पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Interview With Shankaracharya Swaroopanand And Nishchalanand Under Mahabharat 2019

महाभारत 2019: कांग्रेसी कहकर हमको गाली देते हैं, पर मैंने क्या लाभ लिया- शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
Advertisement
Advertisement

नई दिल्ली.  महाभारत 2019 के तहत दैनिक भास्कर ने ज्योतिषपीठ एवं द्वारका शारदापीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती और गोवर्धन मठ, पुरी पीठ के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती से राजनीति और सामाजिक विषयों पर खास बात की। जिसमें एक सवाल के जवाब में स्वामी स्वरूपानंद ने कहा कि कांग्रेसी कहकर हमको गाली देते हैं, पर मैंने क्या लाभ लिया? वहीं स्वामी निश्चलानंद का कहना है कि आपके सामने जो संत भेष में हैं वे राजनैतिक दलों की दृष्टि में प्रचारक हैं। साक्षात्कार के प्रमुख अंश। 

 

स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती से सवाल-जवाब

 

Q. क्या देश में सांप्रदायिक ध्रुवीकरण बढ़ा है? हिंदू-मुस्लिम विवाद अक्सर सामने आ रहे हैं?

A. इसका कारण राजनीति है, धर्म नहीं। हमें मुस्लिम भाइयों से यह कहना है कि आपको नमाज पढ़ने से कोई रोक नहीं सकता। जहां आपकी मस्जिद है, वहां कोई तोड़ने-फोड़ने नहीं जाता। हमारा-आपका झगड़ा किस बात का है? अभी देश में सांप्रदायिक ध्रुवीकरण बढ़ा है।

 

Q. कांग्रेस के नेता आपके पास सलाह लेने आते हैं, मोदी या उनके मंत्री भी सलाह लेने आए हैं?
A.
हमारे मन में कोई भेद-भाव नहीं है। हम जब छत्तीसगढ़ में जाते हैं तो रमन सिंह के घर ही ठहरते हैं। जहां तक सम्मान की बात है तो अन्याय हो रहा है। जो सम्मान दलाई लामा को है क्या वो शंकराचार्य को है? मोदी प्रधानमंत्री हैं, क्या वे यहां दर्शन करने आए? आते तो क्या हम डंडा मारते? वो तो ये चाहते हैं कि हम उनसे अपॉइंटमेंट लें और जाकर मिलें। कांग्रेस के बहुत से लोग हमारे पास आते हैं, हम कभी भी किसी से कोई व्यक्तिगत कार्य नहीं बोलते। (गुस्से में) कांग्रेसी कहकर हमको गाली तो देते हैं, लेकिन कांग्रेसी बनकर मैने कौन-सा लाभ ले लिया? ये तो आप बताइए। 

 

Q. कर्नाटक चुनाव के बाद के घटनाक्रम को आप कैसे देखते हैं?
A. सबसे बड़ी बात तो यह थी कि 104 सीट आने के बाद हर जगह नगाड़े बज रहे थे। नगाड़े आप तब बजाते जब आपको बहुमत मिल गया होता। क्या जरूरत थी, ऐसा करने की। आप यह क्यों कहते हैं कि हम सब जगह अपना राज स्थापित कर लेंगे। आप तो सबकी सेवा करिए और वो करिए जो आप कह रहे थे। प्रधानसेवक, चौकीदार बनकर रहिए। झूठ मत बोलिए।

 

Q.  ऐसे संतों को राज्यमंत्री का दर्जा दे दिया, जिनका राजनीति से कोई लेना-देना ही नहीं? 
A.
इस प्रकार के सम्मान के पात्र कुछ विशिष्ट व्यक्ति ही होते हैं। समाज में जिसका सम्मान है। ऐसे ही लोगों को सम्मानित किया जाता है। किंतु जो सरकार के ही सम्मान से सम्मानित हो रहे हैं, वो इसके पात्र नहीं हैं।

 

Q.  मोदी सरकार के बीते चार साल के कार्यकाल को आप कैसे देखते हैं?
A.
हम लोगों को मोदी के कार्यकाल से बहुत निराशा हुई है। निराशा का कारण उनका प्रधानमंत्री होना नहीं है। उन्होंने कहा था कि ‘यूपीए सरकार के जमाने में भारत गो-मांस का निर्यात करता है। इससे मेरा हृदय जल रहा है, अापका जलता है कि नहीं?’ हमें उम्मीद थी कि उनके प्रधानमंत्री बनते ही यह कलंक मिट जाएगा। आज तक उस पर कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई। अपितु बढ़ा ही है। दूसरा, कॉमन सिविल कोड लाएंगे, वह भी नहीं आया। कश्मीर की स्थिति, धारा 370 भी समाप्त नहीं हुई। आतंकवाद में कोई कमी नहीं आई। हमें उम्मीद थी कि काशी में गंगोत्री से गंगा की अविरल धारा लाएंगे, लेकिन नहीं आ पाई। हमारा तो मुंह ही बंद कर दिया इन्होंने। अगर अब इनकी सरकार गई तो लोग कहेंगे- हिंदुओं की सरकार बनी थी, तब तुमने गो-हत्या बंद क्यों नहीं करवाई।

