Hindi News »Chandigarh Zilla »Mohali »Dera Bassi» मुल्लांपुर, जीरकपुर, डेराबस्सी में नहीं रुकी माइनिंग, रात को निकाली जा रही है रेत

मुल्लांपुर, जीरकपुर, डेराबस्सी में नहीं रुकी माइनिंग, रात को निकाली जा रही है रेत

मनोज जोशी, मोहाली |अवैध माइनिंग को लेकर भले ही सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बड़े दावे किए, लेकिन माइनिंग माफिया कुछ...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 22, 2018, 02:00 AM IST

  • मुल्लांपुर, जीरकपुर, डेराबस्सी में नहीं रुकी माइनिंग, रात को निकाली जा रही है रेत
    +3और स्लाइड देखें
    मनोज जोशी, मोहाली |अवैध माइनिंग को लेकर भले ही सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बड़े दावे किए, लेकिन माइनिंग माफिया कुछ दिन की सख्ती के बाद फिर सक्रिय हुआ है। आलम यह है कि माइनिंग माफिया को मोहाली जिले में माइनिंग कंट्रोल करने वाले जीएम ऑफिस का कोई खौफ नहीं है, जिस कारण रात के समय धड़ल्ले से माइनिंग हो रही है। रात को हुई माइनिंग के निशान दिन में साफ दिखाई देते हैं। रात को चले टिपरों के टायरों के निशानों से साफ है कि कैसे रात को अवैध माइनिंग का धंधा चलता है। दिन में टिपर व मशीनें खेतों में छिपाकर रखदी जाती हैं। जिस एरिया में मशीनों की परमिशन नहीं, वहां भी मशीनें काम कर रही हैं।

    सीएम की सख्ती के बाद कुछ देर काम रुका, अब फिर शुरू हुई रेत की अवैध माइनिंग

    जीरकपुर

    पानी से रेत निकालने से डाउन हो रहा है वाॅटर लेवल...जीरकपुर के रामपुरकलां में सरकार की ओर से आॅक्शन पर माइन दी गई है, लेकिन यहां गहरी खुदाई की हुई है। खुदाई के लिए भारी भरकम मशीनें इस्तेमाल की जा रही हैं। यहां पानी में से रेत निकालने से गांवों में लोगों के ट्यूबवेल्स का वॉटर लेवल गिर रहा है। गांव के लोगों के अनुसार इसके अनुसार कई बार शिकायतें की गईं, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है। गांव के लोगों के अनुसार रात के समय गाड़ियों का काफिला चलता है और मशीनें शाम से ही काम में जुट जाती हैं।

    एसडीएम ने एसएचओ को साथ लेकर दिन में हाे रही अवैध माइनिंग पकड़ी

    ब्लाॅक माजरी के गांवों में खुलेआम चल रही अवैध माइनिंग को देखकर एसडीएम और अधिकारी हुए हैरान

    मुबारिकपुर

    दिन में खेतों में छिपाकर रख देते हैं जेसीबी मशीनें...विजिलेंस जांच के बाद कुछ समय मुबारिकपुर एरिया में माइनिंग माफिया पर लगाम लगी रही, लेकिन अब फिर धीरे-धीरे अवैध माइनिंग का धंधा शुरू हो रहा है। इस एरिया में भी रात को दोबारा माइनिंग शुरू हुई है। जिस जगह से माइनिंग की जाती है, उस एरिया में टिपरों व जेसीबी मशीन की खुदाई के निशान दिखाई देते हैं। यहां मशीनों को खेतों में पेड़ों की आड़ में छिपाकर रखा गया है। जहां विजिलेंस टीम ने जांच की थी, उसी एरिया में अब रात को अवैध माइनिंग का काम शुरू हुआ है।

    अजय कौशल | कुराली

    ब्लाॅक माजरी के तहत आते गांवों में एसडीएम अमनिंदर कौर बराड़ के नेतृत्व में प्रशासन की टीम ने वीरवार को खिजराबाद, शेखपुरा और सियामीपुर में खनन वाले क्षेत्रों का दौरा किया। इस दौरान पाबंदी के बावजूद हो रही रेत, बजरी की माइनिंग को देखकर एसडीएम हैरान रह गई और उन्होंने ब्लाॅक माइनिंग अफसर की खिंचाई की। शेखपुरा में एक टिपर और एक पोकलेन मशीन खनन करके टिपरों को भर रही थी। अधिकारियों ने एक पोकलेन मशीन और एक टिपर को कब्जे में लेकर कुराली पुलिस के हवाले कर दिया। एसडीएम ने खिजराबाद और सियामीपुर की नदी में चल रहे खनन की जांच भी की। सियामीपुर की नदी में दो ट्रैक्टर-ट्राॅलियां काबू की गई। वाहन चालक मौके से फरार हो गए। एसडीएम अमनिंदर कौर बराड़ ने बताया कि खरड़ सब-डिवीजन में माइनिंग बंद है और सरकार की हिदायतों के अनुसार इस क्षेत्र के सभी 11 क्रशर सील किए हुए हैं। इसके बावजूद क्षेत्र में माइनिंग की शिकायतंे मिल रही हैं। इस कार्रवाई की रिपोर्ट डिप्टी कमिश्नर को भेजेंगे। माइनिंग अफसर उरग सिंह ने बताया कि उन्होंने ब्लाॅक के अतिरिक्त नूरपुरबेदी का भी दौरा किया। दोनों तरफ ड्यूटी होने के कारण वे बेबस हैं। उन्होंने माना कि छापेमारी वाले गांवो में अवैध माइनिंग हो रही थी। उन्होंने कहा कि चाहे कुछ जमीन मालिकों द्वारा जमीन समतल करने की आज्ञा ली हुई है, लेकिन जो माइनिंग हो रही है वोे अवैध है। इस अवसर पर नायब तहसीलदार माजरी राजेश नहरा, गुरप्रीत सिंह, कुलविन्द्र सिंह, प्यारा सिंह, संजीव कुमार, थाना माजरी केएसएचओ जगदीप सिंह, एएसआई दलविन्द्र सिंह व अन्य मौजूद थे।

    जीएम माइनिंग टहल सिंह सेखों का कहना है कि जहां से भी अवैध माइनिंग की शिकायत आती है, वहां के बीएलईओ से रिपोर्ट मांगी जाती है। डेराबस्सी एरिया में भी रिपोर्ट मांगी गई है। जीरकपुर के रामपुरकलां में भारी मशीनरी की परमिशन दी गई है। अगर कहीं नियमों का पालन नहीं हो रहा है तो उसे देखा जाएगा।

    मुल्लांपुर

    बिना परमिशन जारी है अवैध माइनिंग...मुल्लांपुर के स्यूंक एरिया में अवैध माइनिंग को रोकने में भले ही फॉरेस्ट के ब्लॉक अफसर पर हमला हो चुका है, लेकिन उसके बाद क्षेत्र के विधायक कंवर संधू ने कई जगह अवैध माइनिंग के बारे में जानकारी दी है। इसी प्रकार ब्लॉक माजरी में कहीं भी लीगल माइनिंग की परमिशन नहीं है। उसके बावजूद लोग खिजराबाद, मियांपुर चग्गर, शमीपुर टप्परियां, सलेमपुर, अभीपुर एरिया में माइनिंग का काम अवैध रूप से कर रहे हैं। यहां माइनिंग के निशान साफ नजर आते हैं।

  • मुल्लांपुर, जीरकपुर, डेराबस्सी में नहीं रुकी माइनिंग, रात को निकाली जा रही है रेत
    +3और स्लाइड देखें
  • मुल्लांपुर, जीरकपुर, डेराबस्सी में नहीं रुकी माइनिंग, रात को निकाली जा रही है रेत
    +3और स्लाइड देखें
  • मुल्लांपुर, जीरकपुर, डेराबस्सी में नहीं रुकी माइनिंग, रात को निकाली जा रही है रेत
    +3और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dera bassi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×