पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बिना आरसी दौड़ रही निगम की जेसीबी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बठिंडा| नगर निगम के अधिकारियों के पास इतना भी समय नहीं है कि वह व्हीकल और मशीनरी की आरसी बनवा उसे अपने नाम पर करवा सके। 2 साल पहले खरीदी गई जेसीबी की आज तक न तो आरसी बनवाई है और न ही उसे पक्का नंबर लगवाकर अपने नाम पर करवाई है। 2 साल से निगम अधिकारी और कर्मचारी टपेरेली नंबर पर जेसीबी मशीन को दौड़ा रहे हैं। नियमों की बात करे तो नया व्हीकल लेने के बाद उसे टंेपेरेरी नंबर जारी किया जाता है। टंेपेरेरी नंबर लेने के बाद वाहन का पक्का नंबर लेने और आरसी बनाने के लिए करीब 2 माह का समय होता है। इन दो महीने के भीतर आरसी बनवाकर व्हीकल का पक्का नंबर लेना लाजिमी होता है। अगर ऐसा नहीं करता है, उसका चालान भी किया जा सकता है। नगर निगम बठिंडा पूर्व दो सालों से ट्रैफिक नियमों की उल्लंघना कर रहा है। बताते चले कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत 16 नवंबर 2016 को निगम की सेनेटरी ब्रांच ने एक जेसीबी मशीन खरीदी थी। जिसे ट्रांसपोर्ट विभाग ने लुधियाना का टंपरेरी नंबर जारी किया था। बिना आरसी व पक्का नंबर के जेसीबी मशीन नगर निगम के नाम पर नहीं है। ऐसे में अगर जेसीबी किसी दुर्घटनाग्रस्त होती है या उसका कोई अन्य नुकसान होता है। इसकी जिम्मेवारी किस की होगी।

खबरें और भी हैं...