--Advertisement--

IPL मैच में कुलदीप यादव का धमाल, कभी बना चुके थे सुसाइड करने का मन

कुलदीप ने T20I करियर में अबतक 8 मैच खेले हैं, जिसमें कुल 12 विकेट लिए हैं। उनकी बेस्ट परफॉर्मेंस 3/52 विकेट रही है।

Danik Bhaskar | May 16, 2018, 02:56 AM IST
कुलदीप यादव ने राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ 20 रन देकर 3 विकेट लिए। ये उनके IPL करियर की बेस्ट और इस IPL सीजन की दूसरी बेस्ट परफॉर्मेंस है। कुलदीप यादव ने राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ 20 रन देकर 3 विकेट लिए। ये उनके IPL करियर की बेस्ट और इस IPL सीजन की दूसरी बेस्ट परफॉर्मेंस है।

स्पोर्ट्स डेस्क. IPL 2018 के 49वें मैच में कोलकाता नाइटराइडर्स ने राजस्थान रॉयल्स को 6 विकेट से हरा दिया। मैच में टीम की जीत के हीरो स्टार बॉलर कुलदीप यादव बने, जिन्होंने कमाल की बॉलिंग करते हुए 20 रन देकर 4 विकेट झटके और राजस्थान रॉयल्स की बैटिंग लाइनअप की कमर तोड़कर रख दी। ये IPL करियर में उनकी बेस्ट बॉलिंग रही, जिसके बाद उन्हें 'प्लेयर ऑफ द मैच' चुना गया। क्रिकेट की दुनिया में आज बुलंदियों को छू रहे कुलदीप एक वक्त पर इतने डिप्रेशन में आ गए थे कि उन्होंने सुसाइड करने तक का मन बना लिया था, हालांकि वो उस वक्त काफी छोटे थे। जब आया था सुसाइड का ख्याल...

- पिछले साल एक इवेंट में लखनऊ पहुंचे कुलदीप यादव ने वहां बातचीत के दौरान अपनी लाइफ से जुड़ी एक बेहद अहम बात का खुलासा किया था।
- कुलदीप ने बताया था, कि जब वे 13 साल के थे, तब उन्होंने यूपी अंडर-15 स्टेट टीम के लिए ट्रायल्स दिया था, और वहां सिलेक्शन नहीं होने पर सुसाइड करने का मन बना लिया था।
- चाइनामैन बॉलर के मुताबिक, 'अंडर-15 टीम में पहुंचने के लिए मैंने जी-तोड़ मेहनत की थी, लेकिन जब वहां मेरा सिलेक्शन नहीं हुआ, तो मैं अंदर से काफी टूट गया। इसके बाद मेरे मन में सुसाइड का ख्याल तक आ गया था।'
- इतना ही नहीं कुलदीप ने उस वक्त क्रिकेट छोड़ने के बारे में सोच लिया था। हालांकि इसके बाद उनके पिता ने उन्हें काफी समझाया तब जाकर उन्होंने अपना फैसला बदला था।

ले चुके हैं वनडे में हैट्रिक

- भारत के इकलौते चाइनामैन बॉलर कुलदीप डोमेस्टिक क्रिकेट में यूपी से तो वहीं IPL में कोलकाता नाइटराइडर्स टीम से खेलते हैं।
- कुलदीप ने पिछले साल सितंबर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हुए कोलकाता वनडे में हैट्रिक ली थी। वे ऐसा करने वाले भारत के तीसरे बॉलर बने थे।
- कुलदीप ने इससे पहले अंडर-19 वर्ल्ड कप में भी हैट्रिक लेने का कारनामा किया था।

अपने माता-पिता के साथ कुलदीप। कुलदीप के पिता क्रिकेट के बहुत बड़े फैन हैं। अपने माता-पिता के साथ कुलदीप। कुलदीप के पिता क्रिकेट के बहुत बड़े फैन हैं।

यूपी के छोटे से गांव में हुआ जन्म

 

- कुलदीप का जन्म यूपी के उन्नाव जिले के एक छोटे से गांव में 14 दिसंबर 1994 को हुआ। उनके पिता उस वक्त ईंट भट्टा चलाते थे। 
- उनके पिता भी क्रिकेट के जबरदस्त फैन हैं, इसी वजह से उन्होंने कुलदीप के जन्म के वक्त ही उसे क्रिकेटर बनाने का सोच लिया था। 
- कुलदीप के मुताबिक, 'मुझे क्रिकेट बिल्कुल पसंद नहीं था। बस फ्रेंड्स के साथ टेनिस बॉल से खेलता था। मैं पढ़ाई में काफी अच्छा था।'
- कुछ साल बाद बेटे का करियर बनाने के लिए उनके पिता कानपुर शिफ्ट हो गए और उन्होंने कुलदीप को लोकल क्रिकेट क्लब में भेजना शुरू कर दिया।

