• Hindi News
  • जवानों के शवों में माओवादियों ने लगाया बम: पुलिस

जवानों के शवों में माओवादियों ने लगाया बम: पुलिस

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

झारखंड में पुलिस के मुताबिक लातेहार में माओवादियों और सुरक्षा बलों के बीच हुई मुठभेड़ के बाद जिन पांच जवानों के शव बरामद किये गए उनमे से तीन के शवों में माओवादियों नें विस्फोटक लगा दिए थे.

जबकि एक जवान के शव को हटाने के क्रम में हुए विस्फोट की वजह से चार ग्रामीण सहित पांच लोगों की मौत हो गई है. वहीं पोस्ट मार्टम के लिए रांची के सरकारी अस्पताल ले जाए शवों से भी डॉक्टरों ने विस्फोटक बरामद किया है.

इस घटना से पूरे पुलिस महकमे में खलबली मच गई है.

झारखंड के पुलिस महानिदेशक गौरी शंकर रथ का कहना है कि जब जवानों के शवों को पोस्ट मार्टम के लिए अस्पताल लाया गया तो उनके पेट पर टांके नज़र आ रहे थे. डाक्टरों को शक हुआ तो उन्होंने शव का एक्स-रे करवाया.

एक्स-रे में नज़र आया कि शवों के पेट में कोई चीज़ मौजूद है जिसमे तार जुड़े हुए हैं. अस्पताल में अफरा तफरी मच गई और फिर बम निरोधक दस्ते को बुलवाया गया.

पुलिस का कहना है कि ये प्रेशर बम था जो माओवादियों ने केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल के जवान के पेट को चीर कर उसमे रख दिया था.

मुठभेड़

सोमवार की रात सुरक्षाबलों और माओवादियों के बीच लातेहार के अमुवाटिकर के जंगलों में जमकर मुठभेड़ हुई थी कई जवान मारे गए थे.

मुठभेड़ में कई माओवादियों के मारे जाने की बात भी कही जा रही है. घटना के बाद सात जवानों के शवों को बरामद किया गया लेकिन पांच को लापता बताया गया था.

बुधवार को पुलिस को सूचना मिली कि उन पांचों जवानों के शव जंगल में पड़े हैं. इसके बाद पुलिस का एक दस्ता वहां पहुंचा और ग्रामीणों की मदद से शवों को लाने की प्रक्रिया शुरू की गई.

पुलिस का कहना है कि जैसे ही ग्रामीण और पुलिस के अधिकारी मारे गए जवानों के शवों को उठा रहे थे तब तक एक ज़ोरदार विस्फोट हुआ जिसमे चार ग्रामीण मारे गए थे और एक जवान की भी मौत हो गई.

पुलिस अधिकारियों नें बताया चूंकि जवानों के शव काफी देर तक वहां पड़े हुए थे इसलिए माओवादियों को विस्फोटक लगाने के लिए समय मिल गया.

माओवाद के इतिहास में ये अपनी तरह की पहली घटना है जब माओवादियों नें मारे गए जवानों के पेट चीर कर उसमे बम लगाए हों.

जबकि हाल ही में माओवादियों ने घोषणा की थी कि वो क्रूर तरीकों को अलविदा कह रहे हैं.

जांच कर रहे अधिकारियों का कहना है कि जवान के पेट में जो विस्फोटक लगाया गया था वो दरअसल प्रेशर बम थे जो हलके से दबाव से फट जाता.