Hindi News »Sports »Other Sports »Football» Golden Glove And Ball For The Champion Team Player 10 Times In The World Cup

फीफाः 10 बार चैम्पियन टीम के खिलाड़ी को मिले गोल्डन ग्लव-गोल्डन बॉल, टॉप गोल स्कोरर की टीम 5 बार ही जीती

2014 में अर्जेंटीना के लियोनेल मेसी को गोल्डन बॉल मिला, लेकिन उनकी टीम फाइनल में हार गई

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jul 13, 2018, 03:38 PM IST

  • फीफाः 10 बार चैम्पियन टीम के खिलाड़ी को मिले गोल्डन ग्लव-गोल्डन बॉल, टॉप गोल स्कोरर की टीम 5 बार ही जीती, sports news in hindi, sports news
    +5और स्लाइड देखें
    • ब्राजील और जर्मनी के फुटबॉलर 3-3 बार किसी विश्व कप के टॉप स्कोरर रहे
    • सबसे ज्यादा गोल्डन बॉल ब्राजील के 7 फुटबॉलर्स ने जीतीं
    • सबसे ज्यादा 3 गोल्डन ग्लोव जर्मनी के गोलकीपर्स के नाम

    खेल डेस्क.14 जून को शुरू हुआ फुटबॉल विश्व कप 15 जुलाई को लुझनिकी स्टेडियम में फ्रांस और क्रोएशिया के बीच फाइनल मैच के साथ समाप्त हो जाएगा। इस दौरान पिछले 30 दिनों में कई पुराने रिकॉर्ड टूटे, लेकिन कुछ चीजें इस बार भी नहीं बदलीं। जैसे गोल्डन बूट के तगड़े दावेदार इंग्लैंड के हैरी केन की टीम फाइनल में नहीं पहुंची। 20 विश्व कप में से केवल 5 बार ही सबसे ज्यादा गोल करने वाले फुटबॉलर की टीम चैम्पियन बन सकी है। फाइनल पहुंचने वाले क्रोएशिया के लुका मोड्रिक और फ्रांस के किलिएन एम्बाप्पे गोल्डन बॉल की रेस में सबसे आगे हैं। विश्व कप में अब तक 10 विजेता टीमों के खिलाड़ियों को गोल्डन बॉल मिली। गोलकीपर्स में फ्रांस के हुगो लॉरिस और क्रोएशिया के डेनियल सुबासिच गोल्डन ग्लव के दावेदार हैं। इसमें भी 10 चैम्पियन टीम के खिलाड़ी को ही गोल्डन ग्लव मिला।

    20 साल से गोल्डन बॉल जीतने वाले की टीम चैम्पियन नहीं बनी: विश्व कप में भले ही 10 चैम्पियन टीमों की झोली अब तक गोल्डन बॉल गई हो लेकिन पिछले 5 विश्व कप में विजेता टीम का खिलाड़ी इसे हासिल नहीं कर सका। इनमें 4 बार फाइनल में और 1 बार सेमीफाइनल में गोल्डन बॉल विजेता की टीम हार गई। आखिरी बार 1994 में ब्राजील के रोमारियो को ये अवॉर्ड मिला था और उनकी टीम फाइनल जीती थी। वहीं, पिछले 5 विश्व कप में 4 बार गोल्डन ग्लव जीतने वाले खिलाड़ी की टीम चैम्पियन बनी। 2002 में जर्मनी के गोलकीपर ओलिवर कान को गोल्डन ग्लव मिला लेकिन टीम हार गई।

    1998 के बाद गोल्डन बॉल विजेताओं के टीम का प्रदर्शन

    सालखिलाड़ीदेश टीम कहां तक पहुंची
    2014लियोनेल मेसीअर्जेंटीनाफाइनल
    2010डिएगो फोरलानउरुग्वेसेमीफाइनल
    2006जिनेडिन जिडानफ्रांसफाइनल
    2002ओलिवर कानजर्मनीफाइनल
    1998रोनाल्डोब्राजीलफाइनल

    2002 के बाद गोल्डन बूट विजेता की टीम नहीं बनी चैम्पियन:विश्व कप में सबसे ज्यादा गोल करने वाले खिलाड़ी की टीम चैम्पियन नहीं बने यह एक हैरानी की बात ही होती है। लेकिन आंकड़ें ये कहते हैं कि 1930 से शुरू हुए विश्व कप में केवल 5 बार ही ये अवसर आया है कि सबसे ज्यादा गोल करने वाले खिलाड़ी की टीम ने खिताब पर भी कब्जा किया हो। आखिरी बार 2002 में ऐसा हुआ था जब ब्राजील के रोनाल्डो ने 8 गोल किए थे और टीम चैम्पियन बनी थी। उसके बाद 2006 में जर्मनी के मिरोस्लाव, 2010 में भी जर्मनी के ही थॉमस मुलर और 2014 में कोलंबिया के जेम्स रोड्रिगेज ने गोल्डन बूट तो जीता लेकिन टीम को चैम्पियन नहीं बना सके।