बहन की इंगेजमेंट पार्टी के दौरान उससे बात करते हुए कुलदीप। बहन की इंगेजमेंट पार्टी के दौरान उससे बात करते हुए कुलदीप।

बनना चाहते थे फास्ट बॉलर

 

- कुलदीप अपने बचपन में आम बच्चों की तरह मौज-मस्ती के लिए ही क्रिकेट खेलते थे, लेकिन उनके पिता चाहते थे कि वे क्रिकेट में कुछ स्पेशल करें। इसी वजह से उन्होंने कुलदीप को काफी कम उम्र में ही क्रिकेट कोचिंग के लिए भेजना शुरू कर दिया था।
- शुरुआती दिनों में कुलदीप फास्ट बॉलर बनना चाहते थे। लेकिन कोच ने उनके टैलेंट का देखते हुए स्पिन बॉल करने के लिए कहा।
- कुछ ही वक्त में कुलदीप अच्छी स्पिन करने लगे, जिसके बाद अपनी बॉल को और धारदार बनाने के लिए वे शेन वॉर्न के वीडियो देख बॉल करना सीखने लगे।

- कुलदीप उस दिन को बेहद खास मानते हैं, जब शेन वॉर्न ने फोन करते हुए उनकी बॉलिंग की तारीफ की थी।

 

विराट और अनुष्का के रिसेप्शन में बाकी क्रिकेटर्स के साथ कुलदीप (बाएं से दूसरे)। विराट और अनुष्का के रिसेप्शन में बाकी क्रिकेटर्स के साथ कुलदीप (बाएं से दूसरे)।

वसीम अकरम ने टैलेंट को पहचाना

 

- शुरुआती दौर में कुलदीप की सबसे बड़ी सफलता 2014 में हुए ICC अंडर-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप के लिए सिलेक्शन होना था।
- अंडर-19 वर्ल्ड कप में उन्होंने स्कॉटलैंड के खिलाफ हैट्रिक लेकर कमाल कर दिया। वे अंडर-19 वर्ल्ड कप में ऐसा करने वाले पहले इंडियन थे। 
- उनकी इसी परफॉर्मेंस को देखकर वसीम अकरम उनसे इम्प्रेस हुए थे। जिसके बाद उन्होंने IPL ऑक्शन में उन्हें KKR के लिए खरीदा था।

एमएस धोनी के साथ कुलदीप। पास में भुवनेश्वर कुमार भी खड़े हैं। एमएस धोनी के साथ कुलदीप। पास में भुवनेश्वर कुमार भी खड़े हैं।

टीम में लेने पर कोच से झगड़े थे विराट

 

- कुलदीप यादव ही वो प्लेयर हैं, जिन्हें टेस्ट मैच में खिलाने को लेकर विराट कोहली तत्कालीन कोच रहे अनिल कुंबले से झगड़ पड़े थे।
- मार्च, 2017 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज के चौथे और आखिरी मैच में कुलदीप ने टेस्ट डेब्यू करने के साथ ही अपने इंटरनेशनल करियर की शुरुआत की थी।
- उस मैच में चोट के कारण विराट कोहली नहीं खेल रहे थे। वो अपनी जगह टीम में स्पिनर अमित मिश्रा को चाहते थे। वहीं, कोच रहे अनिल कुंबले की पसंद कुलदीप यादव थे।
- तब कुंबले ने विराट को बिना बताए प्लेइंग इलेवन में कुलदीप का नाम फाइनल कर दिया था। विराट इस बात से काफी नाराज हो गए थे, दोनों के बीच बोलचाल भी हो गई थी।
- इस बात का खुलासा तब हुआ था, जब चैम्पियंस ट्रॉफी के बाद विराट-कुंबले के बीच मनमुटाव की बात सार्वजनिक हुई थी।

एमएस धोनी और विराट कोहली के साथ कुलदीप। एमएस धोनी और विराट कोहली के साथ कुलदीप।

सचिन ने दिखाया इतना बड़ा सपना

 

