--Advertisement--

माइनिंग ऑफिसर बोलीं-जीएम ने दी गालियां, बना रहे हैं प्रेशर

मनोज जोशी| मोहाली manoj.joshi@dbcorp.in लेडी सिंघम के नाम से माइनिंग माफिया में खौफ पैदा करने वाली माइनिंग ऑफिसर सिमरप्रीत...

Danik Bhaskar | Jun 03, 2018, 02:00 AM IST
मनोज जोशी| मोहाली manoj.joshi@dbcorp.in

लेडी सिंघम के नाम से माइनिंग माफिया में खौफ पैदा करने वाली माइनिंग ऑफिसर सिमरप्रीत कौर ढिल्लों अपने बॉस जीएम माइनिंग टहल सिंह सेखों के व्यवहार से आहत हैं। उन्हाेंने सेखों के खिलाफ एसएसपी को शिकायत दी है कि उन्होंने ऑफिस में उन्हें एब्यूसिव लैंग्वेज में बात कर अपमानित किया। एसएसपी के निर्देश पर फेज-1 पुलिस ने जांच शुरू कर ब्यान दर्ज करने की कार्रवाई शुरू कर दी है। हालांकि शिकायत के 9 दिन बाद भी एफआईआर दर्ज नहीं की गई। वहीं एक अन्य मामले में डीसी गुरप्रीत कौर सपरा की ओर से जीएम टहल सिंह सेखों के खिलाफ कार्रवाई के लिए डायरेक्टर माइनिंग को एक महीना पहले लिखे लेटर पर भी अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई।

माइनिंग ऑफिसर, क्लर्क और सिक्योरिटी गार्ड से दुर्व्यवहार: माइनिंग आॅफिसर सिमरप्रीत कौर ढिल्लों ने 25 मई को एसएसपी को दी शिकायत में बताया कि जब वो अपने ऑफिस में काम कर रही थीं तो जीएम टहल सिंह सेखों उनके कमरे में आए और उन्हें गालियां देते हुए एक फाइल मांगी। इसके अलावा उन्होंने ऑफिस की महिला क्लर्क और महिला सिक्योरिटी गार्ड को भी गालियां दीं। सेखों सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों पर डेराबस्सी में बंद की गई तीन माइनिंग साइट्स की रिपोर्ट मांग रहे थे। रिपोर्ट न देने पर गाली-गलौज किया गया। तीनों महिलाओं से जीएम के इस दुर्व्यवहार से आहत होकर उन्होंने सेखों के खिलाफ एसएसपी को शिकायत दी।



सिमरप्रीत कौर ढिल्लों ने बताया कि उन्हें लंबे समय से परेशान किया जा रहा है। उनका सारा रिकॉर्ड कब्जे में ले लिया गया है। कोई कागज नहीं दिए जाते। उन्हें परेशान करने के लिए जीएम ने खुद उनके दफ्तर में लगे एसी की लाइट काटकर उसे बंद कर दिया। सरकार की ओर से उन्हें दी गई गाड़ी छीनकर डेराबस्सी के बीएलईओ को भेज दी गई। हद उस समय हो गई, जब उन्हें मानसिक रूप से परेशान करने के लिए जीएम ने उनके कमरे में आकर उन्हें और उनकी साथी महिला कर्मचारियों को गालियां दीं।


4 मई को छपी थी खबर।