पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Bathinda
  • नारद जी के श्राप से भगवान विष्णु श्रीराम रूप में नारी के वियोग में वन वन भटके

नारद जी के श्राप से भगवान विष्णु श्रीराम रूप में नारी के वियोग में वन-वन भटके

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
श्री ज्वाला माता मंदिर ट्रस्ट ने सावन पर्व के उपलक्ष्य में श्री शिव महापुराण अमर कथा करवा रहा है। इस मौके पर आचार्य सच्चिदानंद महाराज ने कहा कि नारद जी ने तपस्या से कामदेव को जीतने के बाद भगवान शिव, ब्रह्मा, विष्णु को अहंकार से बताया कि उनकी तपस्या से कामदेव हार गए। फिर शीलनिधि राजा की राजकुमारी पर मोहित होकर विष्णु जी का रूप मांगकर स्वयंवर स्थल पर पहुंचे और सिंहासन पर जा बैठे। विष्णु जी के आते राजकुमारी ने माला विष्णु जी के गले में डाल दी। वहां दो शिवगणों ने जब नारद जी का मुख बंदर का देखा तो हंसते हुए उन्हें दर्पण में अपना चेहरा देखने को कहा। नारद जी ने अपना मुंह बंदर का देखा तो श्राप दिया कि वो जिस नारी के वियोग में जल रहे हैं, उन्हें भी नारी के वियोग में वन-वन भटकना पड़ेगा। इस श्राप के कारण विष्णु जी को राम रूप में सीता के वियोग वन वन भटकना पड़ा। शिव गणों को श्राप दिया कि वे राक्षस बनो, तब वे रावण बने और बंदर व मनुष्य के हाथों से मुक्त हुए। श्री ज्वाला माता मंदिर ट्रस्ट के चेयरमैन हितेश गोयल, सदस्य दर्शन लाल गर्ग, कुलवंत राय अग्रवाल, डॉ. रविनंदन गौड़, विजय कुमार भिखी, सुरेश पाल गर्ग, डॉ रविंदर सिंगला, पुरुषोत्तम बांसल, प्रो.बीआर गोयल, साधूराम समेत महिला मंडल समेत शहर के गणमान्य नागरिकों ने कथा का श्रवण किया। जवाहर लाल खुराना ने भजन गाकर संगतों को निहाल किया।

श्री वैष्णो माता विद्या मंदिर के मासिक हनुमान संकीर्तन में झूमे श्रद्धालु

बठिंडा| दिव्य ज्योति जागृति संस्थान ने अजीत रोड गली नं. 8 के श्री वैष्णो माता विद्या मंदिर में श्री हनुमान जी का मासिक संकीर्तन करवाया गया। साध्वी संदीप भारती, हरजोत भारती, परमजीत भारती ने बालाजी के भजनों से श्री हनुमान जी की महिमा का गुणगान किया। उन्होंने सतगुरु मैं तेरी पतंग, कदमों में तेरे दाता मेरी उम्र बीत जाए समेत कई भजन गाए जिन पर मंत्रमुग्ध लोग झूमने लगे। संकीर्तन में आसपास के मोहल्ले के श्रद्धालुओं ने शिरकत की। संकीर्तन के बाद में मंदिर में चने पूरी और हलवे का लंगर लगाया गया। मंदिर के प्रधान गोपाल बांसल, लवनीश जिंदल, भारत भूषण, पंकज जिंदल, विवेक गर्ग नंबरदार, सुमित गुप्ता, डॉ गौरव जैन, पुष्पिंदर बांसल, विमल अग्रवाल समेत अनेक श्रद्धालु शामिल हुए।

खबरें और भी हैं...