- एक इंटरव्यू के दौरान कुलदीप ने खुलासा करते हुए बताया था कि उन्हें अबतक का बेस्ट कॉम्प्लीमेंट मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर से मिला है।
- कुलदीप के मुताबिक 'टेस्ट डेब्यू के बाद मुझे सचिन सर का कॉल आया था, उन्होंने मुझसे कहा, कि मेरा टारगेट 500 टेस्ट विकेट लेना होना चाहिए। जिसके बाद मुझे लगा कि अगर खुद क्रिकेट का 'भगवान' मुझसे इतनी ज्यादा उम्मीद कर रहा है, तो जरूर कुछ ना कुछ वजह होगी।'
- यादव ने बताया, 'मुझे भरोसा नहीं हो रहा था कि तेंडुलकर ने सच में मुझे कॉल किया था। मैं उस वक्त भी बेहद खुश हो गया था, जब शेन वॉर्न ने मुझे कॉल करके मेरी तारीफ की थी।'
- कुलदीप ने इस साल मार्च में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलते हुए अपना टेस्ट डेब्यू किया था। वहीं उन्होंने वनडे डेब्यू जून 2017 में वेस्ट इंडीज के खिलाफ खेलते हुए किया। टी20 डेब्यू भी वेस्ट इंडीज के खिलाफ जून 2017 में किया था।

कोलकाता नाइटराइडर्स के ओनर शाहरुख खान के साथ कुलदीप। कोलकाता नाइटराइडर्स के ओनर शाहरुख खान के साथ कुलदीप।

गंभीर को मानते हैं अपना मेंटर

 

- कुछ वक्त पहले दिए एक इंटरव्यू में कुलदीप ने कहा था, ‘मैं गौती भाई (गौतम गंभीर) का हमेशा शुक्रगुजार रहूंगा। उन्होंने उस वक्त मेरा सपोर्ट किया जब मुझे कोई जानता तक नहीं था। उन्होंने लगातार मुझे मौके दिए। उनके अंडर में मेरी जर्नी बहुत शानदार रही। मैं हमेशा तीनों फॉर्मेट में टीम इंडिया के लिए खेलना चाहता था, लेकिन इस सपने को पूरा करने के लिए मुझे गंभीर जैसे ही किसी खिलाड़ी के गाइडेंस की जरूरत थी।’
- केकेआर के असिस्टेंट कोच विजय दहिया के अनुसार, ‘कुलदीप का करियर बनाने में गंभीर का अहम रोल है। उन्हें लगता था कि कुलदीप मैच विनर हैं। उन्होंने आईपीएल के नए सीजन से पहले कुलदीप को तैयार किया, जिससे वो टीम के लिए मैच विनर बन सकें।’

शेन वॉर्न और अनिल कुंबले के साथ कुलदीप यादव। शेन वॉर्न और अनिल कुंबले के साथ कुलदीप यादव।

गंभीर ने दिए खूब मौके

 

- कुलदीप यादव को सबसे पहले 2012 में आईपीएल टीम मुंबई इंडियन्स ने खरीदा, लेकिन उन्हें एक भी मैच में खेलने का मौका नहीं मिला।
- 2014 में वो कोलकाता नाइटराइडर्स की टीम में थे। उस साल चैम्पियंस लीग टी20 में कप्तान गौतम गंभीर ने उन्हें प्लेइंग इलेवन में लगातार मौके दिए।
- ये टूर्नामेंट कुलदीप की लाइफ में टर्निंग प्वाइंट साबित हुआ। उन्होंने अपनी टीम को फाइनल तक ले जाने में अहम भूमिका निभाई। इसके बाद ही कुलदीप को दलीप ट्रॉफी और अन्य बड़े घरेलू टू्र्नामेंट में खेलने का मौका मिला।

सचिन तेंडुलकर के साथ कुलदीप। सचिन तेंडुलकर के साथ कुलदीप।
रोहित शर्मा और युजवेंद्र चहल के साथ कुलदीप यादव (दाएं से पहले)। रोहित शर्मा और युजवेंद्र चहल के साथ कुलदीप यादव (दाएं से पहले)।
सुरेश रैना और शिखर धवन (दाएं) के साथ कुलदीप। सुरेश रैना और शिखर धवन (दाएं) के साथ कुलदीप।
मैच में विकेट मिलने की खुशी मनाते हुए कुलदीप। मैच में विकेट मिलने की खुशी मनाते हुए कुलदीप।

Related Stories