पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • 20 आंगनबाड़ी केंद्र होंगे मॉडल केंद्र के रूप में विकसित

20 आंगनबाड़ी केंद्र होंगे मॉडल केंद्र के रूप में विकसित

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
दौसा | बच्चों को अच्छी शिक्षा व बेहतर वातावरण देने के लिए जिले में 20 आंगनबाड़ी केंद्रों को मॉडल केंद्रों के रूप में विकसित किया जाएगा। इसके लिए राज्य सरकार व टाटा ट्रस्ट के मध्य अनुबंध हुआ है।

समेकित बाल विकास सेवाओं के सुदृढ़ीकरण के लिए आओ सुनिश्चित करें कार्यक्रम के तहत राज्य सरकार व टाटा ट्रस्ट के सहयोग से जिले में प्रथम चरण में 20 आंगनबाड़ी केंद्रों को मॉडल केंद्र के रूप में विकसित किया जा रहा है। इनमें मित्रपुरा, पाडली, भामोरिया का बास व बावड़ी दरवाजा भांडारेज आंगनबाड़ी केंद्र के भवन का रंगाई-पुताई का कार्य पूर्ण हो गया। इन केंद्रों पर मनमोहक चित्रकारी व चाइल्ड फ्रेंडली वातावरण की झलक देखने को मिलेगी। टाटा ट्रस्ट के जिला कार्यक्रम अधिकारी पर्वत सिंह राठौड़ व आईसीडीएस विभाग के उपनिदेशक ओमप्रकाश वशिष्ठ का कहना है कि आंगनबाडिय़ों का कार्य जल्द पूर्ण किया जाएगा। बच्चों को बेहतर शिक्षा व पोषण देने के लिए सभी आंगनबाडिय़ों की लगातार विजिट की जाएगी। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को समय-समय पर प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।

दौसा. मॉडल आनंगनबाड़ी केंद्र मित्रपुरा का भवन।

मॉडल केंद्रों में ये होंगी सुविधाएं

जिले में 20 आंगनबाड़ी केंद्रों पर सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। केंद्रों में रंग-बिरंगी शिशु टेबल, साफ पानी, खिलौने व शिक्षा संबंधित चार्ट भी उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके साथ इन आंगनबाड़ी केंद्रों पर सामुदायिक जागरूकता पर ध्यान दिया जाएगा। लोगों को आंगनबाड़ी केंद्रों को सहयोग देने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

इन केंद्रों का किया चयन

जिले में मॉडल केंद्र के रूप में विकसित करने के लिए प्रथम चरण में 20 आंगनबाड़ी केंद्रों का चयन किया गया है। इनमें दौसा ग्रामीण परियोजना के पूर्वियावास द्वितीय, चांदराना द्वितीय, सैंथल प्रथम, मित्रपुरा, पाडली, भामोरियों का बास भांडारेज व बावड़ी दरवाजा भांडारेज, बांदीकुई प्रथम परियोजना के गुढ़ा आशिकपुरा व गोलाड़ा द्वितीय, बांदीकुई द्वितीय परियोजना के गादंडी, उपरला बास, सोमाड़ा व श्यालावास कलां, महवा के टीकरी कलानोत, गढ़ हिम्मतसिंह तृतीय व पाटोली द्वितीय, सिकराय के सिकंदरा प्रथम व सिकराय द्वितीय एवं लालसोट परियोजना के तलावगांव व बीलका केंद्र का चयन किया गया है।

द्वितीय चरण में 30 केंद्रों का होगा चयन

महिला एवं बाल विकास विभाग दौसा के उपनिदेशक ओमप्रकाश वशिष्ठ का कहना है कि जिले में प्रथम चरण में 20 आंगनबाड़ी केंद्रों का चयन किया गया है। टाटा ट्रस्ट द्वारा इन केंद्रों को विकसित किया जा रहा है। द्वितीय चरण में जिले में 30 आंगनबाड़ी केंद्रों का चयन किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...