 

Q.  गो-रक्षकों पर प्रधानमंत्री मोदी के कथन पर आप क्या कहेंगे?
A.
भारत में आंशिक रूप से गो-हत्या बंद है। कुछ प्रदेशों में गो-हत्या धड़ल्ले से होती है। गो-भक्त ऐसा होने से रोकते हैं। प्राय: यह देखा जाता है कि पुलिस रुपए लेकर गो-हत्या करने वालों को छोड़ देती है। इससे गो-भक्तों का दिल दुखता है। पुलिस वाले नहीं देखते हैं तो इनके हाथ-पैर भी चलते हैं। आप ये क्यों कहते हैं कि ये असामाजिक तत्व हैं? देश के हित में गो-हत्या बंद होना चाहिए। गो-हत्या मुसलमानों के लिए नहीं हो रही है, डॉलर के लिए हो रही है। गोमाता केवल हिंदू की नहीं है, मुसलमान की भी है।

 

Q.  मोदी सरकार राम मंदिर निर्माण नहीं कर पाई?
A.
प्रारंभ से ही जनता को भ्रम में रखा गया है। मामला कोर्ट में था और कोर्ट से वहां स्टे लगा हुआ है। आप कोर्ट में तो कुछ कर नहीं रहे हैं और जनता से कहते हैं कि हमें वोट दो तो हम मंदिर बना देंगे। ये धोखा है। राम मंदिर के लिए इन्होंने शिलान्यास करवाया था, शिलान्यास गर्भगृह से दूर करवाया। जबकि जनता की मांग थी कि जहां भगवान राम का जन्म हुआ है, उसी जन्मभूमि पर राम मंदिर बनाया जाए। जब हम गए थे शिलान्यास करने तो इसी भाजपा समर्थित वीपी सिंह सरकार ने हमें कैद कर लिया था। हमने राम जन्मभूमि पुनर्निर्माण समिति बनाई और उसमें एक पक्ष बने। हमने सिद्ध कर दिया कि इस जन्मभूमि पर मस्जिद पहले भी कभी नहीं थी, आज भी नहीं है।

 

Q.  बांग्लादेशी शरणार्थी और रोहिंग्या मामले में सरकार के रुख पर आपकी क्या राय है?
A.
सरकार में ताकत है तो देश में जहां शरणार्थी आ रहे हैं, उन्हें वहीं बसवाओ। म्यांमार से रोहिंग्या निर्वासित हो रहे हैं तो उन्हें म्यांमार में ही बसवाना चाहिए।

 

Q.  दलितों में वर्तमान में बेहद असंतोष उभर रहा है? आपके प्रयास इस दिशा में क्या हैं?
A.
दलित समाज के अभिन्न अंग हैं। उनके साथ किसी प्रकार का अन्याय नहीं होना चाहिए। अगर हमारे पास भोजन है और दलित और हम दो ही खाने वाले हैं, तो हम चाहेंगे कि दलित पहले खाए। बचे तो हम खाएं। हम समझा रहे हैं और हम काम कर रहे हैं उनके बीच। हम दलितों-आदिवासियों के बीच जाते हैं, जाएंगे।

 

Q.  कांग्रेस नेता अब मंदिर, मठों की लगातार परिक्रमा कर रहे हैं, कांग्रेस में आया बदलाव कैसा है?
A.
मंदिर जाएं, आपत्ति नहीं है। इससे सिद्ध होता है कि भारत में अभी ऐसे लोग हैं, जो निर्णायक हैं और उनकी शरण में आपको जाना ही पड़ेगा। आज नहीं तो कल।

 

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें: आपके सामने जो संत भेष में हैं, दलों की दृष्टि में वो प्रचारक हैं- स्वामी निश्चलानंद...

Advertisement

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज पिछले समय से आ रही कुछ पुरानी समस्याओं का निवारण होने से अपने आपको बहुत तनावमुक्त महसूस करेंगे। तथा नजदीकी रिश्तेदार व मित्रों के साथ सुखद समय व्यतीत होगा। घर के रखरखाव संबंधी योजनाओं पर भ...

और पढ़ें

Advertisement