 में इसी दिन यूगोस्लाविया को 2-1 और 1994 में सऊदी अरब को 3-1 से हराया था। स्विट्जरलैंड तय समय में कभी भी मैच नहीं जीत पाया। वहीं, स्वीडन 1958 के बाद से विश्व कप में कभी भी लगातार दो मैच नहीं जीत सका। स्वीडन का विश्व कप में यह 50वां मैच होगा। वह इस सूची में शामिल होने वाली 11वीं टीम है।

पेनाल्टी शूट आउट से बचना चाहेगा इंग्लैंड: कोलंबिया के खिलाफ इंग्लैंड मुकाबला तय वक्त में ही खत्म करना चाहेगा। दरअसल, पेनाल्टी शूट आउट में उसका रिकॉर्ड काफी खराब रहा है। पिछले 12 बड़े टूर्नामेंट में इंग्लैंड का मैच सात बार पेनाल्टी शूट आउट तक पहुंचा। इनमें से वह 6 हार गया, सिर्फ एक में जीत मिली। 1996 में यूरो कप के मैच में इंग्लैंड ने स्पेन को पेनाल्टी शूट आउट में हराया था। उसके बाद से वह पेनाल्टी शूट आउट में कोई जीत नहीं हासिल कर सका है। कोलंबिया और इंग्लैंड के बीच अब तक 5 बार मुकाबले हुए हैं, जिनमें कोलंबिया कभी नहीं जीती। आखिरी बार दोनों की भिड़ंत न्यू जर्सी में मई 2005 में हुई थी। तब इंग्लैंड ने माइकल ओवन की हैट्रिक की मदद से 3-2 से मुकाबला जीता था। इंग्लैंड विश्व कप में भी कोलंबिया को हरा चुका है। डेविड बेकहम की कप्तानी में 1998 में इंग्लैंड ने वह मैच 2-0 से जीता था। कोलंबिया लगातार दूसरी और कुल तीसरी बार नॉकआउट दौर में पहुंचा है।

इंग्लैंड के खिलाफ मैच से पहले अभ्यास सत्र में भाग लेते कोलंपिया के राडेमल फाल्को। इंग्लैंड के खिलाफ मैच से पहले अभ्यास सत्र में भाग लेते कोलंपिया के राडेमल फाल्को।