• Home
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Dera Bassi
  • मुल्लांपुर, जीरकपुर, डेराबस्सी में नहीं रुकी माइनिंग, रात को निकाली जा रही है रेत
--Advertisement--

मुल्लांपुर, जीरकपुर, डेराबस्सी में नहीं रुकी माइनिंग, रात को निकाली जा रही है रेत

मनोज जोशी, मोहाली |अवैध माइनिंग को लेकर भले ही सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बड़े दावे किए, लेकिन माइनिंग माफिया कुछ...

Danik Bhaskar | Jun 22, 2018, 02:00 AM IST
मनोज जोशी, मोहाली |अवैध माइनिंग को लेकर भले ही सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बड़े दावे किए, लेकिन माइनिंग माफिया कुछ दिन की सख्ती के बाद फिर सक्रिय हुआ है। आलम यह है कि माइनिंग माफिया को मोहाली जिले में माइनिंग कंट्रोल करने वाले जीएम ऑफिस का कोई खौफ नहीं है, जिस कारण रात के समय धड़ल्ले से माइनिंग हो रही है। रात को हुई माइनिंग के निशान दिन में साफ दिखाई देते हैं। रात को चले टिपरों के टायरों के निशानों से साफ है कि कैसे रात को अवैध माइनिंग का धंधा चलता है। दिन में टिपर व मशीनें खेतों में छिपाकर रखदी जाती हैं। जिस एरिया में मशीनों की परमिशन नहीं, वहां भी मशीनें काम कर रही हैं।


जीरकपुर


एसडीएम ने एसएचओ को साथ लेकर दिन में हाे रही अवैध माइनिंग पकड़ी

ब्लाॅक माजरी के गांवों में खुलेआम चल रही अवैध माइनिंग को देखकर एसडीएम और अधिकारी हुए हैरान

मुबारिकपुर


अजय कौशल | कुराली

ब्लाॅक माजरी के तहत आते गांवों में एसडीएम अमनिंदर कौर बराड़ के नेतृत्व में प्रशासन की टीम ने वीरवार को खिजराबाद, शेखपुरा और सियामीपुर में खनन वाले क्षेत्रों का दौरा किया। इस दौरान पाबंदी के बावजूद हो रही रेत, बजरी की माइनिंग को देखकर एसडीएम हैरान रह गई और उन्होंने ब्लाॅक माइनिंग अफसर की खिंचाई की। शेखपुरा में एक टिपर और एक पोकलेन मशीन खनन करके टिपरों को भर रही थी। अधिकारियों ने एक पोकलेन मशीन और एक टिपर को कब्जे में लेकर कुराली पुलिस के हवाले कर दिया। एसडीएम ने खिजराबाद और सियामीपुर की नदी में चल रहे खनन की जांच भी की। सियामीपुर की नदी में दो ट्रैक्टर-ट्राॅलियां काबू की गई। वाहन चालक मौके से फरार हो गए। एसडीएम अमनिंदर कौर बराड़ ने बताया कि खरड़ सब-डिवीजन में माइनिंग बंद है और सरकार की हिदायतों के अनुसार इस क्षेत्र के सभी 11 क्रशर सील किए हुए हैं। इसके बावजूद क्षेत्र में माइनिंग की शिकायतंे मिल रही हैं। इस कार्रवाई की रिपोर्ट डिप्टी कमिश्नर को भेजेंगे। माइनिंग अफसर उरग सिंह ने बताया कि उन्होंने ब्लाॅक के अतिरिक्त नूरपुरबेदी का भी दौरा किया। दोनों तरफ ड्यूटी होने के कारण वे बेबस हैं। उन्होंने माना कि छापेमारी वाले गांवो में अवैध माइनिंग हो रही थी। उन्होंने कहा कि चाहे कुछ जमीन मालिकों द्वारा जमीन समतल करने की आज्ञा ली हुई है, लेकिन जो माइनिंग हो रही है वोे अवैध है। इस अवसर पर नायब तहसीलदार माजरी राजेश नहरा, गुरप्रीत सिंह, कुलविन्द्र सिंह, प्यारा सिंह, संजीव कुमार, थाना माजरी केएसएचओ जगदीप सिंह, एएसआई दलविन्द्र सिंह व अन्य मौजूद थे।

जीएम माइनिंग टहल सिंह सेखों का कहना है कि जहां से भी अवैध माइनिंग की शिकायत आती है, वहां के बीएलईओ से रिपोर्ट मांगी जाती है। डेराबस्सी एरिया में भी रिपोर्ट मांगी गई है। जीरकपुर के रामपुरकलां में भारी मशीनरी की परमिशन दी गई है। अगर कहीं नियमों का पालन नहीं हो रहा है तो उसे देखा जाएगा।

मुल्लांपुर