पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • आईजीएनपी की हिस्ट्री में 5वीं बार चार में एक ग्रुप में चलेगा पानी, 26 दिन बाद आएगी बारी

आईजीएनपी की हिस्ट्री में 5वीं बार चार में एक ग्रुप में चलेगा पानी, 26 दिन बाद आएगी बारी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मानसून के दिनों में ही पश्चिमी राजस्थान जल संकट का शिकार हो गया। इंदिरा गांधी नहर के इतिहास में पांचवीं बार ऐसा मौका आएगा, जब किसानों को चार में से एक समय में एक समूह पानी मिलेगा। इससे एक किसान को 26 दिन बाद पानी मिलेगा। मंगलवार को चंडीगढ़ में आयोजित भाखड़ा ब्यास मैनेजमेंट की बैठक में यह फैसला हुआ। इससे पहले 2002, 2004, 2009 और 2012 में चार समूह में पानी चलाया गया था। हालांकि बोर्ड ये पानी देने के लिए भी तैयार नहीं था, क्योंकि अभी डैम का जलस्तर करीब 1315 फीट है। इतने पानी से पश्चिमी राजस्थान के 11 जिलों की सिर्फ प्यास बुझाई जा सकती है। 10 अगस्त से नया वरीयता क्रम लागू होगा। अभी तीन समूह बनाकर एक समय में एक समूह को पानी दिया जा रहा है। तीन समूह में 17 दिन बाद किसानों को दुबारा पानी मिलता है, लेकिन चार समूह बनाकर एक समय में एक बारी में पानी चलाने पर 26 दिन बाद पानी मिलेगा। चार समूह में जब एक साथ दो ग्रुप में पानी चलता है ताे साढ़े सात दिन में एक बार किसानों को पानी मिलता है।

डैम के लिए आने वाले 15 दिन महत्वपूर्ण

हनुमानगढ़ जल संसाधन जोन की जल निर्धारण कमेटी की बैठक सोमवार को हुई। इसके तुरंत बाद जैसलमेर जोन की बैठक होती है, लेकिन मंगलवार को बीबीएमबी की बैठक हो गई और उसमें चार में एक ग्रुप में पानी चलाने का फैसला भी हो गया। अब जैसलमेर जोन की बैठक का कोई औचित्य नहीं रह गया। सिर्फ जनप्रतिनिधियों की समझाइश ही करनी है।

पानी कम है। पूरा साल पीने का पानी चलाना है। कैसे और कहां से पानी आएगा। इसलिए चार समूह में से एक समूह चलाने का निर्णय हुआ है। -केएल जाखड़, मुख्य अभियंता हनुमानगढ़ जोन

खबरें और भी हैं...