--Advertisement--

किसानों की हड़ताल से दूध, फल, सब्जियों की सप्लाई बंद

डेराबस्सी। किसानों की हड़ताल के तीसरे दिन आम जनजीवन पर भी व्यापक असर पड़ने लगा है। डेराबस्सी व लालडू में किसानों के...

Danik Bhaskar | Jun 04, 2018, 02:00 AM IST
डेराबस्सी। किसानों की हड़ताल के तीसरे दिन आम जनजीवन पर भी व्यापक असर पड़ने लगा है। डेराबस्सी व लालडू में किसानों के विरोध के चलते सब्जियों व फलों के साथ दूध की सप्लाई रविवार को लगभग पूरी तरह ठप रही। इतना ही नहीं, किसान नेताओं ने पैकेट बंद दूध वाली एजेंसियों के दूध सप्लाई पर भी रोक लगा दी।

दोधियों का दूध फेंकने और सप्लाई रोकने के विरोध में सैंकड़ों मिल्कमैन इकट्ठा हुए और किसान नेताओं की धक्केशाही करार दिया। दूसरी ओर, सब्जी मंडी व फल मार्किट समेत रेहड़ी फड़ी तक बंद कराने से इनके विक्रेताओं के बीच भी रोष पाया जा रहा है। सप्लाई बंद होने का असर आम आदमी के घर परिवार तक पहुंच चुका है। उनका कहना है कि उनकी रसोई में फल सब्जियों के बाद अब दूध भी गायब हो गया है और खाने की थाली में केवल दाल ही रह गई है। पुलिस इस मामले में मूकदर्शक बनी हुई है। उनका कहना है कि लड़ाई सरकार से है। इसमें आम लोगों को परेशान करने से किसान देरसवेर उनकी हमदर्दी व समर्थन की वजह विरोध को न्योता दे रहे हैं। किसान यूनियन लक्खोवाल, सिद्धुपुर व राजोवाल के नेता व वर्कर्स सुबह शाम सब्जी, फल व दूध की दुकानें बंद कराते दिखे।

वहीं कई दोधियों का दूध फेंकने से दोधियों व किसानों में तनाव बढ़ गया। पेरीफेरी मिल्कमैन यूनियन चंडीगढ़ मोहाली के प्रधान बरखाराम मुकंदपुर, उपप्रधान प्रदीप सिंह व सचिव सुरेश कुमार की अगुवाई में सौ से अधिक दोधी पहले रामलीला मैदान व बाद में म्युनिसिपल लाइब्रेरी परिसर में जमा हुए। हालांकि वहां किसान नेता भी आए और सहयोग की अपील की परंतु दोधियों ने कहा कि जबरन दूध फेंकना व सप्लाई रोकना बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। वे भी मेहनतकश गरीब लोग हैं।