झाड़ियों में छिप गया खलारी तालाब, करोड़ों खर्च के बाद भी पर्यटक स्थल बनाने का प्रयास विफल

News - खलारी तालाब केन्द्रीय पर्यटन विभाग द्वारा लाखों रुपए की लागत से सुन्दरीकरण किए जाने के बाद उचित रखरखाव के अभाव...

Oct 13, 2019, 07:20 AM IST
Khalari News - khalari pond hidden in bushes attempts failed to make tourist spot even after spending crores
खलारी तालाब केन्द्रीय पर्यटन विभाग द्वारा लाखों रुपए की लागत से सुन्दरीकरण किए जाने के बाद उचित रखरखाव के अभाव में झाड़ियों में छिप गया है। इसके साथ ही तालाब के चारो ओर बनाए गए कंक्रीट पथ के दोनों ओर बड़ी-बड़ी झाड़ियां उगी हैं और गंदगी फैला हुआ है। बेतरतीब तरीके से उगी झाड़ियां मोर्निंग वाक करने वाले लोगो के लिये परेशानी का कारण है।

सरकार द्वारा पर्यटन के लिए विकसित किए जाने के बावजूद यहां प्रकाश की कोई व्यवस्था नहीं है। प्रकाश व्यवस्था नही रहने के कारण शाम में लोग वहां नही जाते ंहै। अंधेरे के कारण शाम होते ही वहां नशेड़ियों का अड्डा में तब्दील हो जाता है। सुबह में तालाब के चारो ओर बनी टाइल्स लगी सीढ़ियों और आसपास शराब की बोतलें पड़ी रहती है। करोड़ों खर्च के बाद भी पर्यटन के ये स्थल पर्यटकों को तो नहीं लुभा रहे। इस तालाब का रख-रखाव और सुरक्षा कौन करेगा, यह अब तक सुनिश्चित नहीं है।इंडियन टूरिज्म डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड द्वारा खलारी तालाब को पर्यटक स्थल विकसित करने का प्रयास पूरी तरह से विफल दिखाई दे रहा है।

वर्ष 2012 में तत्कालीन केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय के पहल पर केंद्रीय पर्यटन विभाग ने रांची मेगा टूरिस्ट सर्किट के तहत राज्य के रांची, सरायकेला-खरसावां के बीच 34 पर्यटन स्थलों के विकास और उनके सुन्दरीकरण के लिए करीब पचास करोड़ रूपए की स्वीकृति दी थी। खलारी प्रखंड के खलारी तालाब, हेसालौंग तालाब तथा दुल्ली सर्वधर्म स्थल का सुन्दरीकरण का काम इन्हीं कामों में शामिल था। खलारी प्रखण्ड के पूरे प्रोजेक्ट का प्राक्कलित राशि लगभग तीन करोड़ रुपए थी।

खलारी तालाब, जहां आईटीडीसी के सुन्दरीकरण के बाद उगी झाड़ियां।

X
Khalari News - khalari pond hidden in bushes attempts failed to make tourist spot even after spending crores

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना