पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मां का दूध बच्चे के लिए वरदान: डॉ. नरेंद्र

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लायनेस क्लब ने विश्व स्तनपान सप्ताह के तहत डॉ. श्याम अग्रवाल अस्पताल एंड रिसर्च सेंटर पर कार्यक्रम आयोजित किया। कार्यक्रम के दौरान बच्चों को कुपोषण के बचाने के उपाय बताए गए। बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. श्याम अग्रवाल ने कहा कि मां का दूध बच्चे का संपूर्ण आहार होता है। शिशु को जन्म के एक घंटे में स्तनपान कराया जाना चाहिए। यह अमृत समान है। डॉ. नरेंद्र पारीक ने कहा कि मां का दूध बच्चे के लिए वरदान है। उन्होंने कहा कि स्तनपान बच्चे की प्रतिरोधक क्षमता काे बढ़ाता है।

क्लब अध्यक्ष मधु खत्री ने बताया कि मां के दूध से शिशु को पर्याप्त मात्रा में सभी पौष्टिक तत्व मिल जाते है। सुहानी शर्मा ने कहा कि मां का पहला दूध बच्चे के लिए बेहद जरूरी होता है। पहले छह माह तक बच्चों को केवल मां का दूध ही दिया जाना चाहिए। मां का दूध बच्चे के विकास के लिए जरूरी होता है। क्लब की ओर से प्रसूताओं को ड्राई फ्रूट भी वितरित किए। इस मौके पर शीलू शर्मा, बीना राठौड़, सुषमा राय, वंदना शर्मा और नेहा शर्मा मौजूद रही। वहीं दूसरी ओर कोठारी अस्पताल में इनर व्हील क्लब के संयुक्त तत्वाधान में एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इस दौरान महिला प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ. चित्रा शर्मा ने कहा कि मां का पहला गाढ़ा दूध शिशु काे अवश्व पीलाना चाहिए, इससे बच्चे में रोग प्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न होती है। इसमें बच्चे को रोगों से बचाने के गुण पाए जाते है, जिससे शिशु के गुर्दे सही होते है। शिशु का मानसिक विकास होता है। उन्होंने बताया कि स्तनपान से शिशु के साथ माता को भी अनेक लाभ होते है। डॉ. खुशबू चौधरी ने स्तनपान कराने के तरीके भी बताए। इस दौरान रोटरी इनरव्हील क्लब की अध्यक्ष पुष्पा संघी, सचिव विनीता दुजारी, किरण आचार्य, लता मूंधड़ा, शारदा सोनी सहित कई पदाधिकारी मौजूद रहे।

सेमिनार में मां के दूध के फायदे बताते डॉ. श्याम अग्रवाल।

खबरें और भी हैं...