    विश्व कप में सबसे ज्यादा गोल करने के साथ खिताब जीतने वाले खिलाड़ी

    सालखिलाड़ीविजेता देश
    2002रोनाल्डोब्राजील
    1982पाओलो रोसी इटली
    1978मारियो कैम्पेसअर्जेंटीना
    1962गैरिनचा और वावाब्राजील
    1930गुइलेर्मो स्टेबिलेउरुग्वे

    1982 से खिलाड़ियों को मिलने लगा अवॉर्ड: विश्व कप में बेस्ट प्लेयर के अवॉर्ड का नाम 1982 में गोल्डन बॉल किया गया। टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा गोल करने वाले को 1982 से गोल्डन शू का अवॉर्ड दिया जाने लगा। जिसका नाम बदलकर 2010 में गोल्डन बूट कर दिया गया। 1982 से पहले टॉप स्कोरर को कोई अवॉर्ड नहीं दिया जाता था, सिर्फ नाम की घोषणा होती थी। विश्व कप में सबसे बेहतरीन गोलकीपर को भी 1994 से अवॉर्ड देना शुरू किया गया। तब इसका नाम याशिन अवॉर्ड था। 2010 में इसका नाम गोल्डन ग्लव अवॉर्ड किया गया।

    इस बार ग्रुप स्टेज में 2014 के मुकाबले प्रति मैच कम गोल हुए: 2014 विश्व कप में ग्रुप स्टेज में 2.8 गोल प्रति मैच किया गया था। जबकि, इस बार यह संख्या गिर कर 2.5 पर आ गई। हालांकि यह 2010 विश्व कप से ज्यादा है। तब प्रति मैच केवल 2.1 गोल हुए थे। इस बार निर्धारित समय के खत्म होने के बाद इंजरी टाइम में गोल की संख्या 16 है। यह पिछले दोनों विश्व कप से ज्यादा है। 2010 में 4 और 2014 में 9 गोल इंजरी टाइम में हुए थे। जिन टीमों ने इस बार ग्रुप स्टेज को पार किया उनका प्रति मैच पासिंग का औसत 520 रहा। जबकि 2014 में यह 446 था। वहीं जो टीमें ग्रुप स्टेज में बाहर हो गए उनका पासिंग औसत 430 रहा। यह पिछले विश्व कप से 19 कम है।

  • फीफाः 10 बार चैम्पियन टीम के खिलाड़ी को मिले गोल्डन ग्लव-गोल्डन बॉल, टॉप गोल स्कोरर की टीम 5 बार ही जीती, sports news in hindi, sports news
    +5और स्लाइड देखें
  • फीफाः 10 बार चैम्पियन टीम के खिलाड़ी को मिले गोल्डन ग्लव-गोल्डन बॉल, टॉप गोल स्कोरर की टीम 5 बार ही जीती, sports news in hindi, sports news
    +5और स्लाइड देखें
  • फीफाः 10 बार चैम्पियन टीम के खिलाड़ी को मिले गोल्डन ग्लव-गोल्डन बॉल, टॉप गोल स्कोरर की टीम 5 बार ही जीती, sports news in hindi, sports news
    +5और स्लाइड देखें
    क्रोएशिया के कप्तान लुका मोड्रिक गोल्डन बॉल की रेस में हैं।
  • फीफाः 10 बार चैम्पियन टीम के खिलाड़ी को मिले गोल्डन ग्लव-गोल्डन बॉल, टॉप गोल स्कोरर की टीम 5 बार ही जीती, sports news in hindi, sports news
    +5और स्लाइड देखें
    क्रोएशिया के गोलकीपर सुबासिच गोल्डन ग्लोव जीतने की रेस में सबसे आगे हैं। -फाइल
  • फीफाः 10 बार चैम्पियन टीम के खिलाड़ी को मिले गोल्डन ग्लव-गोल्डन बॉल, टॉप गोल स्कोरर की टीम 5 बार ही जीती, sports news in hindi, sports news
    +5और स्लाइड देखें
    इंग्लैंड कप्तान के हैरी केन गोल्डन बूट जीतने की रेस में सबसे आगे हैं। -फाइल
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Football

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×