--Advertisement--

इंस्टीट्यूट ऑफ एमिनेंस की लिस्ट में अब 5 इंस्टीट्यूट, बिट्स पिलानी हुआ बाहर

नई लिस्ट में बिट्स पिलानी का नाम शामिल नहीं है जबकि पहले वाली लिस्ट में इसका नाम भी शामिल था।

Danik Bhaskar | Jul 25, 2018, 09:58 PM IST

एजुकेशन डेस्क। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने पहले उन 6 इंस्टीट्यूशन की लिस्ट जारी की थी जिन्हें इंस्टीट्यूट ऑफ एमिनेंस (IoE) का दर्जा दिया गया था। लेकिन मंगलवार को सरकार की तरफ से एक और लिस्ट जारी की गई है जिसमें 6 की जगह 5 इंस्टीट्यूट को ही इस लिस्ट में शामिल किया गया है। नई लिस्ट में बिट्स पिलानी का नाम शामिल नहीं है जबकि पहले वाली लिस्ट में इसका नाम भी शामिल था।

पहली लिस्ट में 6 इंस्टीट्यूट शामिल थे
- पहली लिस्ट में तीन पब्लिक और तीन प्राईवेट इंस्टीट्यूट शामिल थे किए गए थे।
- पब्लिक इंस्टीट्यूट में इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस बैंग्लोर, आईआईटी दिल्ली और आईआईटी मुंबई शामिल थे।
- प्राईवेट इंस्टीट्यूट में बिट्स पिलानी, मणिपाल एकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन और जिओ इंस्टीट्यूट शामिल थे।

इसलिए नहीं शामिल किया गया बिट्स पिलानी को
- एचआरडी मिनिस्ट्री ने बिट्स पिलानी को नवंबर 2015 में सारे ऑफ कैंपस को बंद करने को कहा था लेकिन बिट्स पिलानी इस फेसले के खिलाफ दिल्ली हाईकोट में चुनोती दी थी। ताकी उसके गोवा और हेदराबाद के कैंपस को बंद होने से बचा सके।
- बता दें की इंस्टीट्यूट ऑफ एमिनेंस का दर्जा तभी मिलता है जब इंस्टीट्यूट यूजीसी के सभी गाईडलाइन को फॉलो करना होता है।

इंस्टीट्यूट ऑफ एमिनेंस का उद्देश्य
- इसका उद्देश्य आने वाले 10 सालों में भारतीय इंस्टीट्यूट्स को टॉप-500 इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी रैंकिंग में शामिल कराना है। इससे सरकार को उम्मीद है कि 10 साल में भारत के इंस्टीट्यूट टॉप-100 यूनिवर्सिटीज़ में भी शामिल हो जाएंगे।