--Advertisement--

237 किलो के मिहिर जैन की सर्जरी करने वाले डॉ. चौबे ने कहा- मार्क्स की तरह पेरेंट्स बच्चे के बीएमआई पर भी रखें नजर

बच्चा अपनी हाइट और वजन के अनुसार कितना कितना फिट है, यह जानना जरूरी है।

Danik Bhaskar | Jul 07, 2018, 12:26 PM IST
डॉ. चौबे के मुताबिक, अगर बीएमआई बढ़ रही है तो उसे उसकी समय से कंट्रोल करने की कोशिश करें। डाइट में बदलाव करें, फिजिकल एक्टिविटीज के लिए कहें और उसे मोटिवेट करें। डॉ. चौबे के मुताबिक, अगर बीएमआई बढ़ रही है तो उसे उसकी समय से कंट्रोल करने की कोशिश करें। डाइट में बदलाव करें, फिजिकल एक्टिविटीज के लिए कहें और उसे मोटिवेट करें।

हेल्थ डेस्क. हाल ही में दिल्ली के 14 वर्षीय मिहिर जैन ने बैरियाट्रिक सर्जरी के बाद 60 किलो वजन कम किया हैं। सर्जरी से पहले उनका वजन 237 था जो अब 170 किलो हो गया है। सर्जरी करने वाले बैरियाट्रिक सर्जन डॉ. प्रदीप चौबे से दैनिक भास्कर ने विशेष बातचीत की। उन्होंने बताया बच्चों में वजन बढ़ने की समस्या को रोकने के लिए पेरेंट्स को बचपन से ही उनकी बीएमआई यानी बॉडी मास इंडेक्स को चेक करते रहना चाहिए ताकि कभी भी अधिक वजन के कारण सर्जरी की नौबत न आए। पढ़िए उनसे बातचीत के अंश...

सवाल: ऐसे कौन से लक्षण होते हैं जिन्हें देखकर पेरेंट्स को सचेत हो जाना चाहिए कि बच्चा मोटापे का शिकार हो रहा है?
जवाब:
बच्चा कितना हेल्दी है, इसकी परिभाषा पेरेंट्स और एक्सपर्ट दोनों के लिए अलग-अलग है। पेरेंट्स सिर्फ फिजिकली बच्चे को देखकर इसे समझ लेते हैं। लेकिन सबसे जरूरी बात है कि वह अपनी हाइट और वजन के अनुसार कितना फिट है। यह जानना जरूरी है। इसके लिए बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) चेक करें। इससे पता चलता है कि बच्चा कितना फिट है।

सवाल: बीएमआई या वजन के किस स्तर से मोटापा कम करना मुश्किल हो जाता है?
जवाब:
22.5 तक की बीएमआई को सामान्य माना जाता है। इससे अधिक बढ़ने पर पेरेंट्स को अलर्ट होने की जरूरत है। 32.5 से अधिक बीएमआई होने पर सर्जरी ही विकल्प बचता है। जिस तरह हार्ट में 85-95 फीसदी ब्लॉकेज होने पर सर्जरी ही विकल्प बचता है उसी तरह बीएमआई का लेवल 33 के बाद सर्जरी से ही मोटापा कम किया जा सकता है।

सवाल: मिहिर को आपने मोटिवेट कैसे किया कि उसका वजन कम हो सकता है?
जवाब:
उसका वजन ज्यादा है ये बात मिहिर अच्छी तरह से जानता था। वह इसे कम करने के लिए फिजिकली और मेंटली तैयार था इसलिए सर्जरी के लिए मोटिवेट करने में बहुत मशक्कत नहीं करनी पड़ी। फैमिली का काफी सपोर्ट था।

सवाल: मिहिर जैसे मोटे बच्चे के डाइट प्लान के बारे में कुछ टिप्स दीजिए ?
जवाब:
सबसे ज्यादा पेरेंट्स को अवेयर होने की जरूरत है। बच्चों की डाइट में ज्यादा से ज्यादा हेल्दी चीजें फल और सब्जियों को शामिल करें। अधिक फ्राइड और जंक फूड से उन्हें दूर रखने की कोशिश करें। इसके अलावा सबसे जरूरी बात है उसे आउटडोर एक्टिविटीज के लिए कहें।

सवाल: पेरेंट्स को क्या सलाह देना चाहेंगे?
जवाब:
जिस तरह पेरेंट्स बच्चों को अच्छे मार्क्स लाने पर फोकस करते हैं उसी तरह उन्हें कम उम्र से ही बीएमआई पर फोकस करना चाहिए। अगर बीएमआई बढ़ रही है तो उसे उसकी समय से कंट्रोल करने की कोशिश करें। डाइट में बदलाव करें, फिजिकल एक्टिविटीज के लिए कहें और उसे मोटिवेट करें।

सवाल: बॉडी मास इंडेक्स की मदद से कैसे चेक करें बच्चा हेल्दी है या मोटापे से परेशान?
जवाब:
बीएमआई निकालने के लिए वजन और ऊंचाई की सही जानकारी होना जरूरी है।
ऐसे निकालें
उदाहरण: वजन- 60 किलो, हाइट- 166 सेमी (1.66 मीटर)
कैल्क्यूलेशन- 60 ÷ (1.66)2 = 21.77

सेहत का गणित : ऐसे समझें
18.5 से कम बीएमआई यानि अंडरवेट
18.5-25 के बीच बीएमआई यानि हेल्‍दी वेट
25-30 से बीच बीएमआई यानि ओवरवेट
30-40 के बीच बीएमआई यानि मोटापे से ग्रस्‍त
40 से ज्‍यादा बीएमआई यानि ज्‍यादा मोटापा

डॉ. प्रदीप चौबे से आशीर्वाद लेते हुए 14 वर्षीय मिहिर जैन। डॉ. प्रदीप चौबे से आशीर्वाद लेते हुए 14 वर्षीय मिहिर जैन।
32.5 से अधिक बीएमआई होने पर सर्जरी ही विकल्प बचता है। 32.5 से अधिक बीएमआई होने पर सर्जरी ही विकल्प बचता है।
उसका वजन ज्यादा है ये बात मिहिर अच्छी तरह से जानता था। वह इसे कम करने के लिए फिजिकली और मेंटली तैयार था। उसका वजन ज्यादा है ये बात मिहिर अच्छी तरह से जानता था। वह इसे कम करने के लिए फिजिकली और मेंटली तैयार था।