पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • संवारने की जरूरत इसलिए... दूसरे भवनों से कमतर न दिखे

संवारने की जरूरत इसलिए... दूसरे भवनों से कमतर न दिखे

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
 भोपाल  28.2  24.0 इंदौर  27.4  22.7 ग्वालियर  34.4  22.5 जबलपुर  29.1  24.0 | सूर्योदय कल 05:54 प्रात: | सूर्यास्त आज 07:00 सायं


संवारने की जरूरत इसलिए... दूसरे भवनों से कमतर न दिखे

वल्लभ भवन की पुरानी बिल्डिंग का रिनोवेशन इसलिए होना है ताकि यह नए भवनों के सामने कमतर नजर नहीं आए। इस भवन को बने करीब 62 साल हो चुके हैं। इतने सालों में भवन के भीतर कई बदलाव किए गए। अधिकारियों के हिसाब से केबिन बने। इस कारण कमरों और हॉल में भी एकरूपता नहीं रही। अधिकारियों के मुताबिक दूसरे प्रदेशों से आने वाले अधिकारियों के सामने भी प्रदेश की सकरात्मक छवि बनेगी। सीपीए के एसडीओ सीएस जायसवाल ने बताया कि वल्लभ भवन की पुरानी बिल्डिंग का रिनोवेशन होना है। इसके लिए 6 आर्किटेक्ट का चयन भी किया है। चयनित आर्किटेक्ट अपने प्लान का प्रजेंटेशन देंगे और इनमें से किसी एक आर्किटेक्ट के प्लान का चयन किया जाएगा।

मेट्रो : दिसंबर तक शुरू हो सकता है काम

इंफ्रास्ट्रक्चर रिपोर्टर| भोपाल

भोपाल मेट्रो के लिए ट्रैक बिछाने का काम दिसंबर तक शुरू हो सकता है। अगले महीने इसके लिए वर्क ऑर्डर जारी हो जाएगा। एम्स से सुभाष नगर रेलवे क्रासिंग तक 6.225 किमी के रेलवे ट्रैक के सिविल वर्क के लिए टेंडर की टेक्निकल बिड मंगलवार को ओपन हुई। अगले एक महीने में भदभदा से र|ागिरी तक प्रस्तावित दूसरे ट्रैक के लिए टेंडर जारी हो सकता है। मंगलवार को दोपहर 3:30 बजे के बाद मेट्रो रेल कंपनी के डायरेक्टर (टेक्निकल) जितेंद्र दुबे और जनरल कंसलटेंट कंपनी के अधिकारियों के साथ टेंडर में भाग लेने वाली कंपनियों के प्रतिनिधियों की मौजूदगी में बिड ओपन की गई। अभी फाइनेंशियल बिड ओपन करने की तारीख तय नहीं है, लेकिन उम्मीद की जा रही है कि अगस्त अंतिम सप्ताह तक फाइनेंशियल बिड ओपन होगी। फाइनेंशियल बिड सोमवार को शाम 6 बजे तक ऑनलाइन जमा की जा चुकी हैं।

टेंडर डालने वाली कंपनियों में भोपाल की दिलीप बिल्डकॉन भी शामिल

इन सात कंपनियों ने लिया टेंडर में भाग

सितंबर में वर्कऑर्डर जारी होते ही होगा भूमिपूजन

सितंबर में वर्क ऑर्डर जारी होते ही तुरंत भूमिपूजन की औपचारिकता पूरी की जाएगी। माना जा रहा है कि सितंबर के अंतिम सप्ताह या अक्टूबर के पहले सप्ताह में चुनाव आचार संहिता लागू हो सकती है। इसके पहले भूमिपूजन करके काम के शुरुआत की घोषणा हो जाएगी। वर्क ऑर्डर लेने वाली कंपनी दिसंबर तक धरातल पर काम शुरू कर पाएगी। इस बीच एलिवेटेड रूट के लिए ओवरब्रिज जैसे स्ट्रक्चर की ड्राइंग और डिजाइन तैयार करने के साथ अन्य तैयारी करना पड़ेगी, इसमें तीन महीने तक का समय लग सकता है। इसके साथ ही मेट्रो रेल कंपनी भदभदा से र|ागिरी तक प्रस्तावित मेट्रो की दूसरी लाइन के लिए भी टेंडर की तैयारी कर रही है। अभी रूट का सर्वे चल रहा है।

मेट्रो रूट के इस टेंडर में सात कंपनियों ने भाग लिया। इनमें आईएलएफएस मुंबई, एप्को गुड़गांव, इफकॉन इंडिया मुंबई, गावर कंस्ट्रक्शन गुड़गांव, आरडीएफ कोच्ची, एनसीसी मुंबई और दिलीप बिल्डकॉन भोपाल शामिल हैं।

खबरें और भी हैं...