फर्जी दस्तावेज पर जुवेनाइल बना हत्या का आरोपी भी रिमांड होम की दीवार फांद भाग रहा था, मगर पैर फंसने पर पकड़ाया

News - ये अंधा कानून है... जेल से कई जुवेनाइल बनकर पहुंचे रिमांड होम, मंगलवार को भागा बाल कैदी भी 5 दिसंबर को जेल से हुआ था...

Jan 16, 2020, 07:40 AM IST
Ranchi News - juvenile accused of murder on the fake document was also running to the wall of the remand home but was caught on foot
ये अंधा कानून है... जेल से कई जुवेनाइल बनकर पहुंचे रिमांड होम, मंगलवार को भागा बाल कैदी भी 5 दिसंबर को जेल से हुआ था शिफ्ट

क्राइम रिपोर्टर| रांची

डुमरदग्गा स्थित रिमांड होम से मंगलवार की रात एक बाल कैदी दीवार फांदकर भाग निकला। उसके साथ फर्जी दस्तावेज पर जुवेनाइल बना कैदी अनमोल वर्मा उर्फ कांटी भी भाग रहा था। लेकिन उसकी बदकिस्मती थी कि भागने के दौरान उसका पैर दीवार में लगी जाली में फंस गया और वह पकड़ा गया। अगर वह भाग में सफल रहता तो दो हत्या के आरोपी वहां से फरार हो जाते।

रिमांड होम से फरार होने के बाद बुधवार को वहां निरीक्षण करने अधिकारी पहुंचे। पूरे मामले की जानकारी ली। वहां से भागने का प्रयास करने वाले दूसरे बाल कैदी अनमोल उर्फ कांटी को विशेष सुरक्षा में रखा गया है। ताकि फिर से वह भागने का प्रयास नहीं करे।

कार्यशैली पर सवाल... जानने की कोशिश नहीं की कि कैसे जुवेनाइल बना, प्रमाण पत्र असली थे या नहीं

मंगलवार की देर शाम वहां से वॉलीबाल की नेट जाली में फंसाकर 15 फीट ऊंची दीवार फांद एक बाल कैदी भाग निकला था। जो बाल कैदी भागा वह पांच दिसंबर को जुवेनाइल हुआ था। उसपर हत्या सहित कई आरोप हैं। लेकिन पुलिस ने यह पता करने की कोशिश नहीं की कि वह कैसे जुवेनाइल बना और जुवेनाइल बनने के लिए उसने जो प्रमाण पत्र दिए वे असली थे या नहीं।

अनमोल वर्मा उर्फ कांटी का जुवेनाइल रद्द कराने की प्रक्रिया शुरू की गई

इधर, बुधवार को दो नृशंस हत्या का आरोपी अनमोल वर्मा उर्फ कांटी के जुवेनाइल रद्द करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। सदर डीएसपी दीपक कुमार ने इस संबंध में पुलिस अधिकारियों को बुधवार को डुमरदग्गा स्थित रिमांड होम भेजा था। उसके जुवेनाइल रद्द करने का आवेदन कोर्ट में दिया जाएगा। इससे पहले अप्रैल 2019 में पहली बार फर्जी दस्तावेज के आधार पर जब वह जुवेनाइल बना था तब सुखदेवनगर पुलिस ने असली दस्तावेज कोर्ट में देकर जुवेनाइल रद्द करवाया था। उसी को गोंदा पुलिस भी आधार बना रही है।

रिमांड होम में 10 से अधिक कैदी बनकर आ गए हैं

डुमरदग्गा रिमांड होम में 10 से अधिक कैदी जुवेनाइल बनकर आ गए हैं, जो लगातार वहां से भागने का प्रयास कर रहे हैं। ये वे बाल कैदी हैं जिन पर कई संगीन आरोप हैं। इसमें हत्या, दुष्कर्म, आर्म्स एक्ट सहित कई मामले शामिल हैं। हाल के दिनों में तीन बाल कैदी डुमरदग्गा रिमांड होम से फरार हो चुके हैं।

खबर का असर

एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट की वेबसाइट में पुलिस मुख्यालय ने किया सुधार

रांची| पुलिस मुख्यालय ने भास्कर में खबर छपने के बाद कि पहले वेबसाइट तो अपडेट करे, फिर एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट (एएचटीयू) को मजबूत बनाए... में सुधार कर लिया गया है। वेबसाइट पर राज्य के सभी एएचटीयू के जो वर्तमान प्रभारी हैं, उनके नाम अपडेट कर दिए गए हैं। इससे पहले लंबे समय से वेबसाइट पर उन अधिकारियों को नाम थे, जो लंबे समय से सेवानिवृत हो चुके है। दूसरे राज्यों में यहां के बेटियों को ले जाकर बेचा जा रहा है। ऐसे में अगर कोई झारखंड की बच्ची दूसरे राज्य में मिलती है तो गलत नाम कि वजह से संबंधित अधिकारी से संपर्क तक नहीं कर सकता।

X
Ranchi News - juvenile accused of murder on the fake document was also running to the wall of the remand home but was caught on foot
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना