--Advertisement--

विश्व कपः बेल्जियम के खिलाफ मैच से डेब्यू करेगी पनामा, किसी यूरोपीय देश से कभी नहीं जीत पाई ट्यूनीशिया

18 जून को होने वाले मुकाबलों में खेलने वाली टीमों में सिर्फ इंग्लैंड ही विश्व कप विजेता रह चुकी है।

Danik Bhaskar | Jun 18, 2018, 05:34 PM IST

  • विश्व कप में ट्यूनीशिया पिछले लगातार 11 मुकाबले हारा है
  • इंग्लैंड ने 14 विश्व कप खेले, एक बार 1966 में फाइनल में पहुंचा और चैम्पियन भी बना

मॉस्को. फुटबॉल विश्व कप के पांचवें दिन सोमवार को तीन मुकाबले होंगे। पहला मुकाबला स्वीडन और दक्षिण कोरिया के बीच खेला जा रहा है। दूसरा- बेल्जियम और पनामा, तीसरा- ट्यूनीशिया और इंग्लैंड के बीच खेला जाएगा। इनमें सिर्फ बेल्जियम ही ऐसी टीम है, जिसकी फीफा रैंकिंग शीर्ष 10 के अंदर है। उसके खिलाफ मैच से पनामा विश्व कप में डेब्यू करेगी। वहीं, ट्यूनीशिया ऐसी टीम है जो आज तक किसी यूरोपीय देश से नहीं जीती है।

मुकाबला ग्रुप वेन्यू शुरुआत का भारतीय समय
स्वीडन v/s दक्षिण कोरिया एफ निझमी नोवगोरोड स्टेडियम शाम 5:30 बजे
बेल्जियम v/s पनामा जी फिस्ट स्टेडियम शाम 8:30 बजे
ट्यूनीशिया v/s इंग्लैंड जी वोल्गोग्राद एरिना रात 11:30 बजे

ट्यूनीशिया के सामने ग्रुप स्टेज से आगे बढ़ने की चुनौती

ट्यूनीशिया दुनिया में 21वें नंबर की टीम है। उसने अब तक 4 बार विश्व कप खेला और एक बार भी ग्रुप स्टेज से आगे नहीं बढ़ पाई। इस दौरान वह 12 में से सिर्फ एक मैच ही जीत सकी। उसने 1978 के विश्व कप में मैक्सिको को हराया था। हालांकि, विश्व कप क्वालिफाइंग राउंड में वह अपराजेय रही है। हाल ही में फ्रेंडली मैच में उसने ईरान और कोस्टा रिका को हराया। यूरो चैम्पियन पुर्तगाल से ड्रॉ खेला और स्पेन से 1-0 से हार गई। फीफा रैंकिंग में 12वीं पायदान पर काबिज इंग्लैंड ने 14 विश्व कप खेले हैं। उसने 6 बार क्वार्टर फाइनल, 2 बार सेमीफाइनल और 1 बार फाइनल खेला। वह 1966 में चैम्पियन भी बना। इंग्लैंड की टीम ब्राजील में हुए पिछले विश्व कप में ग्रुप स्टेज में बाहर हो गई थी। यूरो-कप 2016 में भी दूसरे राउंड का सफर तय कर सकी थी। हालांकि, हाल ही में दोस्ताना मुकाबलों में उसने नाइजीरिया और कोस्टा रिका को हराया है।

32 साल से अपना पहला मैच नहीं हारी बेल्जियम
वर्ल्ड की नंबर 3 टीम बेल्जियम 1986 के विश्व कप में मैक्सिको के खिलाफ अपना शुरुआती मुकाबला हारी थी। उसके बाद विश्व कप में कोई शुरुआती मैच नहीं हारी। बेल्जियम और पनामा कभी भी एक-दूसरे के खिलाफ नहीं खेले। कन्फेडरेशन ऑफ नॉर्थ, सेंट्रल अमेरिकन एंड कैरेबियन एसोसिएशन फुटबॉल (कॉन्काकैफ) की पनामा 11वीं टीम है, जो विश्व कप में उतरेगी। उसकी 55वीं रैंक है। इससे पहले कॉन्काकैफ की त्रिनिदाद एंड टोबैगो ने 2006 में विश्व कप में अपना डेब्यू किया था। 1998 के बाद से कोई भी कॉन्काकैफ टीम अपने डेब्यू में जीत हासिल नहीं कर सकी है। जमैका ने 26 जून, 1998 को विश्व कप में डेब्यू किया था। तब लियान में हुए उस मुकाबले में उसने जापान को 2-1 से हराकर सबको चौंका दिया था।

अभ्यास सत्र के दौरान गेंद पर नियंत्रण पाने की कोशिश करते पनामा के डिफेंडर हारोल्ड कमिंग्स (बाएं)। अभ्यास सत्र के दौरान गेंद पर नियंत्रण पाने की कोशिश करते पनामा के डिफेंडर हारोल्ड कमिंग्स (बाएं)।
सोच्ची के ओलिंपिक पार्क एरिना में अभ्यास सत्र के दौरान दौड़ लगाते बेल्जियम के डिफेंडर डेड्रिक बोयाटा। सोच्ची के ओलिंपिक पार्क एरिना में अभ्यास सत्र के दौरान दौड़ लगाते बेल्जियम के डिफेंडर डेड्रिक बोयाटा।