पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • आकाशीय बिजली गिरने से किसान की मौत, बयाना, डीग और नगर में पड़े ओले

आकाशीय बिजली गिरने से किसान की मौत, बयाना, डीग और नगर में पड़े ओले

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
उत्तरी पाकिस्तान पर पनपे पश्चिमी विक्षोभ का खासा असर शुक्रवार शाम भरतपुर जिले में भी देखने को मिला। कई दिनों से पड़ रही तेज गर्मी के बाद शुक्रवार शाम 7 बजे अचानक मौसम न पलटा खाया और तीन घंटे तक रुक-रुक कर बरसात का दौर चला तथा ओले भी पड़े। वहीं आकाशीय बिजली गिरने से रुदावल क्षेत्र में कुरका गांव में एक किसान की मौत भी हुई है।

इस दौरान करीब 10 -11 मिलीलीटर बरसात होने की संभावना जताई गई है। जिले में बदले मौसम के कारण अधिकतम तापमान में 2 डिग्री की गिरावट आई है। वहीं बरसात के चलते आमजन को गर्मी से भी राहत मिली है। यकायक आसमान से आफत बनकर बरसी बारिश ने किसानों के होश उड़ा दिए। बारिश का कहर गेहूं की फसल पर देखा गया है। शाम से लेकर देर रात तक आसमान से बादलों की गरज के अलावा बिजली की चमक भी दिखाई पड़ी। वहीं नगर, रूपवास व बयाना में हल्के ओले भी पड़ने की जानकारी मिली है। मौसम विभाग की मानें तो 10 अप्रैल तक मौसम के खराब रहने की संभावना है, लेकिन अगले तीन दिनों में बारिश कम ही पड़ेगी।

गेहूं को फसल को 15 प्रतिशत तक हुआ नुकसान
जिले में इस वर्ष करीब 7 लाख हैक्टेयर में रबी की फसल की बुवाई हुई है। इसमें से 1 लाख 60 हजार हैक्टेयर में गेहूं की फसल, 40 हजार हैक्टेयर में जौ, चना, आलू की फसल की बुआई हुई है। वहीं 2 लाख हैक्टेयर में सरसों की फसल की बुवाई हुई। बेमौसम बारिश ने खासतौर पर गेहूं की फसल को प्रभावित किया है। करीब 25 प्रतिशत गेहूं को छोड़ अधिकांश किसानों की फसल या तो खेतों में खड़ी हुई है या कटी हुई पड़ी है। कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक देशराज सिंह ने बताया फसल को करीब 10 से 15 प्रतिशत तक नुकसान की आशंका है।

रीको एरिया में दो घंटे बिजली आपूर्ति बाधित : बारिश के दौरान शहर के कई इलाकों की बिजली आपूर्ति 15 मिनट से 2 घंटे तक प्रभावित रही। वहीं रीको के दो फीडर एवं रणजीत नगर फीडर क्षेत्र की बिजली आपूर्ति करीब 2 घंटे तक ठप रहने से उपभोक्ता परेशान हुए। वहीं शहर के कई इलाकों में भी आपूर्ति बंद रही।

भरतपुर. शुक्रवार की रात शहर में हुई झमाझम बारिश।

मंडियों में कई बोरी फसल भीगी: बारिश से खासकर मंडियों में आई सरसों की फसल भीग गई। यकायक आई बरसात से शहर की नई मंडी, अनाज मंडी सहित तहसील क्षेत्र कुम्हेर, डीग, बयाना, नदबई आदि की मंडियों में किसान सरसों की फसल बिक्री के लिए लाए थे, जो बरसात से भीग गई।

खबरें और भी हैं...