पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • 200 बसें और ऑटो ऐपे नहीं चले, शहर तक पैदल तो कोई तांगों पर सवार होकर पहुंचा

200 बसें और ऑटो-ऐपे नहीं चले, शहर तक पैदल तो कोई तांगों पर सवार होकर पहुंचा

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता | बुरहानपुर

बसों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल के साथ ऑटो-ऐपे के ड्राइवर भी समर्थन में आने से यात्री बेबस नजर आए। शहर में लालबाग से बुरहानपुर और बस स्टैंड से चलने वाले सभी वाहन बंद रहे। जब यात्रियों को कोई साधन नहीं मिला तो जिन तांगों को लोग पसंद नहीं करते थे वही उनके लिए सहारा बने। दर्जनों यात्री लालबाग से शहर तक तांगों में बैठकर पहुंचे। बस स्टैंड से पूरे जिले में चलने वाले ऑटो व ऐपे पूरी तरह बंद रहे और लालबाग से टेम्पो का संचालन भी नहीं हुआ। राहत वाली बात यह रही कि स्कूलों में बच्चों को लाने ले जाने वाले ऑटो हड़ताल में शामिल नहीं हुए।

बस स्टैंड पर मंगलवार सुबह से बसों का संचालन रुक गया। आसपास के ग्रामीण अंचलों से लोग सुबह बस स्टैंड पहुंचे तो पता चला हड़ताल है। हड़ताल सिर्फ शहरी क्षेत्र नहीं, बल्कि शहर से बाहर जाने वाले वाहनों की भी थी। सुबह 5.30 बजे इंदौर जाने वाले यात्री भी बसों के लिए पहुंचे, सुबह 7 बजे तक बसों का इंतजार करते रहे लेकिन कोई भी बस नहीं आई। इसके बाद यात्री घरों को लोटे। महाराष्ट्र परिवहन निगम की बसांे को भी बस स्टैंड पर आने नहीं दिया गया। बसे सड़क पर खड़ी हुई और वहीं से यात्रियों को बैठाकर ले गई। शनवारा पर ऑटो और ऐपे ड्राइवरों वाहनों से जबरदस्ती सवारी उतरवाई। इस बीच विवाद की स्थिति भी बनी।

हड़ताल के कारण तांगों में भी जगह नहीं मिली।

इसलिए हो रहा नए कानून का विरोध | सारथी चालक परिचालक मजदूर यूनियन अध्यक्ष मिलिंद चौधरी ने बताया नए कानून के लागू होने के बाद कंडक्टर श्रेणी समाप्त हो जाएग। जितने भी चालकों के पास लाइसेंस है वह सरकार वापस ले लेगी। फिर उन्हें एक कम्प्यूटर टेस्ट देना होगा, जो भी कम्प्यूटर टेस्ट में पास होंगे उन्हें ही फिर लाइसेंस मिलेंगे। यह काम भी प्राइवेट एजेंसी से करवाया जाएगा। नए ड्राइविंग लाइसेंस में एक चिप लगी होगी, इसमें रांग साइड, सिग्नल तोड़ने, ओवर स्पीड जैसी मामूली चूक या गलती भी अंकित हो जाएगी। दुर्घटना होने पर 500 से 25000 रुपए जुर्माने व 6 माह जेल की सजा का प्रावधान है।

तांगेवालों ने एक सवारी से वसूले 15 से 25 रुपए

बस स्टैंड और टेम्पो स्टैंड पर वाहन नहीं मिले तो लोगों ने तांगों का सहारा लिया। तांगों से 15 से 25 रुपए प्रति सवारी से लाेगों को लालबाग तक छोड़ा। शहर में हड़ताल की जानकारी मिलने पर शहर के तांगे भी शहर से लालबाग की ओर चलने लगे। 25 से ज्यादा तांगे दिनभर इसी रूट पर चलते रहे। एक तांगे में 6 से 8 सवारियां बैठकर तांगे चल रहे थे।

खबरें और भी हैं...