• Home
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Dera Bassi
  • डेराबस्सी में 10 हजार पौधे लगाने की मुहिम, प्लास्टिक पर बैन का खुद किया उल्लंघन
--Advertisement--

डेराबस्सी में 10 हजार पौधे लगाने की मुहिम, प्लास्टिक पर बैन का खुद किया उल्लंघन

डेराबस्सी नगर परिषद द्वारा ग्रीन प्रोजेक्ट के तहत 10 हजार छायादार वृक्षों के पौधे लगाने की मुहिम वीरवार शाम हाईवे...

Danik Bhaskar | Jun 08, 2018, 02:00 AM IST
डेराबस्सी नगर परिषद द्वारा ग्रीन प्रोजेक्ट के तहत 10 हजार छायादार वृक्षों के पौधे लगाने की मुहिम वीरवार शाम हाईवे के साथ सरकारी स्कूल के पास विधायक एनके शर्मा की अगुअाई में शुरू की गई। 20 लाख रुपए के इस प्रोजेक्ट की अहम बात यह है कि सभी पौधे छह फीट लंबे हैं, जिन्हें एक महीने के भीतर परिषद के सभी 19 वार्डों में लगाया जा रहा है। इतना ही नहीं, इनकी संभाल का जिम्मा परिषद समेत समाज सेवी संस्थाओं को सौंपा गया है, जिन्हें पौधे के सुरक्षा कवच के रूप में लोहे के ट्री-गार्ड परिषद मुहैया करा रही है।

इससे पहले नगर परिषद के कार्यकारी प्रधान मुकेश गांधी की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में भी एमएलए एनके शर्मा विशेष तौर पर पहुंचे। एनके शर्मा ने बताया कि शहर कई हिस्सों में पानी की किल्लत दूर करने के लिए पांच नए नलकूप लगाने का प्रस्ताव पास किया गया है। ये ट्यूबवेल वार्ड नंबर तीन, चार, पांच, सात व ग्यारह नंबर वार्ड में लगाए जाएंगे। शर्मा ने बताया कि नगर परिषद में इस समय वाॅटर सप्लाई के 10 हजार और सीवरेज के 6 हजार कनेक्शन चल रहे हैं, जबकि तीन साल पहले शामिल किए गए 15 गांवों में चल रहे उक्त कनेक्शन रेगुलराइज नहीं कराए गए हैं। इससे जहां वित्तीय नुकसान हो रहा है, वहीं पानी का दुरुपयोग भी हो रहा है। रिकवरी दुरुस्त कर दुरुपयोग रोकने के लिए यह काम प्राइवेट हाथों में दिया जा सकता है। इसके लिए एक प्राइवेट एजेंसी को सर्वे का जिम्मा सौंपा गया है। इसके अलावा घरों या कमर्शियल प्रतिष्ठानों में ओवरहेड वाटर टैंक व नलों के ओवरफ्लो पाए जाने पर उनके कनेक्शन काटने की तैयारी की जा रही है।

जीरकपुर में बहुमंजिला इमारत गिरने का खौफ डेराबस्सी में: जीरकपुर में बीते दिनों नियमों को ताक पर रख बनाई जा रही एक बहुमंजिला इमारत गिरने से परिषद के अफसर ही नहीं, पार्षद भी खौफजदा हैं। इस केस में न केवल चार नगर परिषद अफसर सस्पेंड कर दिए गए हैं बल्कि कोर्ट में नगर प्रशासन समेत हाउस के प्रतिनिधियों को भी कटघरे में खड़ा किया जा रहा है। नगर प्रधान मुकेश गांधी के अनुसार इसी के चलते नगर परिषद के तहत भी नियमों की अनुपालना कड़ी कर दी गई है। जहां बहुमंजिला इमारतों के नक्शों, तकनीक व अप्रूवल की जांच की जा रही है, वहीं फ्लोरवाइज मकान भी बिना नियम पूरे किए न बनाए जा सकेंगे, न बेचें। जीरकपुर जैसे हादसों से बचने के लिए परिषद अपनी अगली मीटिंग में नियमों उल्लंघनकर्ताओं के खिलाफ प्रस्ताव पास करेगी। मुकेश गांधी ने बताया कि परिषद में अनधिकृत काॅलोनियों में मकानों के नक्शे नियम पूरे न होने तक पास न करने को भी टेबल एजेंडे में पास किया गया है।


डेराबस्सी नगर परिषद में प्लास्टिक पर रोक लगाने की मुहिम छेड़ी गई है। इस मुहिम को लागू करने वाले पार्षद व अफसरों की मीटिंग में बैन का उल्लंघन हो रहा है। एमएलए एनके शर्मा, प्रधान, पार्षदों व अफसरों की बैठक में सभी को फ्रूट-शेक सरेआम प्लास्टिक के गिलासों में वितरित किया गया। मजेदार बात है कि बैठक में स्ट्राॅ से शेक का लुत्फ लेते हुए इस मुहिम पर चर्चा होती रही, परंतु प्लॉस्टिक इस्तेमाल पर किसी का ध्यान नहीं गया। प्रधान मुकेश गांधी ने कहा कि प्लास्टिक भी बैन के दायरे में है, परंतु अभी ज्यादा फोकस पॉलीथीन पर है। वे यकीनी बनाएंगे कि आइंदा परिषद कार्यालय में प्लास्टिक और पॉलीथीन का इस्तेमाल न हो पाए। उन्होंने बताया कि अब तक 60 किलो पॉलीथीन लिफाफे जब्त किए गए हैं, परंतु उन्हें डंप करने की भी समस्या आ रही है।