कामडारा : दिहाड़ी मजदूराें की टाेली पैदल ही रांची से वापस अपने गांव लाैटे

Gumla News - वैश्विक महामारी कोरोना वायरस ने दिहाड़ी मजदूरी कर जीवन यापन करने वाले मजदूरों की कमर तोड़ दी। वहीं लॉक डाउन लागू...

Mar 27, 2020, 07:51 AM IST
Simdega News - kamdara daily wage workers walk back from ranchi to their village latte

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस ने दिहाड़ी मजदूरी कर जीवन यापन करने वाले मजदूरों की कमर तोड़ दी। वहीं लॉक डाउन लागू होते ही उन्हें अपने गांव तक जाने के लिये पैदल ही सफर करना पड़ रहा है।

ऐसा ही एक दृश्य गुरूवार कामडारा प्रखंड के तुरबूल मोड़ के समीप मुख्य पथ पर देखने को मिला जो पिछले दो दिनों से भूखे-प्यासे अपने गांव जलडेगा की ओर बढ़ रहे हैं। जानकारी के अनुसार सिमडेगा जिले के जलडेगा, कोलोमडेगा, नवाटोली सहित अन्य गांवों के दर्जनों ग्रामीण रांची के हटिया रेलवे स्टेशन के निकट किराये के मकानों पर रहकर रोजाना दिहाड़ी कार्य कर अपना जीवनयापन करते हैं। परंतु संक्रमित कोरोना वायरस की आहट के बाद देश मे लॉकडाउन लागू होते ही उन्हें काम मिलना बंद हो गया। जो पैसे उनके पास थे वो भी समाप्त हो गया तो वे सभी मजदूर अपने गांव की राह पैदल ही पकड़ ली। चूंकि लॉकडाउन के वजह से ट्रेन व बसों का परिचालन भी ठप हो गई है। मजदूर इंद्रजीत बड़ाईक ने बताया कि वे सभी लोग बुधवार को दिन के 12 बजे हटिया से निकले थे और रात्री विश्राम गोविंदपुर रेलवे स्टेशन के निकट बिताया। कहीं पर कोई भी दुकान खुली हुई नही थी जिसके कारण रातभर उन्हें भूखे -प्यासे रहना पड़ा।वहीं आज गुरुवार को उक्त सभी लोग तुरबूल बाजार टांड़ के निकट “दैनिक भास्कर,के साथ मुलाकात होते ही कहा कि वे लोग रात तक मंे अपने गांव पहुंच जाएंेगे। इस दौरान मजदूर टुनू बड़ाईक, दामोदर भोगी, सुकरा भोगी सहित अन्य लोग साथ में थे।

पैदल सफर करते दिहाड़ी मजदूर

X
Simdega News - kamdara daily wage workers walk back from ranchi to their village latte

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना