--Advertisement--

शिवपुराण में भगवान शिव ने स्वयं बताए हैं मौत के ये 10 संकेत

वैसे तो भगवान शिव से संबंधित अनेक धर्मग्रंथ प्रचलित हैं, लेकिन शिवपुराण उन सभी में सबसे अधिक प्रामाणिक माना गया है।

Danik Bhaskar | Apr 19, 2018, 04:57 PM IST

रिलिजन डेस्क. वैसे तो भगवान शिव से संबंधित अनेक धर्मग्रंथ प्रचलित हैं, लेकिन शिवपुराण उन सभी में सबसे अधिक प्रामाणिक माना गया है। इस ग्रंथ में भगवान शिव ने माता पार्वती को मृत्यु के संबंध में कुछ ऐसे संकेत बताए हैं, जो बहुत कम लोग जानते हैं। इन संकेतों को समझकर यह जाना जा सकता है कि किस व्यक्ति की मौत कितने समय में हो सकती है। आज हम आपको उन्हीं संकेतों को बारे में बता रहे हैं-

1. यदि अचानक किसी व्यक्ति की शरीर पीला या सफेद पड़ जाए या उसके शरीर पर लाल निशान दिखाई दें तो उसकी मृत्यु 6 महीने के अंदर हो सकती है।

2. जिस मनुष्य का मुंह, कान, आंख और जीभ ठीक से काम न करे, उसके जीवन के 6 महीने ही बचे हो सकते हैं।

3. यदि किसी व्यक्ति का मुंह और गला बार-बार सूखने लगे तो उसकी मृत्यु 6 महीने के अंदर संभव है।

4. जब किसी का बायां हाथ लगातार फड़कता रहे, तालू सुख जाए तो उसकी मृत्यु एक महीने के अंदर हो सकती है।

5. जिसे चंद्रमा व सूर्य के आस-पास काला या लाल घेरा दिखाई देने लगे, उसकी मृत्यु 15 दिन के अंदर हो सकती है।

6. जिसे चंद्रमा और तारे ठीक से न दिखाई दें या काले दिखाई दें, उसकी मृत्यु एक महीने में हो सकती है।

7. जिस व्यक्ति को अचानक नीली मक्खियां घेर लें, हो सकता है उसकी आयु लगभग 1 महीना ही बची हो।

8. जिस मनुष्य के सिर पर गिद्ध, कौआ या कबूतर आकर बैठ जाए, उसकी मृत्यु 1 महीने के अंदर हो सकती है।

9. जब किसी व्यक्ति को पानी, तेल, घी और दर्पण में अपनी परछाई दिखाई न दे तो उसकी आयु 6 माह ही शेष हो सकती है।

10.किसी व्यक्ति को अपनी परछाई बिना सिर के दिखाई दे तो उसकी मृत्यु 6 महीने के अंदर हो सकती है।

चित्र- शिवपुराण ग्रंथ में पेज नं. 598 पर बताए गए हैं मृत्यु से जुड़े संकेत चित्र- शिवपुराण ग्रंथ में पेज नं. 598 पर बताए गए हैं मृत्यु से जुड़े संकेत