Hindi News »Chandigarh Zilla »Mohali »Dera Bassi» प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड पर लगे मिलीभगत के आरोप

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड पर लगे मिलीभगत के आरोप

पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के नियमों की सरेआम धज्जियां उड़ाकर सैदपुरा में खतरनाक केमिकल वेस्ट के खाली ड्रमों का...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 17, 2018, 02:00 AM IST

पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के नियमों की सरेआम धज्जियां उड़ाकर सैदपुरा में खतरनाक केमिकल वेस्ट के खाली ड्रमों का कारोबार किया जा रहा है। पर्यावरण समेत लोगों की सेहत से खिलवाड़ कर इस अवैध गोरखधंधे से सरेआम मुनाफा बटोरा जा रहा है। सॉलिड व लिक्विड खतरनाक वेस्ट के अवशेष वाले इन ड्रमों की न केवल खरीदफरोख्त, सप्लाई व धुलाई हो रही है, बल्कि गांव की आबादी के करीब खुलेआम इस व्यापार को चलाया जा रहा है। लोगों का आरोप है कि सालभर से जारी यह धंधा बोर्ड अधिकारियों की मिलीभगत से चल रहा है।

हैबतपुर रोड पर सैदपुरा की आबादी व जोहड़ के समीप राजस्थान ट्रेडर्स और जयश्री राम एंटरप्राइजेज बाकायदा बोर्ड लगाकर यह कारोबार कर रही हैं। बाकायदा बिलों से ड्रमों की खरीदफरोख्त हो रही है, जिन पर जीएसटी भी काटा जा रहा है। राजस्थान ट्रेडर्स के मालिक दयाचंद और जयश्री राम एंटरप्राइजेज के मालिक अनिल कुमार यहां संयुक्त रुप से किराए पर छोटी सी इमारत लेकर धंधा कर रहे हैं। ये लोग स्थानीय इंडस्ट्री समेत कबाड़ियों से लोहे व प्लास्टिक वाले ड्रम खरीद रहे हैं, जिन्हें काटकर आगे दूसरी श्रेणी का माल तैयार करने के लिए बेचा जाता है।

खुलेआम हो रही ड्रमों की स्टोरेज, धुलाई व कटाई : रेड कैटेगरी श्रेणी के तहत खतरनाक रसायनों के अवशेष वाले इन ड्रमों की बिना परमिशन खरीदफरोख्त, कटाई सप्लाई व धुलाई नहीं की जा सकती है, परंतु मौके का दौरा करने पर सबकुछ चालू था। खुले गोदाम में सैकड़ों की संख्या में कटे हुए व सबूत ड्रम स्टोर मिले हैं। वहां जमीन पर बिखरे रसायनों से असहनीय बदबू, आंखों में जलन व सांस में तकलीफ होने लगी हैं। मौके पर एक केमिकल युक्त टंकी में ड्रमों की धुलाई भी हो रही थी, जिसका पानी खुली नाली में खेतों में छोड़ा जा रहा है। इतना ही नहीं, गोदाम के पास प्रदूषण वाले माहौल में तीन से चार परिवार भी रह रहे हैं। पूछने पर अनिल कुमार ने पहले कहा कि उन्हें परमिशन के बारे में नहीं पता। फिर कहा कि उसकी औपचारिकताएं इतनी ज्यादा हैं। परमिशन संबंधी नियम गिनाने पर वे बैठकर बातचीत करने के लिए मनाने लगे, ताकि खबर रोकी जा सके।

ये हैं खरीदफरोख्त, सप्लाई, धुलाई की परमिशन युक्त नियम : इसके लिए लाइसेंस एक साल के लिए पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा तय शर्तें पूरी करने पर मिलता है। बोर्ड से इसके लिए पानी ऑपरेट करने की कंसेंट, हवा के बारे में कंसेंट अनिवार्य है। बोर्ड से हैजर्डस एवं अदर वेस्ट की मैनेजमेंट एवं मूवमेंट के लिए रुल्स, 2016 के नियम 6 के तहत सहमति लेनी पड़ती है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dera bassi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×