पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • वरीयता सूची में नाम, लेकिन शिक्षकों का स्थाईकरण नहीं

वरीयता सूची में नाम, लेकिन शिक्षकों का स्थाईकरण नहीं

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बूंदी. वर्ष 2015 की शिक्षक भर्ती (फर्स्ट लेवल) के रिवाइज रिजल्ट-2017 में जिन शिक्षकों का वेटिंग लिस्ट में वरीयता में नंबर आ गया था, उनमें से कई का अभी तक स्थाईकरण नहीं किया गया है। इनमें कई शिक्षक तो ऐसे हैं, जो मेरिट में हैं। ऐसे में इन शिक्षकों में गहरा रोष है। इनमें सबसे ज्यादा तालेड़ा ब्लॉक के करीब 19 शिक्षक हैं, केपाटन के करीब सात और नैनवां ब्लॉक से एक शिक्षक है।

डीईओ प्रारंभिक से जब इन शिक्षकों ने शिकायत की तो जवाब मिला उनकी तो जानकारी में ही नहीं है। जबकि जिला स्थापना समिति की बैठक में डीईईओ(वीआरएस ले चुके) ने जिला परिषद सीईओ और जिला प्रमुख से साफ कहा था कि एक भी अध्यापक स्थाईकरण से वंचित नहीं है। जिला परिषद सदस्य महेश दाधीच का कहना है कि डीईईओ ने जिला स्थापना समिति को स्पष्ट झूठ बोला। 40 के करीब शिक्षक ऐसे हैं जिनका स्थाईकरण नहीं किया गया।

वेतन-भत्तों में भी लाभ नहीं
वरीयता सूची में शामिल केपाटन ब्लॉक के शिक्षक अंकुरलाल मीणा, मनीष शर्मा, अंतिम कुमार जैन,दिव्या शर्मा, बत्तीलाल मीणा, सुरेशकुमार, धर्मेंद्र पंवार, रतन प्रभाकर, सुनीलकुमार, नैनवां ब्लॉक के आशीष ने रोष जताया।

शिक्षकों का स्थाईकरण क्यों नहीं हुआ, कोर्ट का मैटर है या अन्य कोई वजह। पूरे मामले की जानकारी लेने के बाद ही कुछ बता सकूंगा। -उदालाल मेघवाल, कार्यवाहक डीईओ प्रारंभिक, बूंदी

खबरें और भी हैं...