पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • 4 बीघा भूमि पर सफेद संगमरमर से तैयार हो रहा ऐसा मंदिर जहां दिखेगी शिव लीला

4 बीघा भूमि पर सफेद संगमरमर से तैयार हो रहा ऐसा मंदिर जहां दिखेगी शिव लीला

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पूगल रोड स्थित शिव शक्ति नगर में नवनिर्मित हीरेश्वर महादेव मंदिर में मूर्तियों की प्राण-प्रतिष्ठा 23 अगस्त को होगी। प्राण-प्रतिष्ठा महोत्सव 20 अगस्त से शुरू हो जाएगा। यह जानकारी प्रेसवार्ता में तुलसीदेवी गहलोत ने दी। उन्होंने बताया कि मंदिर चार बीघा भूमि पर बनाया गया है।

मंदिर परिसर में फुटपाथ भी बनाया जाएगा, जिस पर मंदिर में आने वाले दर्शनार्थी भ्रमण कर सकेंगे। इसके अलावा यज्ञ मंडप व बगीचा भी होगा। वे बताती हैं कि ये मंदिर वे अपने पति स्व. हीरालाल गहलोत की इच्छा के अनुरूप बनवाया है। उन्होंने इस मंदिर की नींव करीब 25 वर्ष पूर्व रखी थी। प्रेसवार्ता में विष्णु गहलोत ने बताया कि मंदिर में किसी भी प्रकार का दान, चंदा व चढ़ावा स्वीकार नहीं किया जाएगा। मंदिर का काम होने के बाद गहलोत परिवार भविष्य में शिक्षा व स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी काम करेगा। प्रतिष्ठा महोत्सव में हरिद्वार कनखल के महामंडलेश्वर प्रेमानंदजी, संवित् सोमगिरि महाराज व शिवसत्य नाथ महाराज शामिल होंगे।

पूगल रोड स्थित शिव शक्ति नगर में नवनिर्मित हीरेश्वर महादेव मंदिर

शिव के कलात्मक रूपों की मूर्तियां हैं यहां

मंदिर में भगवान शिव के विभिन्न रूपों की कलात्मक मूर्तियां लगाई गई है। इन मूर्तियों में डांडिया नृत्य, शोभायात्रा, रथयात्रा, नाग-नागिन, शिवजी का गंगा अवतरण, कैलाश पर्वत पर देव दर्शन, आदि के दृश्य देखे जा सकते हैं। निज मंदिर के चारों ओर तपस्वी ऋषियों को आशीर्वाद देते शिव के दर्शन, हलाहल विषपान, शिव के विवाह दर्शन के दृश्य नजर आते हैं।

22 अगस्त को आएंगे पूर्व सीएम अशोक

गहलोत व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष पायलट

आगामी 22 अगस्त को हीरेश्वर महादेव मंदिर में मूर्तियों की प्राण-प्रतिष्ठा समारोह में कई नेता शामिल होंगे। गोपाल गहलोत ने बताया कि समारोह में कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और पूर्व सीएम अशोक गहलोत, कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट, प्रतिपक्ष नेता रामेश्वर लाल डूडी, सांसद डॉ. कर्ण सिंह यादव, पूर्व मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला सहित अनेक नेता एवं समाज के लोग शामिल होंगे।

प्रतिष्ठा महोत्सव के आयोजन 20 से

20 अगस्त को सुबह साढ़े ग्यारह बजे प्रायश्चित कर्म, मंडप पूजन, जलाधिवास होगा। अगले दिन 21 अगस्त को देवार्चन यज्ञ आरंभ होगा। इसी तरह 22 अगस्त को दोपहर दो बजे ब्रह्म सागर महादेव मंदिर से कलश यात्रा निकाली जाएगी। 23 अगस्त को दोपहर तीन बजे नवनिर्मित मंदिर में मूर्तियों की प्राण-प्रतिष्ठा होगी।

मंदिर का निर्माण गहलोत परिवार ने करवाया है।

खबरें और भी हैं...