पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • फेसबुक आपके इनबॉक्स से अपना जवाबी ईमेल डिलीट कर देता है

फेसबुक आपके इनबॉक्स से अपना जवाबी ईमेल डिलीट कर देता है

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
फेसबुक पर हुई परेशानी की शिकायत के लिए लोग अक्सर इसके एक्जीक्यूटिव्स को ईमेल भेजते हैं। कंपनी के एक्जीक्यूटिव ईमेल का जवाब भी देते हैं, लेकिन संभव है कि कुछ दिनों बाद यह जवाबी ईमेल आपके इनबॉक्स में न दिखे। दरअसल, मार्क जकरबर्ग की कंपनी ने ऐसा गोपनीय टूल विकसित कर रखा है जो ईमेल पाने वाले के मेलबॉक्स से जवाबी ईमेल को डिलीट कर देता है। दूसरे शब्दों में कहें तो जकरबर्ग के पास तो आपके भेजे ईमेल या मैसेंजर की कॉपी हमेशा रहेगी, लेकिन उनके जवाब का आपके पास कोई रिकॉर्ड नहीं होगा।

टेक्नोलॉजी वेबसाइट ‘टेकक्रंच’ ने इस गोपनीय टूल का पता लगाया है। वेबसाइट के खुलासे के बाद फेसबुक ने इस बात को स्वीकार किया है। लेकिन इसके लिए इसने सोनी का हवाला दिया है। 2014 में सोनी पिक्चर्स की वेबसाइट हैक कर कंपनी के एक्जीक्यूटिव्स की ईमेल हिस्ट्री निकाल ली गई थी। इससे कुछ गोपनीय जानकारियां सार्वजनिक हो गई थीं। विवादों के बाद अंतत: सोनी की को-चेयर एमी पास्कल को इस्तीफा देना पड़ा था।

फेसबुक का कहना है कि इसी के बाद हमने अपने एक्जीक्यूटिव्स के कम्युनिकेशन को सुरक्षित करने के लिए कई बदलाव किए हैं। इसी के तहत फेसबुक मैसेंजर में जकरबर्ग के मेसेज को रखने की समय सीमा तय कर दी गई है। फेसबुक का कहना है कि उसने ऐसा कानूनी दायरे के भीतर किया है, लेकिन पहले इसकी सूचना नहीं देने के कारण काफी यूजर्स ने नाराजगी दिखाई है।

फेसबुक ने स्वीकार किया है कि इसने यूरोपियन यूनियन के 27 लाख लोगों का व्यक्तिगत डेटा थर्ड पार्टी के साथ शेयर किया है। कैंब्रिज एनालिटिका डेटा लीक मामला सामने आने के बाद ईयू ने पिछले हफ्ते कंपनी से इस बारे में जानकारी मांगी थी। ईयू के अधिकारी अगले हफ्ते फेसबुक सीओओ शेरिल सैंडबर्ग से बात करेंगे और पूछेंगे कि डेटा लीक रोकने के लिए कंपनी क्या कर रही है।

इस बीच इंडोनेशिया ने भी सोशल वेबसाइट के खिलाफ जांच शुरू कर दी है। यहां के 10 लाख नागरिकों का डेटा इसने कैंब्रिज एनालिटिका को दिया था। दोषी पाए जाने पर इंडोनेशिया में फेसबुक के अधिकारी को 12 साल तक जेल और 5.6 करोड़ जुर्माना लगाया जा सकता है। एक दिन पहले फेसबुक ने दुनियाभर में 8.7 करोड़ यूजर का डेटा लीक होने की बात मानी थी। इनमें भारत के 5.6 लाख हैं।

बात सामने आई तो सीओओ ने यूजर्स से माफी मांगी
यूजर के इनबॉक्स में छेड़खानी की खबर सामने आने के बाद सीओओ शेरिल सैंडबर्ग ने माफी भी मांगी। एक बयान में उन्होंने कहा, ‘कंपनी में हमें कई ऑपरेशनल चीजें बदलनी पड़ती हैं। हमने गलतियां की हैं और मैं उनकी जिम्मेदारी लेती हूं। हमें अपनी गलतियों से सीख लेकर उन्हें सुधारना है।’ हफ्ते भर पहले संस्थापक-सीईओ मार्क जकरबर्ग ने कैंब्रिज एनालिटिका डेटा लीक पर माफी मांगते हुए कहा था, ‘यह मेरी जिम्मेदारी है। मैंने कंपनी शुरू की थी। मैं इसे चलाता हूं। यहां जो कुछ होता है उसके लिए मैं ही जिम्मेदार हूं।’

मैसेंजर पर भेजे मैसेज और फोटो को भी स्कैन करता है फेसबुक
सीओओ शेरिल सैंडबर्ग ने यह भी माना कि फेसबुक ने ऐसा फीचर डेवलप कर रखा है जिससे यूजर को नाम या ईमेल से पहचाना जा सकता है। कंपनी ने इसकी डायरेक्टरी भी बनाई, जो उसे नहीं करना चाहिए था। हालांकि यह सब जानकारियां ऐसी थीं, जो पहले से सार्वजनिक थीं। इस बीच एक अन्य खबर के मुताबिक फेसबुक ने माना है कि इसके यूजर मैसेंजर पर जो मेसेज, फोटो या लिंक भेजते हैं, उन्हें यह स्कैन करता है। हालांकि इसने वॉयस या वीडियो कॉल सुनने की बात से इनकार किया है।

खबरें और भी हैं...