--Advertisement--

जून में कोर सेक्टर 6.7% बढ़ा, सात महीने में सबसे ज्यादा ग्रोथ; इकोनॉमी में सुधार के संकेत

सीमेंट, रिफाइनरी और कोयला सेक्टर का अच्छा प्रदर्शन

Dainik Bhaskar

Aug 01, 2018, 11:08 AM IST
नवंबर 2017 में कोर सेक्टर की वृद् नवंबर 2017 में कोर सेक्टर की वृद्
नई दिल्ली. आठ कोर सेक्टर्स की ग्रोथ से अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत मिले हैं। जून में सीमेंट, रिफाइनरी और कोयला सेक्टर के प्रदर्शन के दम पर कोर सेक्टर की वृद्धि 6.7% के स्तर पर पहुंच गई,जो 7 महीने में सबसे ज्यादा है। बीते साल जून में यह आंकड़ा 1% रहा था। इन 8 सेक्टर्स में फर्टिलाइजर्स, स्टील, नैचुरल गैस, बिजली और क्रूड शामिल हैं। नवंबर, 2017 में कोर सेक्टर की वृद्धि 6.9% रही थी। वहीं इस साल मई में यह आंकड़ा 4.3% रह गया था।
वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, सीमेंट, रिफाइनरी प्रोडक्ट्स और कोयला सेक्टर की वृद्धि सालाना आधार पर क्रमशः 13.2%, 12% और 11.5% रही। क्रूड ऑयल और नैचुरल गैस सेक्टर के प्रोडक्शन में क्रमशः 3.4% और 2.7% की गिरावट दिखी। बिजली उत्पादन में 4% बढ़ोतरी दर्ज की गई, जबकि बीते साल 2.2% वृद्धि थी। स्टील सेक्टर में भी सुस्ती दर्ज गई जो घटकर 4.4% रह गई, बीते साल यह 6% थी। फर्टिलाइजर सेक्टर की वृद्धि महज 1% रही, जो बीते साल रही निगेटिव ग्रोथ से बेहतर है। 2018-19 की पहली तिमाही में 8 कोर इंडस्ट्रीज की वृद्धि 5.2% रही, बीते साल इसी अवधि में यह आंकड़ा 2.5% था।
सरकार के घाटे में सुधार : इस साल अप्रैल-जून में राजकोषीय घाटा 68.7 फीसदी रहा। पिछले साल यह 80.8% था। रकम के लिहाज से इस साल का घाटा 4.29 लाख करोड़ है। पूरे साल का लक्ष्य 6.24 लाख करोड़ का है। घाटे में सुधार ज्यादा रेवेन्यू से हुआ है। जून तिमाही में सरकार की सभी प्राप्तियां 2.78 लाख करोड़ रुपए । यह बजट अनुमान का 15.3 फीसदी है।

X
नवंबर 2017 में कोर सेक्टर की वृद्नवंबर 2017 में कोर सेक्टर की वृद्
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..